Home दस्तावेज़ हमारा मक़सद पूँजीवादी युद्धों की मुसीबतों का अंत करना है-भगत सिंह

हमारा मक़सद पूँजीवादी युद्धों की मुसीबतों का अंत करना है-भगत सिंह

SHARE
जश्न-ए-भगत सिंह–5

 

इंकलाब की तलवार विचारों की सान पर तेज़ होती है

 

(असेम्बली बम काण्ड पर यह अपील भगतसिंह द्वारा जनवरी, 1930 में हाई कोर्ट में की गयी थी। इसी अपील में ही उनका यह प्रसिद्द वक्तव्य था : “पिस्तौल और बम इंकलाब नहीं लाते, बल्कि इंकलाब की तलवार विचारों की सान पर तेज होती है और यही चीज थी, जिसे हम प्रकट करना चाहते थे।”)

माई लॉर्ड, हम न वकील हैं, न अंग्रेजी विशेषज्ञ और न हमारे पास डिग्रियाँ हैं। इसलिए हमसे शानदार भाषणों की आशा न की जाए। हमारी प्रार्थना है कि हमारे बयान की भाषा संबंधी त्रुटियों पर ध्यान न देते हुए, उसके वास्तवकि अर्थ को समझने का प्रयत्न किया जाए। दूसरे तमाम मुद्दों को अपने वकीलों पर छोड़ते हुए मैं स्वयं एक मुद्दे पर अपने विचार प्रकट करूंगा। यह मुद्दा इस मुकदमे में बहुत महत्वपूर्ण है। मुद्दा यह है कि हमारी नीयत क्या थी और हम किस हद तक अपराधी हैं।

विचारणीय यह है कि असेंबली में हमने जो दो बम फेंके, उनसे किसी व्यक्ति को शारीरिक या आर्थिक हानि नहीं हुई। इस दृष्टिकोण से हमें जो सजा दी गई है, वह कठोरतम ही नहीं, बदला लेने की भावना से भी दी गई है। यदि दूसरे दृष्टिकोण से देखा जाए, तो जब तक अभियुक्त की मनोभावना का पता न लगाया जाए, उसके असली उद्देश्य का पता ही नहीं चल सकता। यदि उद्देश्य को पूरी तरह भुला दिया जाए, तो किसी के साथ न्याय नहीं हो सकता, क्योंकि उद्देश्य को नजरों में न रखने पर संसार के बड़े-बड़े सेनापति भी साधारण हत्यारे नजर आएंगे। सरकारी कर वसूल करने वाले अधिकारी चोर, जालसाज दिखाई देंगे और न्यायाधीशों पर भी कत्ल करने का अभियोग लगेगा। इस तरह सामाजिक व्यवस्था और सभ्यता खून-खराबा, चोरी और जालसाजी बनकर रह जाएगी। यदि उद्देश्य की उपेक्षा की जाए, तो किसी हुकूमत को क्या अधिकार है कि समाज के व्यक्तियों से न्याय करने को कहे? यदि उद्देश्य की उपेक्षा की जाए, तो हर धर्म प्रचारक झूठ का प्रचारक दिखाई देगा और हरेक पैगंबर पर अभियोग लगेगा कि उसने करोड़ों भोले और अनजान लोगों को गुमराह किया । यदि उद्देश्य को भुला दिया जाए, तो हजरत ईसा मसीह गड़बड़ी फैलाने वाले, शांति भंग करने वाले और विद्रोह का प्रचार करने वाले दिखाई देंगे और कानून के शब्दों में वह खतरनाक व्यक्तित्व माने जाएंगे… अगर ऐसा हो, तो मानना पड़ेगा कि इनसानियत की कुरबानियां, शहीदों के प्रयत्न, सब बेकार रहे और आज भी हम उसी स्थान पर खड़े हैं, जहां आज से बीस शताब्दियों पहले थे। कानून की दृष्टि से उद्देश्य का प्रश्न खासा महत्व रखता है।

