Home पड़ताल चीनी सामान के बहिष्कार का आह्वान करने वाले रामदेव चीन को ग़ैरक़ानूनी...

चीनी सामान के बहिष्कार का आह्वान करने वाले रामदेव चीन को ग़ैरक़ानूनी चंदन भेजते पकड़े गए !

SHARE

बाबा रामदेव की पतंजलि जैसा विज्ञापन किसी कंपनी का नहीं दिखता। टीवी हो या अख़बार, हर तरफ़ पतंजलि के उत्पादों की बहार है और मॉडल के रूप में स्वयं रामदेव उपस्थित रहते हैं। इन विज्ञापनों का संदेश यह है कि अगर आप ‘गोमाता को कत्लख़ाने में जाने से बचाना चाहते हैं’, ‘विदेशी कंपनियों के षड़यंत्र और लूट से भारत को बचाना चाहते हैं’ तो पतंजलि के उत्पाद ख़रीदिए। भोली-भाली धर्मभीरु आबादी इसे सच मानकर पतंजलि के उत्पाद पर टूट पड़ी है, जबकि मानकों पर खरे न उतरने की कहानियाँ भी बीच-बीच में सुनाई पड़ती हैं। लेकिन चीनी उत्पादों के बहिष्कार का संदेश देने वाले बाबा रामदेव अब ख़ुद चीन को नियमविरुद्ध चंदन निर्यात मामले में फँस गए हैं। राजस्व सूचना निदेशालय ( डीआरआई ) ने पंतजलि की ओर से चीन भेजी जा रही चंदन की लकड़ी जब्त कर ली है। रामदेव के विज्ञापनों से भरे मुँह मीडिया के लिए इस ख़बर को विस्तार से दिखाना मुश्किल हो रहा है, लेकिन सोशल मीडिया के युग में ख़बर को ग़ायब करना आसान नहीं है। पतंजलि की ओर से हाईकोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया गया है और इसे प्रतिद्वंद्वी कंपनियों की साज़िश बताया जा रहा है, लेकिन मूल सवाल तो यही है कि लोगों को चीनी सामान का बहिष्कार करने का आह्वान करने वाले बाबा चीन से ख़ुद धंधा क्यों कर रहे है…पेश है इस मसले पर गिरीश मालवीय की एक महत्वपूर्ण टिप्पणी-

 

पतंजलि द्वारा चीन को बेशकीमती लाल चंदन की लकड़ी निर्यात करने से रामदेव बाबा का सूटबूट अब भगवा चोले के अंदर से साफ साफ दिखने लगा है

दो दिनों से यह खबर सुर्खियों में है कि DRI ने पतंजलि द्वारा चीन भेजी जा रही लाल चंदन की लकड़ियां जब्त कर ली हैं. DRI और कस्टम डिपार्टमेंट ने लाल चंदन की लकड़ियों के साथ लकड़ियां ले जा रहे पतंजलि के प्रतिनिधि के दस्तावेज और पासपोर्ट भी जब्त कर लिए हैं.

बताया जा रहा है कि पतंजलि के पास ग्रेड-सी की चंदन की लकड़ियों के एक्सपोर्ट करने की इजाजत है. जबकि जब्त चन्दन ए ओर बी केटेगरी का है

लेकिन पतंजलि के विज्ञापनो के लिए लार टपकाते हुए मीडिया ने इतना सा सवाल पूछने की जहमत नही उठाई कि बाबा रामदेव की कम्पनी जो मुख्यतः FMCG ओर हर्बल उत्पादों में डील कर रही है आखिर उसे चीन को चंदन एक्सपोर्ट करने में क्या रुचि हो सकती है खुद पतंजलि स्वीकार कर रही है कि हमने आज से पहले कभी चंदन एक्सपोर्ट नहीं किया है तो इस चन्दन को विदेश भेजे जाने में पतंजलि जैसी कम्पनी की क्या रूचि हो सकती है जबकि उसकी कोई हर्बल फैक्टरी चीन में नही चल रही है

दरअसल कहानी शुरू होती है 2016 से जब सरकार ने अप्रत्याशित रूप से लाल चन्दन की लकड़ी को लॉग यानी लट्ठे के रूप मे निर्यात करने के नियमों में राहत देने का फैसला किया था। इस दुर्लभ किस्म की लकड़ी का इस्तेमाल औषधियों और पूजा-अर्चना में होता है और इसके निर्यात पर खासी सख्ती रहती है दुर्लभ प्रजाति के लाल चंदन का अस्तित्व मिटने के कगार पर जा पहुंचा है. इसलिए इसे संकटापन्न वनस्पतियों में शुमार किया गया है. संकटग्रस्त प्रजातियों में व्यापार संधि के तहत संरक्षित किया गया है.

