Home पड़ताल दमित इतिहासबोध भी है भाजपा के जीत के पीछे

दमित इतिहासबोध भी है भाजपा के जीत के पीछे

SHARE
जितेन्‍द्र कुमार

उत्तर प्रदेश चुनाव परिणाम के बाद ईवीएम मशीन से छेड़छाड़ के आरोपों-प्रत्यारोपों के बीच इस पर बात करने की जरूरत तो है ही कि आखिर बिना किसी लहर के बीजेपी को इतनी अप्रत्याशित जीत कैसे मिली है? लेकिन इसके इतर भी हमारे समाज में ऐसी राजनीतिक और सामाजिक परिस्थितियां पैदा हुई हैं जिस पर बात करने की जरूरत है क्योंकि यह देश में बुनियादी लोकतंत्र और व्यक्ति स्वतंत्रता को कायम रखने के लिए अनिवार्य है।

उत्तर प्रदेश चुनाव के तीसरे चरण में प्रधानमंत्री मोदी ने आम सभा को संबोधित करते हुए कहा कि मुसलमानों के लिए कब्रिस्तान हो तो हिन्दुओं के लिए भी श्मशान हो। प्रधानमंत्री मोदी की इस बात को सुनकर बहुत से चुनावी व राजनीतिक विश्लेषकों ने सोचा कि यह प्रधानमंत्री मोदी का हताशा में दिया गया वैसा ही बयान है जो उनकी पार्टी के नेताओं ने बिहार चुनाव के दूसरे चरण के बाद पाकिस्तान भेजने की बात कहकर कही थी।

और हमने भी मान लिया कि बीजेपी बिहार में चुनाव हार गई इसलिए अब वह इन मुद्दों को भविष्य में नहीं उठाएगी। लेकिन हकीकत यह है कि आरएसएस को उन गड़े मुर्दों को उखाड़ने में महारत हासिल है जो इस ‘सांस्कृतिक संगठन’ ने अपनी सुविधा के लिए गढ़े हैं। वे तब तक उन बातों को दुहराते रहते हैं जब तक अपने लक्ष्य को प्राप्त न कर लें।

प्रधानमंत्री मोदी के इस बयान ने दलितों और भूमिहीनों को बीजेपी के साथ लाने में महती भूमिका निभाई। अगर हम हिन्दुओं की दाह-संस्कार पद्धति को देखें तो इसमें ज्यादातर मामले में दाह-संस्कार हिन्दू अपनी जमीन में करते हैं या फिर नदी के किनारे करते हैं। विद्यमान जातीय व्यवस्था में दलितों को दाह-संस्कार करने में सबसे ज्यादा परेशानी होती है क्योंकि उनके पास निजी जमीन नहीं है। लेकिन प्रधानमंत्री ने इस मामले को इस तरह से ट्विस्ट किया जैसे कि मुसलमानों के लिए कब्र की व्यवस्था यह ‘सेकुलर’ सरकार कर रही है लेकिन हिन्दुओं (खासकर भूमिहीन हिन्दुओं और दलितों) के लिए श्मशान घाट की व्यवस्था करने में असफल रही है। जबकि हकीकत यह भी है कि कोई भी सरकार कब्रिस्तान नहीं बनवाती है बल्कि कब्रिस्तान पर कोई अतिक्रमण न कर ले, इसके लिए कभी-कभार चहारदीवारी की व्यवस्था जरूर करवा देती है। लेकिन जिस रूप में इस बात को रखा गया उससे दलितों को ‘मुसलमानपरस्त’ अखिलेश और मायावती के खिलाफ राय बनाने में मदद मिली। और दलितों और पिछड़ों के एक बड़े समूह ने बीजेपी को वोट दिया।

यह सही है कि एक प्रधानमंत्री के रूप में मोदी को यह बयान नहीं देना चाहिए था लेकिन क्या यह बात भी उतनी सही नहीं है कि वह आरएसएस का स्वयंसेवक भी है जिसकी बुनियाद मुसलमानों के खिलाफ धार्मिक धृणा है? यह भी सही है कि सार्वजनिक जीवन में लोगों को न सिर्फ सही होना चाहिए, बल्कि सही दिखना भी चाहिए। मोदी अपने इस बयान में तथ्यात्मक रूप से भले ही गलत हों, लेकिन लगभग पिछले सौ वर्षों से आरएसएस के तैयार किए गए नैरेटिव ने सामान्य हिन्दुओं को बीजेपी के पक्ष में लामबंद करने में मदद की।

