Home पड़ताल बाग़ी बलिया के राजमार्ग पर प्रलय की दस्तक !

बाग़ी बलिया के राजमार्ग पर प्रलय की दस्तक !

SHARE

(इन दिनों देश के तमाम ज़िले बाढ़ की चपेट में हैं। पूर्वी उत्तर प्रदेश का बलिया ज़िला भी गंगा के वेग से  सहमा हुआ है। मीडिया से तो जानकारी मिलती है लेकिन कई बार जो पत्रकार नहीं देख पाते, उसे साहित्यकार देख लेते हैं। कभी मैला आँचल लिखने वाले फणीश्वरनाथ रेणु ने ‘डायन कोसी’ जैसा चर्चित रिपोर्ताज लिखा था। 1975 में बिहार की बाढ़ और अकाल को लेकर उनके रिपोर्ताज दिनमान में छपे थे जिनमें एक अलग ही दृष्टि है। उस समय दिनमान के संपादक थे हिंदी के विशिष्ट कवि रघुवीर सहाय।  बलिया वाले ख़ुद को ‘बाग़ी बलिया’ का निवासी कहलाना पसंद करते हैं। हो भी क्यों न,  देश की आज़ादी के पहले ही  बलिया को आज़ाद कराने का हौसला यहाँ के लोग दिखा चुके हैं। लेकिन गंगा जिस तरह गाँव के गाँव लीलने पर आमादा है, उसके सामने इंसानी हौसले की क्या बिसात।  वहाँ नज़र आ रही ‘प्रलय’ पर वहीं रह रहे कवि -लेखक रामजी तिवारी ने क़लम चलाई है। हम उनकी फ़ेसबुक पोस्ट आभार सहित छाप रहे हैं। कविता इतिहास का अंतिम ड्राफ़्ट होती है, लेकिन पहला ड्राफ़्ट भी ज़रूरी है जिसे लेखकों को यूँ ही सोशल मीडिया के हवाले कर देना चाहिए–संपादक)

 

बलिया में बाढ़ की स्थिति अत्यंत भयावह है ।’ इतनी कि मुझे यह समझ में नहीं आ रहा कि मैं कैसे इस मंजर को बयां करने वाले शब्दों को वाक्य में पिरो दूं कि यह भयावहता भी सम्प्रेषित हो जाए ।

शहर से लगभग 10 किलोमीटर पूरब में राष्ट्रीय राजमार्ग पर बढ़ते ही बाढ़ की विभीषिका रूह कंपाने लगती है । दुबहड़ गाँव से थोड़ा पहले से राजमार्ग के दक्षिण तरफ जहाँ तक नजर जाती है, सिर्फ और सिर्फ पानी और पानी ही दिखाई देता है । और यह मंजर तब तक बना रहता है जब तक कि आप गोपालपुर-दुबेछपरा गाँव के मुहाने पर नहीं पहुँच जाते । यानि कि लगभग 20 किलोमीटर के दायरे में इस राजमार्ग को एक तरफ से घेरे हुए यह सैलाब लगातार दहशत पैदा करता चलता है ।

baliya 2

इस बीस किलोमीटर के क्षेत्र में राष्ट्रीय राजमार्ग कई जगहों पर अब और तब की स्थिति में पहुँच गया है । इस रास्ते में कम से कम दर्जनों ऐसी जगहें हैं जहाँ पर पानी को राजमार्ग को कभी भी पार कर सकता है । बेशक कि उसे रोकने के लिए जगह-जगह पर बालू और रॉबिस की बोरियां रखी गयी है । फिर भी कोई मुतमईन होकर नहीं कह सकता कि आज की रात या कल की सुबह यहाँ स्थिति कैसी होगी ।

हजारों की संख्या में बदहवास लोग अपने-अपने घरों को छोड़कर भाग रहे हैं । कोई अपने परिजनों को मित्र-रिश्तेदारो के यहाँ पहुंचा रहा है तो कोई इस राजमार्ग के किनारे की घास और झाड़ियों को साफ़ करके पालीथिन की छत डाल रहा है ।

