Home पड़ताल मोदीयुग में ‘दिल्ली’ हार गये पत्रकार ! प्रसून के क़िस्सों में दिखा...

मोदीयुग में ‘दिल्ली’ हार गये पत्रकार ! प्रसून के क़िस्सों में दिखा मीडिया का मुर्दा !

SHARE

फ़िल्म जुनून में रुहेला सरदार बने नसीरुद्दीन शाह , अंग्रेजों से 1857 की जंग हारने की ख़बर कबूतर उड़ाते जावेद ख़ान यानी शशि कपूर को यूँ देते  हैं—”जावेद भाई, हम दिल्ली हार गये’..!”…कुछ नसीर का अंदाज़ और कुछ किस्से का दम कि यह डायलॉग सुनकर कलेजा मुँह को आा जाता है। दिल्ली हारने की यह कसक देर तक दर्शक को परेशान करती रहती है।

मोदीयुग में  पत्रकारिता  के साथ भी  ऐसा ही हुआ है। मशहूर पत्रकार और एंकर पुण्य प्रसून वाजयेपी ने ख़बर दी है कि पत्रकार अपनी ”दिल्ली” हार गये हैं ! दरअसल, उन्होंने अपने ब्लॉग पर दिल्ली के पत्रकारों और पत्रकारिता पर एक लेख लिखा है। उन्होंने इमरजेंसी, बोफोर्स और हवाला जैसे कांड की याद करते हुए बताया है कि देश में हमेशा कोई न कोई पत्रकारिता संस्थान ऐसा रहा है जिसने सत्ता से टकराते हुए सच लिखने का जोखिम उठाया। लेकिन यह पहली बार है कि पत्रकारिता पूरी तरह दंडवत है। सत्ता को परेशान करने वाली खबरों को छापने, दिखाने या उनकी पड़ताल को रोकने का बाक़ायदा निर्देश है। यानी अगर पत्रकारिता करनी है तो हर हाल में सरकार के पक्ष में खड़े होना होगा। उन्होंने तीन सच्ची कहानियाँ सुनाई हैं जिससे हालात की भयावहता का अंदाज़ा लगाया जा सकता है। प्रसून ने नाम तो नहीं लिखा, लेकिन उनकी एक कहानी में  ”दोनों” को छोड़कर लिखने की बात है। ये दोनों प्नधानमंत्री नरेंद् मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, यह समझने के लिए राजनीति विज्ञान का पंडित होने की ज़रूरत नहीं है। ”मीडिया विजिल” प्रसून के लेख का एक अंश यहाँ अभार सहित छाप रहा है क्योंकि कलेजा मुँह को आ रहा है— 

किन्हें नाज़ है मीडिया पर ……..
(Part 1)

“आपको जिसके खिलाफ लिखना है लिख लें, लेकिन इन दो को छोड़ना होगा”

“क्यों, तब तो बहुत ही मोटी लक्ष्मण रेखा खींचनी होगी।”

” ये तो बेहद महीन लकीर खिंचने की बात है। बाकी तो आपको हर पर कलम चलाने की छूट है। अब आप लोग जो समझें। लेकिन हम झुकते नहीं हैं और हमारी पत्रकारीय धार का लोहा दुनिया मानती है। तो सोचिये धार भी बरकरार रहे और समझौता होते हुये भी ना लगे कि हमने कुछ छुपाया। ठीक है।”

“नहीं हम ऐसी खबरो के पीछे नहीं भाग सकते जिसे छापना मुश्किल हो । रिपोर्टरो को भी ऐसी खबरो के पिछे मत भगाइये । नहीं तो वह खबर ले कर आयेंगे । दस्तावेज जुगाड कर लायेंगे । उन दस्तावेजो को लेकर आप उन्हें लंबे वक्त तक जांच कर रहे हैं, कहकर भटका भी नहीं सकते है । तो इस रास्ते पर चले ही नहीं।”

“और अगर कोई भूले भटके ऐसी खबर ले आया जो हमारे अखबार के खांचे में सही नहीं बैठती है तो”

” ……तो क्या आप सिनियर है । आप संपादक है । अब ये हुनर तो आपके पास होना ही चाहिये ।”

“खबरों को आने से मत रोकिये । जो आ रही है आने दें । लेकिन कोई भी ऐसी खबर जो देश की हवा बिगाड दे उसे ना छापें। ना ही डिस्कस करें ।”

