Home पड़ताल रोहित वेमुला की ‘सांस्‍थानिक हत्‍या’ पर शिव साई राम का यह कुबूलनामा...

रोहित वेमुला की ‘सांस्‍थानिक हत्‍या’ पर शिव साई राम का यह कुबूलनामा क्‍या कोई मीडिया दिखाएगा?

SHARE

हैदराबाद विश्‍वविद्यालय के छात्र और एबीवीपी के पूर्व सदस्य शिवा साई राम ने रोहित वेमुला की हत्या में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की भूमिका का उद्घाटन करते हुए उसमें अपनी तत्‍कालीन भूमिका को लेकर पश्चाताप भरी एक पोस्ट लिखी है. अंग्रेज़ी से इसका अनुवाद देवयानी भारद्वाज ने किया है. सोशल मीडिया पर इसे खूब शेयर किया जा रहा है, हालांकि अब तक मुख्‍यधारा के किसी मीडिया ने इसे नहीं उठाया है।


अतीत की एक घटना की कचोट मेरा पीछा नहीं छोड़ती. “गणेश चतुर्थी” ने फिर इसकी याद दिला दी. यह घटना वर्ष 2013 की है. उन दिनों में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् से जुड़ा था. इस घटना का सम्बन्ध रोहित और उसकी संस्थानिक हत्या के लिए ज़िम्मेदार (सुशील कुमार) से है. उन दिनों हैदराबाद विश्वविद्यालय में गणेश चतुर्थी उत्सव के आयोजन और दक्षिणपंथी संगठनो द्वारा प्रचारित किये जा रहे छद्म विज्ञान को लेकर फेसबुक पर विभिन्न समूहों में बहसें छिड़ी थीं. एक कट्टर धार्मिक व्यक्ति के रूप में मैंने उन बहसों में उत्सव के आयोजन का भरपूर पक्ष लिया. उस बहस में मेरे प्रतिपक्ष में अनेक लोग शामिल थे, रोहित में उनमें से एक था. एबीवीपी के काम करने के रहस्यमय तरीकों का एक प्रमाण था हमारा समूह “गणेश उत्सव समिति”. इस समूह के रूप में हम रोहित और अन्यों की नास्तिक सोच से परिचित थे. यह बहस हमारे हाथ से छूटती जा रही थी क्योकि इस उत्सव का विरोध करने वालों की संख्या हम से कहीं अधिक थी. और तब एबीवीपी ने अपना वह दांव खेला जिसमें इसे महारथ हासिल है. जिसे अंग्रेजी में “विच हंटिंग” कहा जाता है.

मैं तब तक संगठन में नया था (लगभग दो महीने) और नहीं जनता था कि यह लोग परदे के पीछे किस तरह काम करते हैं. यह तय किया गया कि यह लोग बहस में उनका विरोध करने वालों को सबक सिखाने के लिए उनके खिलाफ “ईश-निंदा” का मुक़दमा दायर करेंगे. मुझसे कहा गया कि मैं इस लोगों के पोस्ट और कमेंट के स्क्रीन शॉट ले कर कुछ लोगों को मेल कर दूं. यह लोग विद्यार्थी नहीं थे (इनमें से एक सुशील का भाई भी था). मैंने उनकी बात मान कर स्क्रीन शॉट लिए और बताये गए लोगों की मेल कर दिए. इन लोगों के बीच हुई गोपनीय चर्चाओं में यह तय किया गया कि वे रोहित इकलौता लक्ष्य होगा. उनकी शिकायत का आधार रोहित की टाइम लाइन पर पोस्ट की गयी एक कविता को बनाया गया जो मूलतः हिन्दू देवता गणेश पर तेलुगु लेखक श्री श्री की लिखी कविता थी. इसी तरह एक और पोस्ट को निशाना बनाया गया जिसमें रोहित ने मजाक के लहजे में यह प्रश्न किया था की जिस तरह हम विनायक चतुर्थी मनाते हैं, उसी तरह सुपरमैन और स्पाइडरमैन जैसे सुपर सितारों के जन्मदिन क्यों नहीं मनाते? (दोनों स्क्रीन शॉट संलग्न हैं)

इस शिकायत का परिणाम यह हुआ कि रोहित को गिरफ्तार कर लिया गया और (जहाँ तक मुझे याद है) उसे दो दिन तक स्थानीय पुलिस की हिरासत में रखा गया. “रोहित को सबक सिखाने” में मिली इस सफलता को लेकर एबीवीपी के छात्र नेताओं में काफी उत्साह का माहौल था. रोहित को बाद में छोड़ दिया गया (इस प्रकरण की पूरी जानकारी उपलब्ध नहीं है) और उसने बाद में उसकी आवाज़ को जिस तरह दबाने की कोशिश की गयी उसे लेकर एक पोस्ट भी लिखा.