देश के बृहतर हिंदुओं के मन में बहुत पहले से ही एक धारणा बैठा दी गई है कि उनके साथ यह ‘सेक्युलर’ राज्यसत्ता लगातार भेदभाव करती रही है और मुसलमान का समर्थन करती है। बचपन से हम सुनते आए हैं कि होली में पानी नहीं आता है जबकि रमज़ान में सुबह-सुबह पानी आ जाता है। उसी तरह, दिवाली पर बिजली कट जाया करती है, लेकिन ईद में बिजली अनिवार्यतः आती है। यह बात अस्सी के दशक के शुरूआती दिनों से हम सुनते आ रहे हैं जबकि उस समय बिहार के हमारे गांव में न बिजली थी और न ही नलके से आने वाला पानी। दरअसल उस समय भी हम चापाकल से पानी पीते थे और अधिकतर गांव में आज भी वही स्थिति है। यह बातें जब बताई जाती थी तो वह बिहार के दरभंगा और अन्य शहरों के बारे में की जाती थी। उन शहरों को उस समय तक अधिकांश लोगों ने देखा भी नहीं था जबकि यह बात पूरी तरह गलत थी क्योंकि बिजली के हालात तो आज भी ठीक नहीं हैं।

दूसरी बात, अगर तार्किक ढ़ंग से सोचें तो यह बात अटपटी होने के मुकाबले झूठी ज्‍यादा है क्योंकि हम जानते हैं रमजान में इतने पानी की जरूरत नहीं होती है जितनी होली में क्योंकि होली में रंग खेलने और रंग धोने के लिए भी पानी चाहिए। लेकिन इस तरह की बातें हमारे दिलो-दिमाग में काफी गहराई से बैठा दी गई हैं जिसका कोई तर्क नहीं है। हां, लेकिन एक बड़ी सच्चाई यह भी है कि धारणाओं के लिए तर्क की नहीं भावना की जरूरत पड़ती है और दुर्भाग्य से वो भावनाएं हमारे समाज में व्याप्त हैं।

हिंदुओं को बीच-बीच में यह भाव भरकर उकसाया जाता है कि उनके साथ पिछले साढ़े चार सौ वर्षों से शासकों द्वारा भेदभाव होता रहा है- पहले मुसलमानों ने, बाद में मुसलमानपरस्त अंग्रेजों ने और बाद में सेकुलर सरकारों ने। अपनी स्थापना के शुरू से ही आरएसएस मुसलमानों के खिलाफ गोलबंदी का काम करता रहा है। बिहार के चुनाव में भी प्रधानमंत्री मोदी ने यह कहा था कि अतिपिछड़ों का आरक्षण एक ‘विशेष’ धर्म के लोगों को दे दिया जाता है। वहां मोदी को अपनी उस बात का लाभ इसलिए नहीं मिल पाया क्योंकि वहां लालू यादव जैसा व्यक्ति था जिन्होंने आरक्षण विरोध के लिए सीधे तौर पर बीजेपी और आरएसएस को कठघरे में उससे पहले ही खड़ा कर रखा था।

हम सुशासन या ‘सबका साथ सबका विकास’ के जुमले के साथ ही मान लेते हैं कि बीजेपी भाजपा राम मंदिर का निर्माण, समान आचार संहिता, धारा 370 या फिर हिन्दू राष्ट्र की बात नहीं उठाएगी, लेकिन संघ इन बातों को व्यवहारिक रूप से उठाने में कभी परहेज नहीं करता है। इसलिए जहां कहीं भी चुनाव होता है और घोषणा पत्र में ये मसले रहते हों या नहीं रहते हों, ये सारे मसले चुनाव के दौरान ‘हमारे हिन्दू मन’ को झकझोरते हैं जो चुनाव को गहरे प्रभावित करता है। बृहत हिन्दुओं को ‘लव जेहाद’ का मसला भी काफी गहरे मथता है। आरएसएस ने इस झूठ को बहुत ही शिद्दत से हिन्दुओं के मन में बिठा दिया है कि हिन्दू लड़कियों से मुसलमान जोर-जबर्दस्ती शादी कर रहे हैं। चूंकि उत्तर भारतीय ग्रामीण इलाकों में हिन्दुओं की मुसलमानों से मिली-जुली आबादी है, इसलिए दो लड़के-लड़कियों के बीच हुए प्रेम संबंध और शादी लव जिहाद हो जाता है क्योंकि लड़का मुसलमान है। जबकि लोहिया ने जाति तोड़ने का सबसे असरकारी औजार अंतरजातीय विवाह बताया था जिस पर सोशलिस्ट पार्टी के लोग विश्वास करते थे, लेकिन अभी का हाल देखिए कि पिछले कई वर्षों से सत्ता में रहे लोहिया के राजनीतिक वारिस के समय में लव जेहाद की सबसे अधिक घटनाओं को प्रचारित किया गया और सत्ताधारी पार्टी इसका ठीक से वैचारिक विरोध तक नहीं कर पाई। इसलिए कभी भी और कहीं भी संघ या उसके सहयोगी संगठन इसे अपने एजेंडे से ओझल नहीं होने देते हैं।

दुखद यह है कि हम बहुत ही असामान्य दौर में जी रहे हैं। देश के सभी राजनीतिक दल हिन्दू तुष्टीकरण में लगे हुए हैं क्योंकि पार्टियों में हिन्दुओं का डर समा गया है।


जितेन्‍द्र कुमार वरिष्‍ठ पत्रकार हैं। दो दशक से ज्‍यादा समय मुख्‍यधारा के मीडिया में बिता चुके हैं। सामाजिक न्‍याय के संबंधित विषयों पर ग‍हरी पकड़ रखते हैं। इनके और लेख पढ़ने के लिए यहां जाएं।

25 COMMENTS

  1. I was just searching for this info for some time. After six hours of continuous Googleing, at last I got it in your site. I wonder what is the lack of Google strategy that do not rank this type of informative sites in top of the list. Normally the top web sites are full of garbage.

