Home आयोजन IIMC पूर्व छात्र संघ के बिहार चैप्‍टर में ऐसे उठी राजनीति और...

IIMC पूर्व छात्र संघ के बिहार चैप्‍टर में ऐसे उठी राजनीति और पत्रकारिता की अर्थी…

SHARE
स्‍वामी बकुल आनंद

स्‍वामी कल पाटलिपुत्र में था। IIMCAA (य़ानी आइआइएमसी के पूर्व-छात्रों का संगठन इमका) के बिहार चैप्टर में वह भी तमाशाई बना। इमका पर लिखने को बहुत कुछ है, पर संक्षेप में यह बता दिया जाए कि यह भारतीय जनसंचार संस्थान (आइआइएमसी) के पूर्व छात्रों का एक जबरिया संगठन है जो एनजीओ की तरह चलता है, बाकायदे पंजीकृत है, जहां सदस्‍यता के पैसे लगते हैं, जिसको लेकर पहले दो-तीन बार तीखी बहसें भी हो चुकी हैं।

स्‍वामी उस दौर में आइआइएमसी से निकला था जब यहां अपने बिहार के ही पूर्व छात्र और सीनियर गोपाल कृष्‍ण IIMCOSA यानी आइआइएमसी ओल्‍ड स्‍टुडेंट्स असोसिएशन नाम का पूर्व छात्र संगठन चलाते थे। आज भी इसमें 1000 के आसपास सदस्‍य हैं, लेकिन इनकी निष्क्रियता के चलते 2005-06 में संस्‍थान से निकले कुछ बहुमुखी प्रतिभा के पत्रकारों ने कुछ शिक्षकों की शह पर एक ‘फर्जी’ संगठन IIMCAA खड़ा कर लिया और कालांतर में वही पूर्व छात्रों के ‘असली’ संगठन के रूप में काम करने लगा। आज के कई नामचीन ‘पत्रकार’ इससे जुड़े हैं।

खैर, स्‍वामी तयशुदा समय 6.30 बजे कपिल्स एलेवन में था। भारतीय परंपरा के मुताबिक सबसे पहले, क्योंकि समय पर था। बाक़ी लोग 7.30 तक आए। कुल जमा 30 पत्रकार। पटना के नामचीन, लिक्खाड़, बोलक्कड़ और दिक्खाड़। प्रिंट से लेकर टीवी तक।

बात जब शुरू हुई तो ठेठ संघी परंपरा में पहिले ‘परिचय’ सत्र चला। उसके बाद तकरीबन आधे घंटे तक आत्ममुग्धता और छिछले अहंकार का थोथा प्रदर्शन। फिर पुरस्कार दिया गया, हालांकि मज़े की बात रही कि जिन चार को पुरस्कार मिलना था, वैसे ‘कैंपस वाले टीचर्स’ में से तीन लोग गायब थे। इसके बाद दिल्ली चैप्टर से आए IIMCAA के अघोषित कर्ताधर्ता रितेश जी ने पूरे आधे घंटे तक हिसाब-किताब समझाया, कई लाखों का, जो आइआइएमसीएए के विभिन्न चैप्टर्स को मिल रहा है। उसे किस तरह से खर्च होना है, कौन उसका ‘जुगाड़’ कर रहा है, किसको इसके लिए धन्यवाद मिलना चाहिए आदि पूरी तफसील से समझाया गया, कि आपको जुगुप्सा से उल्टी कर देने की इच्छा हो जाती।

तुरुप का पत्ता अभी बाकी था। बाक़ी के आधे घंटे रितेश जी ने यह समझाया, बल्कि ताकीद की, बल्कि धमकाया, कि इमका के मंच पर किसी भी तरह की राजनीतिक चर्चा नहीं होगी। है न मज़ेदार! जो राजनीति आपके रोजाना की रोटी तय करती है, उस पर आप बात भी नहीं करेंगे! और यह बात कह कौन रहा है? भारत के शीर्षस्थ पत्रकारिता संस्थान का पूर्व छात्र! बाक़ी बचे 29 नामचीन पत्रकार-संपादक उस पर सिर हिला रहे हैं, सहमति दे रहे हैं।

मतलब, कल इमका की बैठक में यह तय हो गया कि इतिहास का अंत हो गया है, विचारधाराएं मर चुकी हैं और इसके साथ ही पत्रकारिता की अर्थी उठ चुकी है! IIMC के इन पूर्व छात्रों के लिए  देश मर चुका है। यहां के इंसान बस चलती-फिरती लाशें हैं जो अपना ही सलीब ढोकर चल रहे हैं।

