Home दस्तावेज़ पूर्ण स्वतंत्रता तब है जब लोग घुल-मिल कर रहें-भगत सिंह

पूर्ण स्वतंत्रता तब है जब लोग घुल-मिल कर रहें-भगत सिंह

SHARE
जश्न-ए-भगत सिंह–3

धर्म और हमारा स्वतन्त्रता संग्राम

अमृतसर में 11-12-13 अप्रैल को राजनीतिक कान्फ्रेंस हुई और साथ ही युवकों की भी कान्फ्रेंस हुई। दो-तीन सवालों पर इसमें बड़ा झगड़ा और बहस हुई। उनमें से एक सवाल धर्म का भी था। वैसे तो धर्म का प्रश्न कोई न उठाता, किन्तु साम्प्रदायिक संगठनों के विरुद्ध प्रस्ताव पेश हुआ और धर्म की आड़ लेकर उन संगठनों का पक्ष लेने वालों ने स्वयं को बचाना चाहा। वैसे तो यह प्रश्न और कुछ देर दबा रहता, लेकिन इस तरह सामने आ जाने से स्पष्ट बातचीत हो गयी और धर्म की समस्या को हल करने का प्रश्न भी उठा। प्रान्तीय कान्फ्रेंस की विषय समिति में भी मौलाना जफर अली साहब के पाँच-सात बार खुदा-खुदा करने पर अध्यक्ष पण्डित जवाहरलाल ने कहा कि इस मंच पर आकर खुदा-खुदा न कहें। आप धर्म के मिशनरी हैं तो मैं धर्महीनता का प्रचारक हूँ। बाद में लाहौर में भी इसी विषय पर नौजवान सभा ने एक मीटिंग की। कई भाषण हुए और धर्म के नाम का लाभ उठाने वाले और यह सवाल उठ जाने पर झगड़ा हो जाने से डर जाने वाले कई सज्जनों ने कई तरह की नेक सलाहें दीं।

सबसे ज़रूरी बात जो बार-बार कही गयी और जिस पर श्रीमान भाई अमरसिंह जी झबाल ने विशेष ज़ोर दिया, वह यह थी कि धर्म के सवाल को छेड़ा ही न जाये। बड़ी नेक सलाह है। यदि किसी का धर्म बाहर लोगों की सुख-शान्ति में कोई विघ्न डालता हो तो किसी को भी उसके विरुद्ध आवाज़ उठाने की जरूरत हो सकती है? लेकिन सवाल तो यह है कि अब तक का अनुभव क्या बताता है? पिछले आन्दोलन में भी धर्म का यही सवाल उठा और सभी को पूरी आज़ादी दे दी गयी। यहाँ तक कि कांग्रेस के मंच से भी आयतें और मंत्र पढ़े जाने लगे। उन दिनों धर्म में पीछे रहने वाला कोई भी आदमी अच्छा नहीं समझा जाता था। फलस्वरूप संकीर्णता बढ़ने लगी। जो दुष्परिणाम हुआ, वह किससे छिपा है? अब राष्ट्रवादी या स्वतंत्रता प्रेमी लोग धर्म की असलियत समझ गये हैं और वही उसे अपने रास्ते का रोड़ा समझते हैं।