माई लॉर्ड, इस दशा में मुझे यह कहने की आज्ञा दी जाए कि जो हुकूमत इन कमीनी हरकतों में आश्रय खोजती है, जो हुकूमत व्यक्ति के कुदरती अधिकार छीनती है, उसे जीवित रहने का कोई अधिकार नहीं। अगर यह कायम है, तो आरजी तौर पर और हजारों बेगुनाहों का खून इसकी गर्दन पर है। यदि कानून उद्देश्य नहीं देखता, तो न्याय नहीं हो सकता और न ही स्थायी शांति स्थापित हो सकती है। आटे में संखिया मिलाना जुर्म नहीं, यदि उसका उद्देश्य चूहों को मारना हो। लेकिन यदि इससे किसी आदमी को मार दिया जाए, तो कत्ल का अपराध बन जाता है। लिहाजा, ऐसे कानूनों को, जो युक्ति (दलील) पर आधारित नहीं और न्याय के सिद्धांत के विरुद्ध है, उन्हें समाप्त कर देना चाहिए। ऐसे ही न्याय विरोधी कानूनों के कारण बड़े-बड़े श्रेष्ठ बौद्धिक लोगों ने बगावत के कार्य किए हैं।

हमारे मुकदमे के तथ्य बिल्कुल सादा हैं। 8 अप्रैल, 1929 को हमने सेंट्रल असेंबली में दो बम फेंके। उनके धमाके से चंद लोगों को मामूली खरोंचें आईं। चेंबर में हंगामा हुआ, सैकड़ों दर्शक और सदस्य बाहर निकल गए। कुछ देर बाद खामोशी छा गई। मैं और साथी बीके दत्त खामोशी के साथ दर्शक गैलरी में बैठे रहे और हमने स्वयं अपने को प्रस्तुत किया कि हमें गिरफ्तार कर लिया जाए। हमें गिरफ्तार कर लिया गया। अभियोग लगाए गए और हत्या करने के प्रयत्न के अपराध में हमें सजा दी गई। लेकिन बमों से 4-5 आदमियों को मामूली चोटें आईं और एक बेंच को मामूली नुकसान पहुंचा। जिन्होंने यह अपराध किया, उन्होंने बिना किसी किस्म के हस्तक्षेप के अपने आपको गिरफ्तारी के लिए पेश कर दिया। सेशन जज ने स्वीकार किया कि यदि हम भागना चाहते, तो भागने में सफल हो सकते थे। हमने अपना अपराध स्वीकार किया और अपनी स्थिति स्पष्ट करने के लिए बयान दिया। हमें सजा का भय नहीं है। लेकिन हम यह नहीं चाहते कि हमें गलत समझा जाए। हमारे बयान से कुछ पैराग्राफ काट दिए गए हैं, यह वास्तविकता की दृष्टि से हानिकारक है।

समग्र रूप में हमारे वक्तव्य के अध्ययन से साफ होता है कि हमारे दृष्टिकोण से हमारा देश एक नाजुक दौर से गुजर रहा है। इस दशा में काफी ऊंची आवाज में चेतावनी देने की जरूरत थी और हमने अपने विचारानुसार चेतावनी दी है। संभव है कि हम गलती पर हों, हमारा सोचने का ढंग जज महोदय के सोचने के ढंग से भिन्न हो, लेकिन इसका यह अर्थ नहीं कि हमें अपने विचार प्रकट करने की स्वीकृति न दी जाए और गलत बातें हमारे साथ जोडी जाएं।

‘इंकलाब जिंदाबाद और साम्राज्यवाद मुर्दाबाद’ के संबंध में हमने जो व्याख्या अपने बयान में दी, उसे उड़ा दिया गया है: हालांकि यह हमारे उद्देश्य का खास भाग है। इंकलाब जिंदाबाद से हमारा वह उद्देश्य नहीं था, जो आमतौर पर गलत अर्थ में समझा जाता है। पिस्तौल और बम इंकलाब नहीं लाते, बल्कि इंकलाब की तलवार विचारों की सान पर तेज होती है और यही चीज थी, जिसे हम प्रकट करना चाहते थे। हमारे इंकलाब का अर्थ पूंजीवादी युद्धों की मुसीबतों का अंत करना है। मुख्य उद्देश्य और उसे प्राप्त करने की प्रक्रिया समझे बिना किसी के संबंध में निर्णय देना उचित नहीं। गलत बातें हमारे साथ जोड्ना साफ अन्याय है।