सबसे खराब स्थिति बिड़ला बाँध के घेरे में आने वाले तीन गावों – दुबेछपरा, उदईछपरा और गोपालपुर – की है । ये तीनो गाँव बिड़ला बाँध के कारण अभी तक तो बचे हुए हैं लेकिन गंगा का सीधा रूख उस बाँध की ओर होने के कारण वहां पर भयानक कटान चल रही है । बाँध के बाहर बसने वाले दो गाँवों को लीलने के बाद गंगा की लहरें जिस तरह से इन तीनो गाँवों की ओर लपक रही हैं, उसमें किसी अनहोनी की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता ।

baliya 3

प्रशासन के तमाम दावों के बावजूद इन गाँवों के लोग इस बात से भली भांति अवगत हैं कि पिछले लगभग चालीस वर्षों में उन्ही के पडोसी चालीस से अधिक गाँवों के बारे में भी प्रशासन ने यही दावा किया था कि वे उन्हें कटान से बचा लेंगे । लेकिन इतिहास गवाह है कि आज उन चालीस गाँवों की एक ईंट भी उनकी जगह पर सलामत नहीं बची है । और वे सब गंगा की गोद में समा गए हैं । उन चालीस गाँवों की पचासो हजार की आबादी अपनी जड़ों से उखड़ चुकी है । इस विस्थापित आबादी में हजारों लोगों की वह अभागी जनता भी शामिल है जो इसी राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे झोपड़ी लगाकर वर्षों से नारकीय जीवन जीने को अभिशप्त है ।

दुबेछपरा, उदईछपरा और गोपालपुर के लोगों को 2013 का वह मंजर भी याद है जब यह बिड़ला बाँध टूट गया था और रातो रात उनके घरों में पानी घुस आया था । इस बार वे इसलिए भी अधिक सशंकित हैं क्योंकि उन्हें इस बात का खौफ भी सता रहा है कि यदि गंगा की कटान का यही रूख बना रहा तो उनके आशियाने भी उन्ही चालीस गाँवों की तरह गंगा में समा जाएंगे ।
इन गाँवों में सबसे अधिक भरोसा करने वाला आदमी भी आज की स्थिति में सिर्फ उपरवाले की तरफ देख रहा है । प्रशासन बेशक दिन रात कोशिस कर रहा है कि इस बिड़ला बाँध को भी बचाया जाए और राष्ट्रीय राज मार्ग को भी । लेकिन इस सवाल पर कि सैलाब आने के बाद ही प्रशासन की नींद क्यों टूटती है, इस क्षेत्र की पूरी आबादी उबल पड़ती है । उसके पास तमाम दलों के आश्वासनों की फेहरिश्त है जो हर साल किये तो गए हैं लेकिन निभाये गए किसी साल भी नहीं ।

baliya 4

और शिकायत किसी एक से हो तो नाम लिया जाए । यहाँ तो हालत यह है कि प्रदेश की चारों मुख्य दलों – कांग्रेस, भाजपा, सपा और बसपा – का शासन और प्रतिनिधित्व देख चुकने के बाद ये लोग इस बुद्धत्व की स्थिति में पहुंचे हैं । यह सरकार पिछली वाली को दोष देती है और पिछली वाली जनता को कि उसने मुझे एक बार और मौक़ा क्यों नहीं दिया । ऐसे दोषारोपण के बीच जनता ही अब यह मानने लगी है कि दोष उसके पूर्वजों का ही है कि वे लोग यहाँ पर आकर बस गए ।

वैसे प्रशासन इन गांवों की जनता से यह अपील भी कर ही रहा है कि वे हमेशा एलर्ट रहें, क्योंकि बाँध पर ख़तरा बना हुआ है । और हर वर्ष की तरह यह आश्वासन भी कि यदि इस साल आप लोग बच गए तो अगले वर्ष हम यहां चीन की दीवार खड़ी कर देंगे ।

क्या कीजियेगा …. यह कोई टिहरी या हरसूद भी नहीं है कि लोग एक झटके से उखाड़ दिए थे, जिसके कारण सबने उनकी सुध ली थी । ये तो बलिया के इस दोआब की हजारों बदकिस्मत जनता है जो प्रत्येक वर्ष इतने धीरे-धीरे से उजड़ रही है कि किसी को इसकी भनक भी नहीं लगती । कुछ इस वर्ष भी उजड़ी है । और जो बची है वह अगले वर्षो में उजड़ने की अपनी बारी का इन्तजार करेगी ।

बाकि सब ठीक है …..

अच्छे दिन की उम्मीद भी
और समाजवाद की रौनक भी .. ।

रामजी तिवारी

28 COMMENTS

  1. I do agree with all the ideas you’ve presented in your post. They’re really convincing and will certainly work. Still, the posts are very short for beginners. Could you please extend them a little from next time? Thanks for the post.

  2. You actually make it appear really easy along with your presentation but I find this matter to be really something that I feel I would never understand. It sort of feels too complex and very huge for me. I am having a look ahead on your next publish, I will try to get the hang of it!

  3. Ive by no means read anything like this just before. So nice to locate somebody with some original thoughts on this subject, really thank you for beginning this up. this internet site is something that’s required on the net, somebody having a small originality. beneficial job for bringing some thing new towards the world wide web!

  4. Fantastic blog you have here but I was curious if you knew of any forums that cover the same topics discussed in this article? I’d really love to be a part of community where I can get responses from other knowledgeable individuals that share the same interest. If you have any suggestions, please let me know. Kudos!