बात यह है कि क्या धर्म घर में रखते हुए भी, लोगों के दिलों में भेदभाव नहीं बढ़ता? क्या उसका देश के पूर्ण स्वतंत्रता हासिल करने तक पहुँचने में कोई असर नहीं पड़ता? इस समय पूर्ण स्वतंत्रता के उपासक सज्जन धर्म को दिमागी गु़लामी का नाम देते हैं। वे यह भी कहते हैं कि बच्चे से यह कहना कि ईश्वर ही सर्वशक्तिमान है, मनुष्य कुछ भी नहीं, मिट्टी का पुतला है, बच्चे को हमेशा के लिए कमज़ोर बनाना है। उसके दिल की ताक़त और उसके आत्मविश्वास की भावना को ही नष्ट कर देना है। लेकिन इस बात पर बहस न भी करें और सीधे अपने सामने रखे दो प्रश्नों पर ही विचार करें तो हमें नज़र आता है कि धर्म हमारे रास्ते में एक रोड़ा है। मसलन हम चाहते हैं कि सभी लोग एक-से हों। उनमें पूँजीपतियों के ऊँच-नीच की छूत-अछूत का कोई विभाजन न रहे। लेकिन सनातन धर्म इस भेदभाव के पक्ष में है। बीसवीं सदी में भी पण्डित, मौलवी जी जैसे लोग भंगी के लड़के के हार पहनाने पर कपड़ों सहित स्नान करते हैं और अछूतों को जनेऊ तक देने की इन्कारी है। यदि इस धर्म के विरुद्ध कुछ न कहने की कसम ले लें तो चुप कर घर बैठ जाना चाहिये, नहीं तो धर्म का विरोध करना होगा। लोग यह भी कहते हैं कि इन बुराइयों का सुधार किया जाये। बहुत खूब! अछूत को स्वामी दयानन्द ने जो मिटाया तो वे भी चार वर्णों से आगे नहीं जा पाये। भेदभाव तो फिर भी रहा ही। गुरुद्वारे जाकर जो सिख ‘राज करेगा खालसा’ गायें और बाहर आकर पंचायती राज की बातें करें, तो इसका मतलब क्या है?

धर्म तो यह कहता है कि इस्लाम पर विश्वास न करने वाले को तलवार के घाट उतार देना चाहिये और यदि इधर एकता की दुहाई दी जाये तो परिणाम क्या होगा? हम जानते हैं कि अभी कई और बड़े ऊँचे भाव की आयतें और मंत्रा पढ़कर खींचतान करने की कोशिश की जा सकती है, लेकिन सवाल यह है कि इस सारे झगड़े से छुटकारा ही क्यों न पाया जाये? धर्म का पहाड़ तो हमें हमारे सामने खड़ा नज़र आता है। मान लें कि भारत में स्वतंत्रता-संग्राम छिड़ जाये। सेनाएँ आमने-सामने बन्दूकें ताने खड़ी हों, गोली चलने ही वाली हो और यदि उस समय कोई मुहम्मद गौरी की तरहµजैसी कि कहावत बतायी जाती हैµआज भी हमारे सामने गायें, सूअर, वेद-क़ुरान आदि चीज़ें खड़ी कर दे, तो हम क्या करेंगे? यदि पक्के धार्मिक होंगे तो अपना बोरिया-बिस्तर लपेटकर घर बैठ जायेंगे। धर्म के होते हुए हिन्दू-सिख गाय पर और मुसलमान सूअर पर गोली नहीं चला सकते। धर्म के बड़े पक्के इन्सान तो उस समय सोमनाथ के कई हजार पण्डों की तरह ठाकुरों के आगे लोटते रहेंगे और दूसरे लोग धर्महीन या अधर्मी-काम कर जायेंगे। तो हम किस निष्कर्ष पर पहुँचे? धर्म के विरुद्ध सोचना ही पड़ता है। लेकिन यदि धर्म के पक्षवालों के तर्क भी सोचे जायें तो वे यह कहते हैं कि दुनिया में अँधेरा हो जायेगा, पाप पढ़ जायेगा। बहुत अच्छा, इसी बात को ले लें।

रूसी महात्मा टॉल्स्टॉय ने अपनी पुस्तक (Essay and Letters) में धर्म पर बहस करते हुए उसके तीन हिस्से किये किये हैं —

1. Essentials of Religion, यानी धर्म की ज़रूरी बातें अर्थात सच बोलना, चोरी न करना, गरीबों की सहायता करना, प्यार से रहना, वगै़रा।

2. Philosophy of Religion, यानी जन्म-मृत्यु, पुनर्जन्म, संसार-रचना आदि का दर्शन। इसमें आदमी अपनी मर्जी के अनुसार सोचने और समझने का यत्न करता है।