इसकी चेतावनी देना बहुत आवश्यक था। बेचैनी रोज-रोज बढ़ रही है। यदि उचित इलाज न किया गया, तो रोग खतरनाक रूप ले लेगा। कोई भी मानवीय शक्ति इसकी रोकथाम न कर सकेगी। अब हमने इस तूफान का रुख बदलने के लिए यह कार्रवाई की। हम इतिहास के गंभीर अध्येता हैं। हमारा विश्वास है कि यदि सत्ताधारी शक्तियां ठीक समय पर सही कार्रवाई करतीं, तो फ्रांस और रूस की खूनी क्रांतियां न बरस पड़तीं। दुनिया की कई बड़ी-बड़ी हुकूमतें विचारों के तूफान को रोकते हुए खून-खराबे के वातावरण में डूब गइंर्। सत्ताधारी लोग परिस्थितियों के प्रवाह को बदल सकते हैं। हम पहले चेतावनी देना चाहते थे। यदि हम कुछ व्यक्तियों की हत्या करने के इच्छुक होते, तो हम अपने मुख्य उद्देश्य में विफल हो जाते। माई लॉर्ड, इस नीयत और उद्देश्य को दृष्टि में रखते हुए हमने कार्रवाई की और इस कार्रवाई के परिणाम हमारे बयान का समर्थन करते हैं। एक और नुक्ता स्पष्ट करना आवश्यक है। यदि हमें बमों की ताकत के संबंध में कतई ज्ञान न होता, तो हम पं. मोती लाल नेहरू, श्री केलकर, श्री जयकर और श्री जिन्ना जैसे सम्माननीय राष्ट्रीय व्यक्तियों की उपस्थिति में क्यों बम फेंकते? हम नेताओं के जीवन किस तरह खतरे में डाल सकते थे? हम पागल तो नहीं हैं? और अगर पागल होते, तो जेल में बंद करने के बजाय हमें पागलखाने में बंद किया जाता। बमों के संबंध में हमें निश्चित जानकारी थी। उसी कारण हमने ऐसा साहस किया। जिन बेंचों पर लोग बैठे थे, उन पर बम फेंकना कहीं आसान काम था, खाली जगह पर बमों को फेंकना निहायत मुश्किल था। अगर बम फेंकने वाले सही दिमागों के न होते या वे परेशान होते, तो बम खाली जगह के बजाय बेंचों पर गिरते। तो मैं कहूंगा कि खाली जगह के चुनाव के लिए जो हिम्मत हमने दिखाई, उसके लिए हमें इनाम मिलना चाहिए। इन हालात में, माई लार्ड, हम सोचते हैं कि हमें ठीक तरह समझा नहीं गया। आपकी सेवा में हम सजाओं में कमी कराने नहीं आए, बल्कि अपनी स्थिति स्पष्ट करने आए हैं। हम चाहते हैं कि न तो हमसे अनुचित व्यवहार किया जाए, न ही हमारे संबंध में अनुचित राय दी जाए। सजा का सवाल हमारे लिए गौण है।

.भगत सिंह

70 COMMENTS

  1. Its like you read my mind! You appear to know a lot about this, like you wrote the book in it or something.

    I think that you can do with a few pics to drive the message home a bit,
    but instead of that, this is fantastic blog.
    An excellent read. I’ll certainly be back.

  2. Howdy! I could have sworn I’ve been to this blog before but after checking through some of the post I realized it’s new
    to me. Anyhow, I’m definitely delighted I found it and I’ll be bookmarking and checking
    back frequently!

  3. obviously like your web site but you have to take a look at
    the spelling on several of your posts. Many of them are rife with spelling problems and I to find it very bothersome to inform the reality however I’ll certainly come again again.

  4. Hello there! I know this is kinda off topic however , I’d figured I’d ask.
    Would you be interested in trading links or
    maybe guest writing a blog post or vice-versa? My blog addresses a lot of the same topics as yours and I feel we could greatly benefit from each
    other. If you are interested feel free to send me an e-mail.
    I look forward to hearing from you! Terrific blog by the way!

  5. I’m truly enjoying the design and layout of your website.

    It’s a very easy on the eyes which makes it much more enjoyable for me to come here and visit more
    often. Did you hire out a developer to create your theme?
    Superb work!

  6. obviously like your website however you have
    to take a look at the spelling on several of your posts.
    Many of them are rife with spelling problems and I find it very bothersome to inform the reality then again I will certainly come
    again again.

  7. Great blog here! Also your web site loads up fast! What host are you using? Can I get your affiliate link to your host? I wish my web site loaded up as fast as yours lol

  8. F*ckin’ awesome issues here. I am very satisfied to peer your post. Thanks so much and i’m having a look forward to contact you. Will you please drop me a e-mail?

  9. My brother recommended I would possibly like this website. He was once totally right. This publish actually made my day. You cann’t consider simply how much time I had spent for this information! Thanks!

  10. You really make it seem so easy with your
    presentation but I in finding this matter to be really something which I feel
    I would by no means understand. It kind of feels too complicated and very extensive for me.
    I am taking a look ahead on your subsequent submit, I will attempt to get the cling of it!

  11. I’ve read some good stuff here. Definitely worth bookmarking for revisiting. I surprise how much effort you put to create such a fantastic informative site.