“लेकिन ऐसी खबरों का मतलब होगा क्या । देश की हवा का मतलब क्या है ? पाकिस्तान से युद्द का माहौल या आतंकवाद को लेकर कोई गलत पहल। ”

“ना ना ….देश की राजनीति को समझिये । इस दौर में देश संकट से भी गुजर रहा है और विकास की नई परिभाषा गढने के लिये मचल भी रहा है । तो हमें देश के साथ खडा होना होगा। जो देश के हक में निर्णय ले रहा है उसके हक में ।”

“तब तो विपक्ष की राजनीति का कोई मतलब ही नहीं होगा । और उनके कहे को कोई मतलब ही नहीं बचेगा।”

” सही । आपकी खबर ही ये तय कर देगी कि जो सही है आप वहीं खडे हैं ।”

“तो फिर गलत या सही-गलत के बीच फंसने की जरुरत ही क्या है ।”

अखबारी जगत के तीन मित्रो की तीन कहानियां। ये शॉर्टकट कहानी है। क्योंकि संपादकों को बीच मौजूदा दौर में कहे जाने वाले शब्द और अनकहे शब्दों के बीच रहकर आपको सही गलत का फैसला करना होगा । तो अपने अपने संस्धानों को लेकर पत्रकार मित्रो के बीच संपादकों की इस बैठक को कितना भी लंबा खींचें। इसी बीच मुझे एक दिन एक पुराने मित्र ने कॉफी पीने का ऐसा आंमत्रण दिया कि मैं चौक गया ।

”यार दो तीन घंटे। कॉफी पीते हुये बात करेंगे।”

”वह तो ठीक है। लेकिन शाम के वक्त दो तीन घंटे। बंधु शॉर्टकट में बतला देना।”

और आखिर में तय यही हुआ कि जहॉ मुझे लगेगा कि मै बोर हो रहा हू तो मैं चल दूगा । शाम छह बजे फिल्म सिटी के सीसीडी पहुंचा। मित्र इंतजार कर रहे थे। बिना भूमिका उसने नब्बे के दशक में हवाला रैकेट के दौर के दस्तावेजों और उस दौर की अखबार–मैग्जिन की रिपोर्टिंग दिखाते हुये पूछा कि क्या इस तरह के दस्तावेज अब कोई मायने रखते हैं?

”बिलकुल मायने रखते हैं। मायने से मेरा मतलब है कि अगर किसी दस्तावेज पर इसी तरह देश के तमाम राजनेताओ के नाम दर्ज हो तो क्या आज की तारीख में कोई मीडिया संस्धान छाप पायेगा। ये क्या मतलब हुआ। अरे यार कोई भी दस्तावेज जांचना चाहिये। गलत भी हो सकता है।”

मौजूदा दौर में जब सबकुछ सत्ता में जा सिमटा है तो फिर एक भी गलत खबर या कहें बिना जांचे परखे किसी दस्तावेज को सही कैसे कोई मान लेगा। और तुम खुद ही कह रहे हो कि राजनेताओं को कठघरे में खड़ा करने वाले दस्तावेज । जो भी सवाल मेरे जहन में उठे मैंने झटके में कह दिये। लेकिन मेरे ही सवालो को जबाब देकर मित्र ने फिर मुझे
कहा…..”यार खबर गलत होगी तो हम यहां क्यों बैठे होते । मैं चर्चा क्यों कर रहा होता। जरा कल्पना करो सिस्टम चल कैसे रहा है । आप संस्धानों को टटोलेंगे । आप अधिकारियो से पूछेंगे । आप खबरों की कड़ियो को पकडेंगे । तथ्यों को उनके साथ जोडेंगे । और अगर सब सही लगे तब किसी संपादक का क्यों रुख होना चाहिये। तुम ही बताओ कि अगर तुम होते तो क्या करते।”

जाहिर है लंबी बहस के बाद ये ऐसा सवाल था जिसका जबाब तुरंत मैं क्या दूं। मेरे जहन में तो मौजूदा दौर के सारे हालात उभरने लगे। मौजूदा हालातों से टकराते उस दौर के हालात भी टकराने लगे, जब सत्ता में एक खामोश पीएम हुआ करते थे । दिल्ली में पत्रकारिता का सुकून ये तो है कि आप सत्ता की चाकरी करने वालों से लेकर सत्ता से टकराते पत्रकारों को बखूबी जान समझ लेते हैं। एक दौर में राडिया। एक दौर में भक्ति। एक दौर में धंधा। एक दौर में संघी। तो क्या इस या उस दौर में पत्रकारिता उलझ चुकी है। या उलझी पत्रकारिता को पहली बार पत्रकार ही सत्ता की गोद में बैठ कर सुलझाने लगे हैं। लेकिन सवाल को खबर का है । और सवाल मुझसे मेरा मित्र क्यों पूछ रहा है मैंने थाह लेने की कोशिश की । क्यों ये सवाल तो कोई सवाल हुआ नहीं । मुझे अजीब सा लग रहा था ये कौन से हालात हैं।