3. Rituals of Religion, यानी रस्मो-रिवाज़ वगै़रा। मतलब यह कि पहले हिस्से में सभी धर्म एक हैं। सभी कहते हैं कि सच बोलो, झूठ न बोलो, प्यार से रहो। इन बातों को कुछ सज्जनों ने Individual Religion कहा है। इसमें तो झगड़े का प्रश्न ही नहीं उठता। वरन यह कि ऐसे नेक विचार हर आदमी में होने चाहिये। दूसरा फिलासफी का प्रश्न है। असल में कहना पड़ता है कि Philosophy is the out come of Human weakness, यानी फिलासफी आदमी की कमजोरी का फल है। जहाँ भी आदमी देख सकते हैं। वहाँ कोई झगड़ा नहीं। जहाँ कुछ नज़र न आया, वहीं दिमाग लड़ाना शुरू कर दिया और ख़ास-ख़ास निष्कर्ष निकाल लिये। वैसे तो फिलासफी बड़ी जरूरी चीज़ है, क्योंकि इसके बगै़र उन्नति नहीं हो सकती, लेकिन इसके साथ-साथ शान्ति होनी भी बड़ी ज़रूरी है। हमारे बुजुर्ग कह गये हैं कि मरने के बाद पुनर्जन्म भी होता है, ईसाई और मुसलमान इस बात को नहीं मानते। बहुत अच्छा, अपना-अपना विचार है। आइये, प्यार के साथ बैठकर बहस करें। एक-दूसरे के विचार जानें। लेकिन ‘मसला-ए-तनासुक’ पर बहस होती है तो आर्यसमाजियों व मुसलमानों में लाठियाँ चल जाती हैं। बात यह कि दोनों पक्ष दिमाग को, बुद्धि को, सोचने-समझने की शक्ति को ताला लगाकर घर रख आते हैं। वे समझते हैं कि वेद भगवान में ईश्वर ने इसी तरह लिखा है और वही सच्चा है। वे कहते हैं कि कुरान शरीफ़ में खु़दा ने ऐसे लिखा है और यही सच है। अपने सोचने की शक्ति, (Power of Reasoning) को छुट्टी दी हुई होती है। सो जो फिलासफी हर व्यक्ति की निजी राय से अधिक महत्त्व न रखती हो तो एक ख़ास फिलासफी मानने के कारण भिन्न गुट न बनें, तो इसमें क्या शिकायत हो सकती है।

अब आती है तीसरी बात – रस्मो-रिवाज़। सरस्वती-पूजावाले दिन, सरस्वती की मूर्ति का जुलूस निकलना ज़रूरी है उसमें आगे-आगे बैण्ड-बाजा बजना भी ज़रूरी है। लेकिन हैरीमन रोड के रास्ते में एक मस्जिद भी आती है। इस्लाम धर्म कहता है कि मस्जिद के आगे बाजा न बजे। अब क्या होना चाहिये? नागरिक आज़ादी का हक (Civil rights of citizen) कहता है कि बाज़ार में बाज़ा बजाते हुए भी जाया जा सकता है। लेकिन धर्म कहता है कि नहीं। इनके धर्म में गाय का बलिदान ज़रूरी है और दूसरे में गाय की पूजा लिखी हुई है। अब क्या हो? पीपल की शाखा कटते ही धर्म में अन्तर आ जाता है तो क्या किया जाये? तो यही फिलासफी व रस्मो-रिवाज़ के छोटे-छोटे भेद बाद में जाकर (National Religion) बन जाते हैं और अलग-अलग संगठन बनने के कारण बनते हैं। परिणाम हमारे सामने है।

सो यदि धर्म पीछे लिखी तीसरी और दूसरी बात के साथ अन्धविश्वास को मिलाने का नाम है, तो धर्म की कोई ज़रूरत नहीं। इसे आज ही उड़ा देना चाहिये। यदि पहली और दूसरी बात में स्वतंत्रा विचार मिलाकर धर्म बनता हो, तो धर्म मुबारक है।

लेकिन अगल-अलग संगठन और खाने-पीने का भेदभाव मिटाना ज़रूरी है। छूत-अछूत शब्दों को जड़ से निकालना होगा। जब तक हम अपनी तंगदिली छोड़कर एक न होंगे, तब तक हमें वास्तविक एकता नहीं हो सकती। इसलिए ऊपर लिखी बातों के अनुसार चलकर ही हम आजादी की ओर बढ़ सकते हैं। हमारी आज़ादी का अर्थ केवल अंग्रेजी चंगुल से छुटकारा पाने का नाम नहीं, वह पूर्ण स्वतंत्रता का नाम है जब लोग परस्पर घुल-मिलकर रहेंगे और दिमागी गुलामी से भी आज़ाद हो जायेंगे।