  12. What i don’t realize is if truth be told how you are not actually much more
    well-liked than you might be right now. You’re very intelligent.
    You already know therefore considerably in the case of this subject, produced me
    for my part consider it from numerous various angles.
    Its like men and women don’t seem to be interested unless
    it is something to do with Girl gaga! Your personal stuffs outstanding.
    All the time deal with it up!

  13. This is very interesting, You are a very skilled blogger.
    I’ve joined your rss feed and look forward to seeking more
    of your great post. Also, I’ve shared your website in my social networks!

  14. When I initially commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time a comment is
    added I get several emails with the same comment. Is there
    any way you can remove people from that service? Bless
    you!

  15. It’s remarkable to pay a visit this web page and reading the views of all colleagues about this piece of
    writing, while I am also zealous of getting experience.

  16. We’re a bunch of volunteers and opening a new scheme in our community.

    Your site offered us with helpful info to work on. You’ve performed an impressive activity and our entire community will be grateful to you.

  17. I am extremely impressed with your writing skills and also with
    the layout on your blog. Is this a paid theme or did you modify it yourself?

    Either way keep up the nice quality writing, it’s rare
    to see a nice blog like this one nowadays.

  18. My partner and I absolutely love your blog and find a lot of your post’s
    to be what precisely I’m looking for. Do you offer guest writers to write content in your case?
    I wouldn’t mind writing a post or elaborating on some
    of the subjects you write regarding here. Again, awesome web site!

  19. Attractive component to content. I simply stumbled upon your site and in accession capital to assert that
    I get actually enjoyed account your weblog posts.
    Anyway I will be subscribing on your augment and even I fulfillment
    you get admission to persistently fast.

  20. I have been exploring for a little for any
    high-quality articles or blog posts on this kind of house .

    Exploring in Yahoo I ultimately stumbled upon this web site.
    Studying this info So i’m happy to exhibit that I’ve a very excellent uncanny feeling I
    found out just what I needed. I most indisputably will make certain to don?t disregard
    this web site and provides it a glance regularly.

  21. Attractive section of content. I just stumbled upon your
    site and in accession capital to assert that I acquire in fact
    enjoyed account your blog posts. Any way I will be subscribing to your augment and even I achievement you access
    consistently fast.

  22. Hello, i think that i saw you visited my website thus i got here to go back the want?.I am attempting to to find
    issues to enhance my website!I suppose its good enough to
    make use of some of your ideas!!

  23. Thanks , I’ve just been searching for information about this subject for ages and yours is the best I’ve discovered till now. But, what about the bottom line? Are you sure about the source?

  24. What’s Happening i’m new to this, I stumbled upon this I’ve found It positively useful and it has helped me out loads.
    I am hoping to contribute & help different users like its aided me.
    Good job.

  25. Greetings, I do believe your web site might be having browser compatibility issues.
    When I look at your website in Safari, it looks fine but when opening in IE,
    it has some overlapping issues. I just wanted to give you a quick heads up!

    Apart from that, excellent website!

  26. I’ve been absent for some time, but now I remember why I used to love this blog. Thank you, I will try and check back more often. How frequently you update your website?

  27. When someone writes an article he/she keeps the plan of a user in his/her brain that how a user can be aware of it.
    So that’s why this post is outstdanding. Thanks!

  28. I’m not sure where you are getting your information,
    but great topic. I needs to spend some time
    learning more or understanding more. Thanks
    for great information I was looking for this information for my mission.

  29. Immediately after study a few of the weblog posts in your website now, and I genuinely like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark web page list and is going to be checking back soon. Pls take a look at my website as well and let me know what you feel.

  30. I do not even know the way I ended up here, but I
    believed this post was good. I do not recognize who you are however definitely you’re going to a famous blogger if you happen to are not already.
    Cheers!

  31. I will immediately seize your rss feed as I can’t in finding your e-mail subscription link or e-newsletter service. Do you have any? Please permit me know in order that I could subscribe. Thanks.

  32. Hello, i believe that i saw you visited my website so i came to “go back the choose”.I’m trying to find issues to enhance my web site!I suppose its good enough to make use of a few of your ideas!!

  33. You really make it seem so easy with your presentation but I find this matter to be
    really something which I think I would never understand.
    It seems too complex and extremely broad for me.
    I’m looking forward for your next post, I’ll try to get the hang of it!

  34. I was recommended this website by my cousin. I am not sure whether this post is written by him as no one
    else know such detailed about my trouble. You’re amazing!
    Thanks!

LEAVE A REPLY