मैंने जोर से उसकी बात काटते हुये कहा ,” यार तुम ये सब मुझे कह रहे हो जबकि तुम खुद जिस जगह काम करते हो……वहां के संपादक । वहा का प्रबंधन तो खबरों पर मिट जाने वाले हैं। और तुम तो भाग्यशाली हो कि ऐसी जगह काम करते हो जहां खबरों को लेकर कोई समझौता नहीं होता ।”

‘गुरु …सही कह रहे हो । लेकिन जरा सोचो हम कर क्या करें।”

मैंने भी भरोसा दिया,” रास्ता निकलेगा। और हम मिलकर रास्ता निकालेगें। हम दो चार दिन में फिर मिलते है । तुम मुझे भी वो दस्तावेज दिखाओ । मै भी देखता हूं”

…..”अरे यार तुम्हारे ये न्यूज चैनल कितने भी बड़े हो जाये..कितना भी कमा लें लेकिन एक चीज समझ लो देश की सुबह आज भी अखबारो से होती है।”

“‘अरे ठीक है यार रात तो चैनलों से होती है। तो तय रहा अगली मुलाकात में ”……लेकिन ये लिखते लिखते सोच रहा हूं अब अगली मुलाकात…..तो आप भी इंतजार कीजिए..

(जारी)

 

31 COMMENTS

  1. Did you just create your new Facebook page? Do you want your page to look a little more “established”? I found a service that can help you with that. They can send organic and 100% real likes and followers to your social pages and you can try before you buy with their free trial. Their service is completely safe and they send all likes to your page naturally and over time so nobody will suspect that you bought them. Try their service for free here: http://c.or.at/26h

  2. This is a comment to the admin. I came to your मोदीयुग में ‘दिल्ली’ हार गये पत्रकार ! प्रसून के क़िस्सों में दिखा मीडिया का मुर्दा ! – MediaVigil page by searching on Google but it was difficult to find as you were not on the front page of search results. I know you could have more traffic to your site. I have found a website which offers to dramatically improve your rankings and traffic to your site: http://ganaar.link/e I managed to get close to 500 visitors/day using their services, you can also get a lot more targeted visitors from Google than you have now. Their services brought significantly more traffic to my website. I hope this helps!

  3. Did you just create your new Facebook page? Do you want your page to look a little more “established”? I found a service that can help you with that. They can send organic and 100% real likes and followers to your social pages and you can try before you buy with their free trial. Their service is completely safe and they send all likes to your page naturally and over time so nobody will suspect that you bought them. Try their service for free here: http://korturl.no/1pwo8

  4. This is a memo to the webmaster. I came to your मोदीयुग में ‘दिल्ली’ हार गये पत्रकार ! प्रसून के क़िस्सों में दिखा मीडिया का मुर्दा ! – MediaVigil page by searching on Google but it was difficult to find as you were not on the front page of search results. I know you could have more traffic to your website. I have found a company which offers to dramatically increase your rankings and traffic to your website: http://s.beautheac.net/4z I managed to get close to 500 visitors/day using their services, you could also get many more targeted visitors from search engines than you have now. Their services brought significantly more visitors to my website. I hope this helps!

  5. Hi my name is Lora Wood and I just wanted to send you a quick note here instead of calling you. I discovered your मोदीयुग में ‘दिल्ली’ हार गये पत्रकार ! प्रसून के क़िस्सों में दिखा मीडिया का मुर्दा ! – MediaVigil page and noticed you could have a lot more hits. I have found that the key to running a successful website is making sure the visitors you are getting are interested in your subject matter. There is a company that you can get keyword targeted traffic from and they let you try their service for free for 7 days. I managed to get over 300 targeted visitors to day to my website. http://www.v-diagram.com/2syza