इसी आइआइएमसी की पूर्व छात्रा नवारुणा का मामला एक बार भी किसी की जुबान पर नहीं आया।  किसी ने उसे श्रद्धांजलि के लायक भी नहीं समझा। बात यहीं नहीं रुकी। साफ तौर पर 30 पत्रकारों ने कल पटना में यह तय कर दिया कि राजनीति की बातें नहीं होंगी। केवल नेताओं के चरण-चुंबन होंगे, पीआर होगा, नीरा राडिया आदर्श होंगी और तिहाड़ी पत्रकारिता ही अब मकसद होगा।

इसके बाद? इसके बाद क्या होना था? नीतीश कुमार के राज में मदिरा तो थी नहीं, बढ़िया खाना ज़रूर था। सो खाना हुआ दबाकर। हाहाहीही हुआ और उसके बाद…

25 COMMENTS

  1. obviously like your website but you need to check the spelling on several of your posts. Many of them are rife with spelling problems and I find it very bothersome to tell the truth nevertheless I will definitely come back again.

  2. I think this is among the most vital information for me. And i am glad reading your article. But should remark on few general things, The site style is wonderful, the articles is really excellent : D. Good job, cheers

  3. you’re really a good webmaster. The web site loading speed is incredible. It seems that you’re doing any unique trick. Furthermore, The contents are masterwork. you’ve done a fantastic job on this topic!

  4. Hi! This post couldn’t be written any better! Reading this post reminds me of my good old room mate! He always kept talking about this. I will forward this post to him. Fairly certain he will have a good read. Many thanks for sharing!

  5. Hmm is anyone else having problems with the pictures on this blog loading? I’m trying to figure out if its a problem on my end or if it’s the blog. Any feedback would be greatly appreciated.

  6. Hi, Neat post. There’s a problem with your web site in internet explorer, would check this… IE still is the market leader and a large portion of people will miss your fantastic writing due to this problem.

  7. great publish, very informative. I wonder why the other specialists of this sector do not realize this. You should continue your writing. I am confident, you’ve a huge readers’ base already!

  8. Excellent read, I just passed this onto a colleague who was doing a little research on that. And he just bought me lunch because I found it for him smile Therefore let me rephrase that: Thank you for lunch!

  9. Have you ever considered writing an e-book or gust writing on other websites? I have a blog based upon on the same subjects you discuss and would really like to have you share some stories/information. I know my audience would appreciate your work. If you are even remotely interested, feel free to shoot me an e-mail.

  10. Do you mind if I quote a couple of your articles as long as I provide credit and sources back to your site? My blog site is in the very same niche as yours and my visitors would genuinely benefit from some of the information you present here. Please let me know if this alright with you. Thank you!

  11. wonderful points altogether, you simply gained a new reader. What would you recommend in regards to your post that you made some days ago? Any positive?

  12. Excellent beat ! I would like to apprentice while you amend your website, how can i subscribe for a blog website? The account aided me a acceptable deal. I had been a little bit acquainted of this your broadcast provided bright clear concept

  13. Great work! This is the type of information that should be shared around the internet. Shame on the search engines for not positioning this post higher! Come on over and visit my website . Thanks =)

  14. Hello, i think that i saw you visited my website thus i came to “return the favor”.I am trying to find things to enhance my web site!I suppose its ok to use some of your ideas!!

  15. Excellent read, I just passed this onto a friend who was doing a little research on that. And he just bought me lunch as I found it for him smile Thus let me rephrase that: Thank you for lunch!

  16. I think this is among the most vital information for me. And i’m glad reading your article. But wanna remark on few general things, The web site style is great, the articles is really great : D. Good job, cheers

  17. With almost everything which appears to be developing throughout this subject matter, a significant percentage of viewpoints happen to be quite radical. However, I appologize, because I do not subscribe to your whole strategy, all be it stimulating none the less. It appears to us that your opinions are actually not totally rationalized and in fact you are yourself not even wholly confident of your argument. In any case I did enjoy reading it.

  18. Right after study a few of the weblog posts on your web page now, and I really like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark web-site list and will probably be checking back soon. Pls check out my website as well and let me know what you feel.

LEAVE A REPLY