Home दस्तावेज़ शिवसेना पर ‘सेक्युलर’ होने का भाजपाई तंज़ और शिवाजी के मुस्लिम सेनानायक...

शिवसेना पर ‘सेक्युलर’ होने का भाजपाई तंज़ और शिवाजी के मुस्लिम सेनानायक !

SHARE

महाराष्ट्र में कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाई। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने 28 नवंबर की शाम शिवाजी पार्क में आयोजित एक भव्य कार्यक्रम में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। इस गठबंधन पर तमाम सवाल उठ रहे हैं, जो जायज़ हैं, लेकिन बीजेपी की ओर से जिस तरह से इस मसले में शिवाजी को घसीटते हुए उन्हें ‘सेक्युलरिज़्म-विरोधी’  (सांप्रदायिक) साबित करने के कोशिश की गई वह बेहद आपत्तिजनक है। ‘आज तक’ पर शपथ ग्रहण समारोह के प्रसारण के दौरान टिप्पणी करते हुए बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि शिवसेना तो शिवाजी को मानती है और शिवाजी क्या थे उस पर भूषण का लिखा पढ़ा जाना चाहिए। उन्होंने भूषण की एक कविता का हवाला देते हुए कहा कि शिवाजी ने म्लेच्छों (मुग़लों) के सीने पर सवार होकर अपना साम्राज्य बनाया था। इशारा, शिवाजी को मुस्लिम विरोधी साबित करना था। यानी कि ‘मुस्लिम परस्त’ कांग्रेस और एनसीपी के साथ ‘मुस्लिम विरोधी’ शिवाजी को मानने वालों की सरकार पाप है।

संबित पात्रा की ‘पतरा’ में संभव है कि यही सब लिखा होगा लेकिन है यह शिवाजी का अपमान। शिवाजी ने राज-काज में कभी धार्म के आधार पर भेदभाव नहीं किया। उलटा उनका ‘हिंदवी साम्राज्य’ बीजापुरी मुस्लिम सिपाहियों समेत तमाम मुस्लिम सेनानायकों की कुर्बानियों से बना था। अफ़सोस कि यह सिर्फ़ पात्रा नहीं मानते, बीजेपी के आईटी सेल के ज़रिये यह बात बहुत गहरे पहुँचाई गई है। इसलिए यह जानना ज़रूरी है कि शिवाजी का मुग़ल साम्राज्य का विरोध, किसी धर्म का विरोध नहीं था। फिलहाल हम उनके तमाम मुस्लिम सेनानायकों की बात करेंगे-

 

शिवाजी के मुस्लिम सेनानायक

 

शिवाजी के पास अनेक मुसलमान सेनानायक, मुखिया और नौकर थे और वे उच्च उत्तरदायित्वपूर्ण पदों पर आसीन थे।

शिवाजी का तोपख़ाना प्रमुख एक मुसलमान था। उसका नाम इब्राहिम ख़ान था। तोपख़ाना, यानी फ़ौज का एक महत्वपूर्ण विभाग, उसके पास था, तोपें यानी उस युग के सर्वाधिक विकसित हथियार। क़िले के युद्ध में उनका बड़ा महत्व होता है। ऐसे तोपख़ाने का प्रमुख एक मुसलमान था।

नौसेना की स्थापना को छत्रपति शिवाजी महाराज की दूरंदेशी का उदाहरण माना जाता है और यह ठीक भी है। कोंकण पट्टी की विस्तृत भूमि समुद्र के समीप थी। इस सारे क्षेत्र की सुरक्षा के लिए नौसेना अपरिहार्य थी। शिवाजी ने उसे तैयार किया और ऐसे महत्वपूर्ण विभाग का प्रमुख भी एक मुसलमान सेनानायक ही था। उसका नाम था दौलत ख़ान, दर्यासारंग दौलत ख़ान।

शिवाजी के ख़ास अंगरक्षकों में और निजी नौकरों में बहुत ही विश्वसनीय मदारी मेहतर शामिल था। आगरे से फ़रारी के नाटकीय प्रकरण में इस विश्वसनीय मुसलमान साथी ने शिवाजी का साथ क्यों दिया ? शिवाजी मुस्लिम-विरोधी होते तो शायद ऐसा नहीं होता।

शिवाजी के पास जो कई मुसलमान चाकर थे, उनमें क़ाज़ी हैदर भी एक था। सालेरी के युद्ध के बाद, औरंगज़ेब के अधीन दक्षिण के अधिकारियों ने, शिवाजी के साथ मित्रता क़ायम करने के लिए एक ब्राह्मण वक़ील भेजा तो उसके उत्तर में शिवाजी ने क़ाज़ी हैदर को मुग़लों के पास भेजा, यानी मुसलमानों का वकील हिंदू और हिंदुओं का वक़ील मुसलमान। उस युग में, यदि समाज का विभाजन हिंदू-विरुद्ध-मुसलमान होता तो ऐसा नहीं होता।

सिद्दी हिलाल, ऐसा ही एक मुसलमान सरदार शिवाजी के साथ था। सन 1660 में शिवाजी ने रुस्तम जमा और फ़ाज़ल ख़ान को रायबाग के पास हराया। इस समय सिद्दी हिलाल शिवाजी के पक्ष में लड़ा। उसी प्रकार जब सन 1660 में सिद्दी जौहर ने पन्हालगढ़ किले की घेराबंदी की, तब नेताजी पालकर ने उसकी सेना पर घात लगाकर घेराबंदी उठवाने का प्रयास किया, उस समय भी हिलाल और उसका पुत्र नेताजी के साथ थे। इस भिड़ंत में सिद्दी हिलाल का पुत्र बाहबाह ज़ख़्मी हुआ और पकड़ लिया गया। सिद्दी हिलाल,अपने पुत्र के साथ, ‘हिंदू शिवाजी’ की ओर से मुसलमानों के विरुद्ध लड़ा।