  6. Did you just create your new Facebook page? Do you want your page to look a little more “established”? I found a service that can help you with that. They can send organic and 100% real likes and followers to your social pages and you can try before you buy with their free trial. Their service is completely safe and they send all likes to your page naturally and over time so nobody will suspect that you bought them. Try their service for free here: http://shorturl.van.ee/8

  7. Hi my name is Deanna Brady and I just wanted to send you a quick message here instead of calling you. I came to your मोदीयुग में ‘दिल्ली’ हार गये पत्रकार ! प्रसून के क़िस्सों में दिखा मीडिया का मुर्दा ! – MediaVigil website and noticed you could have a lot more hits. I have found that the key to running a successful website is making sure the visitors you are getting are interested in your subject matter. There is a company that you can get keyword targeted visitors from and they let you try their service for free for 7 days. I managed to get over 300 targeted visitors to day to my site. http://bravohrgrp.com/bp

  8. Does your blog have a contact page? I’m having trouble locating it but, I’d like to send you an e-mail. I’ve got some recommendations for your blog you might be interested in hearing. Either way, great website and I look forward to seeing it develop over time.

  9. Hey! I just would like to give an enormous thumbs up for the great data you may have here on this post. I will be coming again to your weblog for extra soon.

  10. You really make it seem so easy with your presentation but I find this topic to be actually something that I think I would never understand. It seems too complex and very broad for me. I am looking forward for your next post, I’ll try to get the hang of it!

  11. This design is steller! You most certainly know how to keep a reader amused. Between your wit and your videos, I was almost moved to start my own blog (well, almost…HaHa!) Excellent job. I really enjoyed what you had to say, and more than that, how you presented it. Too cool!

  12. Hi there! This is my first visit to your blog! We are a group of volunteers and starting a new project in a community in the same niche. Your blog provided us useful information to work on. You have done a marvellous job!

  13. You actually make it seem so easy with your presentation but I find this topic to be really something which I think I would never understand. It seems too complex and extremely broad for me. I am looking forward for your next post, I will try to get the hang of it!

  14. Very good blog! Do you have any tips for aspiring writers? I’m planning to start my own site soon but I’m a little lost on everything. Would you recommend starting with a free platform like WordPress or go for a paid option? There are so many choices out there that I’m totally confused .. Any suggestions? Cheers!

  15. hello there and thanks for your information – I have certainly picked up something new from right here. I did alternatively experience a few technical issues the usage of this site, as I experienced to reload the site a lot of instances previous to I may get it to load correctly. I were pondering if your web hosting is OK? Not that I’m complaining, however sluggish loading circumstances times will very frequently impact your placement in google and could injury your high-quality score if ads with Adwords. Well I am adding this RSS to my e-mail and can glance out for a lot more of your respective intriguing content. Make sure you replace this again very soon..

  16. I don’t even understand how I stopped up right here, but I thought this submit was good.
    I do not understand who you’re but definitely you’re going to a well-known blogger for those
    who are not already. Cheers!

  17. There are some fascinating deadlines in this article however I don’t know if I see all of them center to heart. There may be some validity but I will take hold opinion until I look into it further. Good article , thanks and we wish extra! Added to FeedBurner as well

  18. Thank you for the sensible critique. Me and my neighbor were just preparing to do a little research on this. We got a grab a book from our local library but I think I learned more clear from this post. I am very glad to see such fantastic information being shared freely out there.

  19. I was very pleased to search out this net-site.I wanted to thanks for your time for this excellent read!! I positively enjoying each little little bit of it and I have you bookmarked to check out new stuff you blog post.

  20. I just like the valuable info you provide on your articles. I’ll bookmark your weblog and check again right here frequently. I’m fairly sure I will learn many new stuff proper here! Good luck for the following!

  21. I’m impressed, I must say. Actually not often do I encounter a blog that’s each educative and entertaining, and let me inform you, you have hit the nail on the head. Your concept is excellent; the issue is something that not sufficient people are talking intelligently about. I’m very completely happy that I stumbled across this in my search for one thing relating to this.

  22. Hello there, just became alert to your blog through Google, and found that it’s really informative. I’m going to watch out for brussels. I’ll appreciate if you continue this in future. Lots of people will be benefited from your writing. Cheers!

  23. Nice post. I find out one thing additional challenging on distinctive blogs everyday. It is going to often be stimulating to read content material from other writers and practice a bit one thing from their shop. I’d prefer to utilize some with the content material on my weblog no matter if you do not thoughts. Natually I’ll offer you a link in your internet blog.

LEAVE A REPLY