  2. Thank you a lot for giving everyone an extremely nice possiblity to discover important secrets from here. It can be very pleasant and full of a good time for me and my office peers to search your blog a minimum of thrice a week to read through the fresh stuff you will have. And of course, I’m certainly astounded with all the powerful pointers served by you. Certain 3 tips on this page are in reality the simplest we’ve had.

  3. Hey there! This is kind of off topic but I need some guidance from an established blog. Is it very hard to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty fast. I’m thinking about making my own but I’m not sure where to begin. Do you have any points or suggestions? Appreciate it

  4. Normally I don’t learn post on blogs, however I wish to say that this write-up very forced me to take a look at and do so! Your writing style has been surprised me. Thank you, quite nice post.

  5. I have been surfing on-line greater than three hours these days, but I by no means discovered any attention-grabbing article like yours. It’s lovely value enough for me. In my view, if all website owners and bloggers made good content material as you probably did, the internet will likely be much more useful than ever before.

  6. I just want to say I’m very new to weblog and definitely enjoyed your web site. Almost certainly I’m likely to bookmark your website . You surely come with outstanding stories. Thanks a lot for revealing your webpage.

  7. With everything that appears to be developing throughout this area, your perspectives happen to be relatively refreshing. Nonetheless, I beg your pardon, because I do not subscribe to your entire idea, all be it exciting none the less. It would seem to everybody that your comments are not entirely justified and in fact you are your self not completely convinced of your argument. In any event I did take pleasure in looking at it.

  8. Most of what you say is supprisingly legitimate and that makes me ponder why I hadn’t looked at this with this light before. This particular piece really did switch the light on for me personally as far as this subject goes. But there is one particular factor I am not too cozy with so whilst I attempt to reconcile that with the main theme of your issue, allow me observe exactly what the rest of your readers have to say.Very well done.

  9. Hello, i think that i saw you visited my web site thus i came to “return the favor”.I’m trying to find things to improve my website!I suppose its ok to use a few of your ideas!!

  10. Hmm it seems like your website ate my first comment (it was extremely long) so I guess I’ll just sum it up what I had written and say, I’m thoroughly enjoying your blog. I as well am an aspiring blog blogger but I’m still new to everything. Do you have any recommendations for newbie blog writers? I’d definitely appreciate it.

  11. I like the valuable information you provide in your articles. I will bookmark your blog and check again here regularly. I am quite sure I’ll learn many new stuff right here! Good luck for the next!

  12. Very great post. I just stumbled upon your weblog and wanted to mention that I have really loved browsing your weblog posts. In any case I will be subscribing for your feed and I’m hoping you write again soon!

  13. Hello! This post couldn’t be written any better! Reading through this post reminds me of my old room mate! He always kept chatting about this. I will forward this article to him. Fairly certain he will have a good read. Thanks for sharing!

  14. hello there and thank you on your info – I have definitely picked up something new from proper here. I did on the other hand experience several technical issues using this site, since I skilled to reload the site many instances previous to I could get it to load correctly. I had been brooding about if your web host is OK? No longer that I’m complaining, however slow loading cases occasions will often have an effect on your placement in google and could injury your quality rating if ads with Adwords. Anyway I am including this RSS to my e-mail and could look out for a lot extra of your respective fascinating content. Make sure you replace this once more very soon..

  15. Nice post. I was checking constantly this blog and I am impressed! Very useful info specifically the last part 🙂 I care for such information much. I was looking for this particular information for a very long time. Thank you and good luck.

  16. Thanks a bunch for sharing this with all of us you really know what you’re talking about! Bookmarked. Kindly also visit my web site =). We could have a link exchange contract between us!

  17. What i don’t understood is in fact how you are now not actually a lot more neatly-appreciated than you may be now. You’re so intelligent. You realize thus considerably relating to this matter, made me in my view believe it from numerous various angles. Its like women and men don’t seem to be fascinated until it is one thing to accomplish with Woman gaga! Your individual stuffs excellent. Always care for it up!

  18. Aw, this was a really good post. In concept I’d like to put in writing like this in addition – taking time and actual effort to create a very excellent article… but what can I say… I procrastinate alot and by no means seem to obtain one thing performed.

  19. Hi there! I could have sworn I’ve been to this website before but after reading through some of the post I realized it’s new to me. Nonetheless, I’m definitely glad I found it and I’ll be book-marking and checking back often!

LEAVE A REPLY