Home आयोजन भारतभूषण अग्रवाल कविता पुरस्‍कार के विवाद पर लेखकों का निंदा-वक्‍तव्‍य: अद्यतन सूची

भारतभूषण अग्रवाल कविता पुरस्‍कार के विवाद पर लेखकों का निंदा-वक्‍तव्‍य: अद्यतन सूची

SHARE

वक्तव्य

हिन्दी जगत में साहित्यिक पुरस्कारों पर विवाद कोई नई बात नहीं है। पिछले कुछ समय से भारतभूषण अग्रवाल कविता पुरस्कार (जो ३५ वर्ष से कम आयु के कवि द्वारा लिखी गई वर्ष की सर्वश्रेष्ठ हिन्दी कविता के लिए दिया जाता है) विवाद के केन्द्र में रहा है और कविता के चयन पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं देखने को मिली हैं। लेकिन सोशल मीडिया और दूसरे मंचों पर कुछ पुरुष लेखकों ने, जिनमें युवा और प्रौढ़ दोनों तरह के लोग हैं, जिस भद्दे और आक्रामक स्त्री-विरोधी रवैये और अश्लील भाषा का प्रदर्शन किया है, उससे हम स्तब्ध हैं। दुख की बात यह है कि इनमें से अनेक लोग अपने को लोकतांत्रिक, उदारमना और कुछ तो वाम रुझान वाला मानते हैं।

पिछले साल पुरस्कार के लिए चयनित कवि शुभमश्री और उनकी कविता पर अशोभनीय और अपमानजनक ढंग से हमले किये गये थे। इस वर्ष अश्लील हमले का निशाना चयनकर्ता अनामिका को बनाया गया है। हमें डर है कि इससे एक ऐसी अस्वस्थ परम्परा की नींव पड़ रही है जिसके तहत हर तरह के स्त्रीद्वेषी, मर्दवादी विमर्श, सामन्ती मानसिकता के खुले प्रदर्शन और साहित्य जगत में लफ़ंगेपन को वैधता मिलेगी। दूसरी तरफ़ इसी समय अतिदक्षिणपंथी विचारों के नैतिक-प्रहरी और ट्रॉल भी सक्रिय हैं जो अपनी ज़हरीली भाषा के साथ, छद्मवेश में तरह-तरह के भ्रम और दुष्प्रचार फैलाने, और चरित्रहनन करने में मशग़ूल हैं।

हम सभी लेखकों और साहित्यप्रेमियों की चिंताओं के भागीदार हैं जो इस वस्तुस्थिति से परेशान हैं, और उन लेखकों के साथ एकजुटता व्यक्त करते हैं जिन्हें हाल ही में असभ्य और प्रतिक्रियावादी हमलों का निशाना बनाया गया है। समकालीन हिन्दी साहित्य सांस्कृतिक गुंडों, उनके भटके हुए अनुयायियों और प्रच्छन्न क़िस्म के फ़ाशीवादी दस्तों के लिए खुला कोई मैदान नहीं है।

शुभा

प्रशांत चक्रवर्ती

मंगलेश डबराल

मनमोहन

दूधनाथ सिंह

नरेश सक्सेना

असद ज़ैदी

राजेश जोशी

अली जावेद

अमिताभ

अनिल कुमार सिंह

अनीता वर्मा

अनुराग वत्स

अनवर सुहैल

अपर्णा अनेकवर्णा

अरुण माहेश्वरी

अशोक कुमार पांडेय

अानंदस्वरूप वर्मा

चंदन पांडेय

चंद्रकला त्रिपाठी

चमनलाल

देश निर्मोही

धीरेश सैनी

दुर्गाप्रसाद झाला

गिरिराज किराड़ू

गीता गैरोला

ईश मिश्रा

जवरीमल पारख

जया निगम

कात्यायनी

किरण शाहीन

कृष्णमोहन झा

कुलदीप कुमार

कुमार अंबुज

कुमार विक्रम

लाल्टू

लालबहादुर वर्मा

लीना मल्होत्रा

मदनगोपाल सिंह

मनीषा जैन

महरुद्दीन ख़ाँ

महेश वर्मा

मुकुल सरल

नरेन्द्र मौर्य

निर्मला गर्ग

नूर ज़हीर

पल्लव

पंकज चतुर्वेदी

पंकज श्रीवास्तव

परमेन्द्र सिंह

प्रत्यक्षा

प्रिदर्शन

अार चेतनक्रांति

रंजना अरगड़े

रंजीत वर्मा

रमेश उपाध्याय

रश्मि भारद्वाज

रवीन्द्र त्रिपाठी

ऋतुपर्णा मुद्राराक्षस

संजीव कुमार

सईद

समर्थ वशिष्ठ

संजीव चंदन

संज्ञा उपाध्याय

सरला माहेश्वरी

सीमा अाज़ाद

शालिनी जोशी

शिरीष मौर्य

सुमन केशरी

शिवप्रसाद जोशी

शीबा असलम फ़हमी

शेफ़ाली फ़्रॉस्ट

सुबोध लाल

सुजाता

सुशीला पुरी

सुषमा नैथानी

स्वप्निल श्रीवास्तव

तरुण भारतीय

त्रिभुवन

वंदना राग

वासंती दामले

विनोद दास

वीरेन्द्र यादव

व्योमेश शुक्ल

लवली गोस्‍वामी

संध्‍या नवोदिता

के. सच्चिदानंदन

दिगंबर 

3 COMMENTS

  1. मुझे इस वक्तव्य में शामिल माना जाए. बस एक बात है, यौन उत्पीड़न के सभी मामलों में ( सोशल मीडिया पर अश्लील टिप्पणी भी इस आपराधिक श्रेणी में आती है ) सरवाइवर का उल्लेख नहीं अपराधी का उल्लेख होना चाहिए. यानी यहाँ कृष्ण कल्पित और/या उनके लग्गू-भग्गुओं का उल्लेख अपेक्षित था, न कि हमारे दौर की दो महत्त्वपूर्ण कवियों का.

    यह वैधानिक और नैतिक दोनों रूप से ज्यादा सही होता.

  2. मैंने इसमें अपना नाम दर्ज करवाया था. इस सूची को भी क्या छानबीन करके बनाया गया है? मुझे त्रिलोचन का एक सोनेट याद आ रहा है–
    प्रगतिशील कवियों की नई लिस्ट निकली है
    उस में कहीं त्रिलोचन का तो नाम नहीं था।
    आँखें फाड़-फाड़ कर देखा, दोष नहीं था
    पर आँखों का। सब कहते हैं कि प्रेस छली है,
    शुद्धिपत्र देखा, उसमें नामों की माला
    छोटी न थी। यहाँ भी देखा, कहीं त्रिलोचन
    नहीं। तुम्हारा सुन सुन कर सपक्ष आलोचन
    कान पक गए थे, मैं ऐसा बैठाठाला
    नहीं, तुम्हारी बकझक सुना करूँ। पहले से
    देख रहा हूँ, किसी जगह उल्लेख नहीं है,
    तुम्हीं एक हो, क्या अन्यत्र विवेक नहीं है।
    तुम सागर लाँघोगे? – डरते हो चहले से।
    बड़े बड़े जो बात कहेंगे, सुनी जाएगी
    व्याख्याओं में उनकी व्याख्या चुनी जाएगी।
    बहरहाल मैं एक साधारण पाठक के तौर पर इस अभियान में खड़िया से अपना नाम लिख रहा हूँ….

  3. तकनिकी कारणों से मेरा नाम नहीं, लेकिन सनद रहे की उपरवाला पोस्ट मेरा लिखा है–
    दिगम्बर

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.