लेकिन इसके बावजूद विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने एक अधिसूचना में कहा था कि महाराष्ट्र और तमिलनाडु सरकारों के माध्यम से 383.13 टन लाल चंदन की लकड़ी लट्ठे के रूप में निर्यात करने के लिए पाबंदी में ढील दी गई है। इन लकड़ियों के निर्यात के तौर तरीके को अंतिम रूप देने और प्रक्रिया को पूर्ण करने के लिए आंध्रप्रदेश को 30 अप्रैल, 2019 तक का समय दिया गया था लेकिन उसके पहले ही यह खेप पकड़ी गयी

पुलिस का शिकार बनने से पूर्व कुख्यात चंदन तस्कर वीरप्पन का अभयारण्य आंध्र प्रदेश के जंगल ही हुआ करते थे. ये जंगल दुलर्भ और बेशकीमती लाल चंदन के लिए दुनिया भर में जाने जाते हैं. यह इलाका तस्करों के लिए स्वर्ग माना जाता था

इस कारोबार के पीछे नेताओं, अधिकारियों, पुलिस और अवैध कारोबारियों का बाकायदा एक पूरा समानांतर तंत्र ही वजूद में आ गया है पिछले साल आंध्र प्रदेश के शेषाचलम के जंगलों में हाल में 20 लोगों के मारे जाने की कहानी ऐसी कहानी है, जिसमें धन का लालच, अस्तित्व बचाए रखने का संघर्ष और प्रशासन की बेरुखी शामिल हैं

चंद्रबाबू नायडू द्वारा आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री का पदभार संभालने के बाद से ही आंध्र प्रदेश पुलिस और वन विभाग ने ‘व्यापक स्तर पर’ लाल चंदन की लकड़ी के तस्करों के खिलाफ धरपकड़ अभियान शुरू किया था ओर उनसे जब्त लाल चंदन की लकड़ी को नीलामी में बेच दिया गया ओर दिखाने के लिए इसी माल को पतंजलि ने सरकारी नीलामी में खरीद लिया

लेकिन इस सारे खेल में पतंजलि जैसी बड़ी कम्पनी क्यो कूद पड़ी यह समझ के बाहर की बात है चीन में इस लाल चंदन की लकड़ी के बड़े खरीददार मौजूद है शायद उन्होंने ही पतंजलि के मौजूदा सत्तासीन नेताओं के बेहतर सम्बन्धो के कारण पतंजलि को इस निर्यात के लिए राजी किया होगा और पतंजलि को भी इस निर्यात में मोटा मुनाफा कूटने का मौका दिखा होगा

विदेश व्यापार के महानिदेशक ने पहले अधिसूचना जारी करते हुए सरकार को यह अनुमति दी थी कि वह राज्य सरकार के पास जब्त भंडार में में 8,584 टन लाल चंदन लकड़ी को लट्ठों के रूप में निर्यात कर दे दूसरे चरण में 3,500 टन लकड़ी को नीलामी के लिए रखा गया था जिसमे ‘सी’ ग्रेड की सिर्फ 840 टन लकड़ी ही बिक पाई। सरकार को मात्र 178 करोड़ रूपए प्राप्त हुए बताया जा रहा है कि इसी सी ग्रेड लकड़ी के निर्यात का बहाना बना कर उच्च किस्म की ए ओर बी ग्रेड की लकड़ी को निर्यात किया जा रहा था जिसका निर्यात प्रतिबंधित है

जैसा कि डिपार्टमेंट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (डीआरआई) के सूत्र बता रहे हैं कि पतंजलि कंपनी की खेप में सुपीरियर ग्रेड की चंदन की लकड़ी होने का शक है उन्होंने कहा उसने दोयम दर्जे की चंदन की लकड़ी एक्सपोर्ट करने की इजाजत मांगी थी। हमारे पास यह मानने की वजह है कि दोयम दर्जे की चंदन की लकड़ियों के साथ कुछ सुपीरियर क्वॉलिटी वाली लकड़ी भी एक्सपोर्ट की जा रही है। हमने जांच पूरी होने तक एक्सपोर्ट रोके रखने के लिए कहा हैं

अब कोर्ट का फैसला जो भी आये वो अलग बात है लेकिन एक बात तो साबित हो गयी है कि बाबा रामदेव की पतंजलि कम्पनी जो बात बात में राष्ट्रवादी होने का दम भरती है वह मुनाफाखोरी के लालच में राष्ट्र की बहुमुल्य जैविक सम्पदा को चीन जैसे देश को निर्यात करने में जरा भी नही हिचकती, यह नंगा लालच अब पतंजलि की हकीकत बन चुका है

 



 

1 COMMENT

  1. Bakwas karne ke badle case karo, investigation karao.agar kisi agency ne pakda hai to investigation chalega hi.. phir bhi Aap mamle ko dabne mat do.. . Lekin aap apna Kam karo.. judgement mat do.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.