Shiv Sai Ram
Shiv Sai Ram

एबीवीपी के सदस्य के रूप में ऐसी असंख्य घटनाएं हैं जिनमें अपनी भागीदारी को लेकर में शर्मिन्दा हूँ, लेकिन यह एक घटना ऎसी है जो मेरे लिए सबसे अधिक पीड़ादायी है और जो मेरा पीछा नहीं छोड़ती है क्योंकि इसमे रोहित को जिस तरह निशाना बनाया गया उसमे मेरी भी सीधी भागीदारी रही थी. यह ऐसी अकेली घटना नहीं थी जिसमे रोहित को निशाना बनाया गया था. रोहित जिस किसी भी राजनीतिक दल से जुड़ा रहा वहां उसके निर्भीक और मुखर रवैये को लेकर एबीवीपी के वरिष्ठ सदस्यों में रोहित के प्रति जबरदस्त गुस्सा और नफ़रत थी. यही वजह थी कि वह लगातार ऑनलाइन और ऑफलाइन हमलों के निशाने पर रहता था. आज इसके बारे में माफ़ी नहीं माँगी जा सकती क्योंकि रोहित अब इस दुनिया में नहीं है, लेकिन जिस अवसर पर इस अपराध को अंजाम किया गया ठीक उसी दिन इस घृणा को जग जाहिर करना, जिसका शिकार उसे बनाया गया मुझे उस अपराध बोध से बाहर आने में मदद करता है जो मुझे इस दक्षिण पंथी संगठन से जुड़े रहने और इसके कृत्यों में शामिल होने के लिए कचोटता रहता है. मैं अपनी बातों के प्रमाण के रूप में विभिन्न स्क्रीन शॉट भी संलग्न कर रहा हूँ.

वे लोग जो आज इस बात को मानने से इनकार करते हैं की हिन्दुत्ववादी ताकतों ने रोहित को आत्महत्या के लिए मजबूर किया वे शायद यह नहीं जानते होंगे कि उसे लगातार किस तरह की गालियों, दुर्व्यवहारों और उत्पीड़नों का सामना करना पड़ता था जिनके चलते उसने संघ परिवार की जातिवादी-साम्प्रदायिक-फासीवादी राजनीति का डट कर मुकाबला करने का निर्णय लिया. इस तरह एक “संस्थागत क़त्ल” को अंजाम दिया गया. इस तरह दलित, आदिवासी और धार्मिक अल्पसंख्यकों जैसे हाशिये के समूहों को राज्य, पुलिस और हिन्दुत्ववादी समूह मिल कर “विच हंट” करते हैं. इन समूहों की हरकतों को सामने लाना और इनकी घृणा की राजनीति के विरुद्ध आवाज़ उठाने में शामिल होने के लिए अभी भी बहुत देर नहीं हुई है.

(हिमांशु पंड्या की फेसबुक दीवार से साभार)

31 COMMENTS

  1. My wife and i were quite joyous that Raymond could finish up his web research with the ideas he had in your site. It’s not at all simplistic just to continually be handing out information and facts the rest have been making money from. Therefore we fully understand we have got the website owner to be grateful to because of that. All the illustrations you made, the easy site navigation, the relationships you make it possible to instill – it is many exceptional, and it’s really making our son in addition to the family believe that that article is thrilling, which is certainly very vital. Many thanks for the whole lot!

  2. Spot on with this write-up, I really suppose this website wants rather more consideration. I’ll probably be once more to learn much more, thanks for that info.

  3. My programmer is trying to persuade me to move to .net from PHP. I have always disliked the idea because of the costs. But he’s tryiong none the less. I’ve been using Movable-type on numerous websites for about a year and am anxious about switching to another platform. I have heard very good things about blogengine.net. Is there a way I can import all my wordpress content into it? Any help would be greatly appreciated!