  5. Let me know if you’re looking for a article author for your site. You have some really great posts and I believe I would be a good asset. If you ever want to take some of the load off, I’d really like to write some content for your blog in exchange for a link back to mine. Please send me an e-mail if interested. Cheers!

  6. I simply want to say I am beginner to blogs and really savored this web site. Probably I’m planning to bookmark your blog . You absolutely come with really good stories. Kudos for revealing your blog site.

  7. Hi there! Do you know if they make any plugins to protect against hackers? I’m kinda paranoid about losing everything I’ve worked hard on. Any suggestions?

  8. I carry on listening to the news bulletin speak about receiving free online grant applications so I have been looking around for the finest site to get one. Could you tell me please, where could i find some?

  9. I must show my appreciation to this writer just for rescuing me from this crisis. Right after surfing throughout the the web and finding principles that were not productive, I believed my life was gone. Living devoid of the approaches to the difficulties you have fixed by means of your good site is a serious case, as well as those which could have adversely damaged my entire career if I hadn’t come across your blog post. Your actual know-how and kindness in taking care of the whole thing was invaluable. I am not sure what I would have done if I had not come upon such a thing like this. I can at this moment look ahead to my future. Thanks a lot very much for this specialized and effective guide. I will not think twice to suggest your web site to anyone who should get assistance about this problem.

  10. wonderful post, very informative. I wonder why the other experts of this sector don’t notice this. You must continue your writing. I am confident, you have a huge readers’ base already!

  11. Hello just wanted to come by. The text in your post seem to be running off the screen in Firefox. I’m not sure if this is a formatting issue or something to do with web browser compatibility but I thought I’d say this to let you know. The design look great though! Hope you get the problem resolved soon. Thanks.

  12. Hi, i read your blog from time to time and i own a similar one and i was just curious if you get a lot of spam remarks? If so how do you protect against it, any plugin or anything you can advise? I get so much lately it’s driving me mad so any assistance is very much appreciated.

  13. Greetings from Colorado! I’m bored to tears at work so I decided to check out your blog on my iphone during lunch break. I really like the knowledge you provide here and can’t wait to take a look when I get home. I’m shocked at how quick your blog loaded on my cell phone .. I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyways, amazing site!

  14. Liebe Malu, die Torte ist wunderschön geworden, ob sie auch so geschmeckt hat, wirst du sicherlich nach Weihnachten berichten. An dieser Stelle möchte ich dir für die vielen, wunderbaren Rezepte danken. Mein Backofen lief in den letzten Wochen auf Hochtouren. Das macht so viel Freude etwas so schönes und auch leckeres entstehen zu sehen. Danke und schöne, besinnliche Feiertage wünschen Dir und Deiner Famile Kerstin und André

  15. Have you ever considered about including a little bit more than just your articles? I mean, what you say is fundamental and all. Nevertheless just imagine if you added some great pictures or video clips to give your posts more, “pop”! Your content is excellent but with pics and clips, this website could definitely be one of the very best in its field. Wonderful blog!

  16. Very efficiently written post. It will be supportive to anybody who employess it, including yours truly :). Keep doing what you are doing – looking forward to more posts.

  17. I really wanted to construct a simple note in order to appreciate you for some of the splendid ideas you are sharing at this site. My particularly long internet look up has now been rewarded with incredibly good points to write about with my relatives. I ‘d say that we site visitors are quite blessed to be in a fabulous site with very many awesome individuals with beneficial pointers. I feel pretty grateful to have encountered your webpages and look forward to some more exciting times reading here. Thanks once more for all the details.

  18. I think this is one of the most important info for me. And i am glad reading your article. But want to remark on few general things, The site style is perfect, the articles is really nice : D. Good job, cheers

  19. I simply could not leave your website prior to suggesting that I actually loved the standard info an individual supply to your guests? Is gonna be again frequently to inspect new posts

  20. My spouse and I came here from a different page and thought I should check things out. I like what I see so i am just following you. Look forward to looking into your web page repeatedly.

  21. Thanks a bunch for sharing this with all of us you actually know what you’re talking about! Bookmarked. Kindly also visit my web site =). We could have a link exchange contract between us!

  22. I’m writing to let you be aware of what a superb encounter our daughter gained visiting your blog. She discovered a good number of details, not to mention what it’s like to have a great giving style to make most people easily completely grasp specific grueling topics. You truly exceeded readers’ expectations. Thank you for delivering the necessary, safe, explanatory not to mention easy tips on the topic to Emily.

  23. Hi there, You’ve done an incredible job. I’ll definitely digg it and personally suggest to my friends. I am confident they will be benefited from this website.

LEAVE A REPLY