इन युद्धों का स्वरूप यदि वल हिंदू बनाम मुसलमान रहता, तो परिणाम क्या होता ? “सभासद बखर” के पृष्ठ 76 पर शिवाजी के ऐसे ही एक शिलेदार का उल्लेख है। उसका नाम शमाख़ान था। राजवाड़े कृत “मराठों के इतिहास के स्रोत” पुस्तक के खंड 17 पृष्ठ 17 पर “नूरख़ान बेग़” का उल्लेख शिवाजी का सरनोबत कह कर किया गया है।

स्पष्ट है कि ये सरदार अकेले नहीं थे। अपने अधीनस्थ सिपाहियों के साथ वे शिवाजी की सेवा में थे।

परंतु इससे अधिक महत्वपूर्ण एक अन्य प्रामाणिक साक्ष्य है। उससे शिवाजी महाराज की मुस्लिम धर्मानुयायी सिपाहियों के प्रति नीति स्पष्ट होती है।

रियासतकार सरदेसाई द्वारा लिखित “सामर्थ्यवान शिवाजी” पुस्तक में से यह उदाहरण देखिए-

सन 1648 के आसपास बीजापुर की फ़ौज के पाँच-सात सौ पठान शिवाजी के पास नौकरी हेतु पहुँचे, तब गोमाजी नाईक पानसंबल ने उन्हें सलाह दी, जिसे उचित मान शिवाजी ने स्वीकार कर लिया और आगे भी वही नीति क़ायम रखी। नाईक ने कहा, “आपकी प्रसिद्धि सुनकर ये लोग आये हैं, उन्हें निराश करके वापस भेजना उचित नहीं है। हिंदुओं को ही इकट्ठा करो, औरों से वास्ता नहीं रखो- यदि यह समझ क़ायम रखी तो राज्य प्राप्ति नहीं होगी। जिसे शासन करना हो, उसे अठारह जातियों, चारों वर्ण के लोगों को, उनके जाति सम्प्रदाय के अनुरूप, संगठित करना चाहिए।”

सन 1648 के, जबकि अभी शिवाजी के समपूर्ण शासन की स्थापना होनी थी, उपरोक्त उदाहरण से यह स्पष्ट अभिव्यक्त हो जाता है कि उनके शासन क़ायम करने की नीति का आधार क्या था।

शिवाजी से संबंधित चरित्रग्रंथ में ग्रांट डफ़ ने भी पृष्ठ 129 पर गोमाजी नाईक की सलाह का उल्लेख करते हुए कहा है-

“इसके बाद शिवाजी ने अपनी सेना में मुसलमानों को भी शामिल कर लिया और राज्य स्थापना में वे बहुत ही उपयोगी सिद्ध हुए।”

शिवाजी के सरदार और शिवाजी की सेना, केवल हिंदूधर्मी नहीं थी। यह भी स्पष्ट है कि उनमें मुस्लिम सम्प्रदाय के लोगों की भी भर्ती की गई थी। यदि शिवाजी मुस्लिम सम्प्रदाय को समाप्त करने का कार्य कर रहे होते तो वे मुसलमान शिवाजी के पास नहीं ठहरते। शिवाजी मुसलमान शासकों के अत्याचारी शासन की समाप्ति हेतु निकले थे। प्रजा की चिंता करने वाले शासन की स्थापना हेतु निकल पड़े थे, इसीलिए मुसलमान भी उनके कार्य में हिस्सेदार बने।

मुख्य प्रश्न धर्म का नहीं था। शासन का प्रश्न प्रमुख था। धर्म मुख्य नहीं था, राज्य प्रमुख था। धर्मनिष्ठा मुख्य नहीं थी, राज्यनिष्ठा और स्वामीनिष्ठा प्रमुख थी।

पुनश्च: शिवाजी मुस्लिम साधु, पीर-फ़कीरों का काफ़ी सम्मान करते थे। मुस्लिम संत याक़ूत बाबा को तो शिवाजी अपना गुरु मानते थे। उनके राज्य में मस्जिदों और दरगाहों में दिया-बाती, धूप-लोबान आदि के लिए नियमित ख़र्च दिया जाता था।

 

लेखक मीडिया विजिल के संस्थापक संपादक हैं।

 



 

1 COMMENT

  1. मोदी जी स्वामी विवेकानंद को अपना गुरु बताते हैं । वैसे यह संबंध वैसा ही है जैसा स्वामी रामदेव का अपने गुरु से संबंध जो कि हरिद्वार में रहस्यमई परिस्थितियों में गायब हो गए थे/ करवा दिए गए थे । स्वामी विवेकानंद के गुरु स्वामी रामकृष्ण परमहंस ने हिंदू धर्म ही नहीं इस्लाम और ईसाई धर्म की भी स्वयं साधना करी थी और सब धर्मों को समान बताया था । अल्मोड़ा की यात्रा के समय भूख प्यास से बेहाल हुए स्वामी विवेकानंद के प्राण अल्मोड़ा के ही एक मुस्लिम फकीर ने खीरे का रस पिलाकर बचाए रखें । कबीर, नानक, साईं बाबा ,रसखान कितने उदाहरण गिनाए जाए ।अब क्या बताया जाए । लगता है यह ईश्वर ही धर्मनिरपेक्ष टाइप की शक्ति है । इसी सत्य को भाजपा आरएसएस ने पहचान लिया है इसीलिए उनके (राजनीतिक )ईश्वर का आम जनमानस के सरल सहज ईश्वर से कोई संबंध नहीं लगता है ।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.