  4. hey there and thanks for your info – I’ve definitely picked up anything new from right here. I did however expertise a few technical points the use of this site, as I experienced to reload the web site a lot of times previous to I may get it to load properly. I had been puzzling over in case your web hosting is OK? Not that I am complaining, but slow loading circumstances occasions will very frequently impact your placement in google and could injury your high-quality score if advertising with Adwords. Well I am adding this RSS to my e-mail and can look out for a lot extra of your respective fascinating content. Ensure that you replace this again very soon..

  5. There are some exciting points in time in this post but I don’t know if I see all of them center to heart. There is some validity but I will take hold opinion till I look into it further. Beneficial article , thanks and we want a lot more!

  6. Pretty component to content. I just stumbled upon your website and in accession capital to assert that I get actually loved account your weblog posts. Anyway I’ll be subscribing to your feeds and even I achievement you get right of entry to constantly fast.

  7. Unquestionably believe that which you said. Your favorite justification seemed to be on the net the easiest thing to be aware of. I say to you, I certainly get irked while people consider worries that they just do not know about. You managed to hit the nail upon the top and defined out the whole thing without having side-effects , people could take a signal. Will likely be back to get more. Thanks

  8. I was wondering if you ever thought of changing the page layout of your blog? Its very well written; I love what youve got to say. But maybe you could a little more in the way of content so people could connect with it better. Youve got an awful lot of text for only having 1 or 2 images. Maybe you could space it out better?

  9. Wow! This can be one particular of the most beneficial blogs We have ever arrive across on this subject. Actually Magnificent. I am also an expert in this topic so I can understand your effort.

  10. Oh my goodness! an incredible write-up dude. Thank you However I’m experiencing issue with ur rss . Do not know why Unable to subscribe to it. Is there any person finding identical rss issue? Any one who knows kindly respond.

  11. Hello! I know this is kinda off topic but I’d figured I’d ask. Would you be interested in exchanging links or maybe guest authoring a blog article or vice-versa? My blog discusses a lot of the same topics as yours and I feel we could greatly benefit from each other. If you’re interested feel free to send me an email. I look forward to hearing from you! Fantastic blog by the way!

  12. Nice blog here! Also your website loads up fast! What host are you using? Can I get your affiliate link to your host? I wish my website loaded up as quickly as yours lol

  13. I’m very happy to read this. This is the kind of manual that needs to be given and not the random misinformation that’s at the other blogs. Appreciate your sharing this best doc.

  14. Aw, this was a genuinely nice post. In thought I would like to put in writing like this moreover – taking time and actual effort to create a very excellent article… but what can I say… I procrastinate alot and by no means appear to get some thing carried out.

  15. whoah this weblog is great i like reading your posts. Keep up the good paintings! You know, a lot of people are searching around for this information, you can aid them greatly.

  16. Unquestionably consider that that you stated. Your favourite justification seemed to be at the net the easiest factor to be aware of. I say to you, I definitely get irked at the same time as other people think about worries that they plainly do not recognise about. You managed to hit the nail upon the highest and also defined out the entire thing without having side-effects , other folks could take a signal. Will likely be back to get more. Thank you

  17. Hey there! Someone in my Myspace group shared this site with us so I came to check it out. I’m definitely enjoying the information. I’m book-marking and will be tweeting this to my followers! Outstanding blog and brilliant style and design.

  18. I simply wanted to type a small remark in order to say thanks to you for the fabulous concepts you are giving out at this website. My extended internet search has at the end been recognized with brilliant tips to write about with my good friends. I ‘d express that many of us site visitors actually are very fortunate to dwell in a really good network with many wonderful professionals with useful techniques. I feel very happy to have discovered the webpage and look forward to some more fabulous moments reading here. Thanks a lot once more for everything.

  19. We absolutely love your blog and find a lot of your post’s to be just what I’m looking for. Would you offer guest writers to write content for you personally? I wouldn’t mind creating a post or elaborating on a few of the subjects you write in relation to here. Cool site!

  20. I’m usually to blogging and i truly appreciate your content. The write-up has genuinely peaks my interest. I’m going to bookmark your web page and maintain checking for new information.

LEAVE A REPLY