भगत सिंह

(धर्म की समस्या पर प्रकाश डालता भगत सिंह का यह लेख मई, 1928 के ‘किरती’ में छपा । ‘किरती ‘अमृतसर से निकलने वाली पंजाबी पत्रिका थी।)

92 COMMENTS

  1. I feel that is among the so much important info for
    me. And i’m happy studying your article. However want to
    commentary on few normal issues, The web site taste is great, the articles is
    in point of fact great : D. Just right activity, cheers

  2. When I initially commented I clicked the “Notify me when new comments are added”
    checkbox and now each time a comment is added I get several e-mails with
    the same comment. Is there any way you can remove people from that
    service? Thanks a lot!

  3. Wow, marvelous blog layout! How long have you been blogging for?
    you make blogging look easy. The overall look of your web site is fantastic, let alone the content!

  4. Howdy! This is kind of off topic but I need some advice
    from an established blog. Is it hard to set up your own blog?
    I’m not very techincal but I can figure things out pretty quick.
    I’m thinking about making my own but I’m not sure where to begin.
    Do you have any ideas or suggestions? Thank you

  5. You actually make it appear so easy with your presentation however I in finding this matter to be
    actually one thing which I think I’d by no means understand.
    It kind of feels too complicated and extremely vast for me.
    I am having a look forward on your subsequent publish, I’ll try
    to get the cling of it!

  6. Hello would you mind letting me know which web
    host you’re utilizing? I’ve loaded your blog in 3 completely different
    web browsers and I must say this blog loads a lot faster then most.
    Can you recommend a good web hosting provider at a reasonable price?
    Cheers, I appreciate it!

  7. Thank you for the good writeup. It in fact was a
    amusement account it. Look advanced to more added agreeable
    from you! However, how could we communicate?

  8. Its like you read my mind! You seem to know so much about
    this, like you wrote the book in it or something. I think that you can do with a few pics to drive the message home a bit, but instead of that,
    this is magnificent blog. A fantastic read. I’ll certainly be
    back.

  9. I really like your blog.. very nice colors & theme.
    Did you design this website yourself or did you hire someone to do it
    for you? Plz reply as I’m looking to design my own blog
    and would like to know where u got this from. many thanks

  10. I blog frequently and I seriously thank you for your content.

    This article has truly peaked my interest. I’m going to take
    a note of your website and keep checking for new information about once per week.

    I subscribed to your RSS feed as well.

  11. Attractive component of content. I just stumbled upon your blog and in accession capital to say that
    I acquire in fact loved account your blog posts. Anyway I will be subscribing on your feeds or even I fulfillment you
    get admission to consistently quickly.

  12. Hi, I think your blog might be having browser compatibility issues. When I look at your blog in Firefox, it looks fine but when opening in Internet Explorer, it has some overlapping. I just wanted to give you a quick heads up! Other then that, terrific blog!

  13. Hi there, You’ve done a great job. I’ll certainly digg
    it and personally recommend to my friends. I am sure they will be benefited from this site.

  14. It is perfect time to make some plans for the future and it is time to be happy. I have read this post and if I could I wish to suggest you some interesting things or tips. Maybe you can write next articles referring to this article. I wish to read even more things about it!

  15. I’m really impressed along with your writing skills as smartly as with the layout on your weblog. Is this a paid subject matter or did you customize it yourself? Anyway stay up the nice quality writing, it’s rare to look a great blog like this one today..

  16. I’m really enjoying the theme/design of your blog. Do you ever run into any web browser compatibility issues? A few of my blog audience have complained about my website not operating correctly in Explorer but looks great in Opera. Do you have any recommendations to help fix this problem?

  17. Hiya, I am really glad I have found this info. Today bloggers publish only about gossips and net and this is actually frustrating. A good site with exciting content, that is what I need. Thanks for keeping this site, I’ll be visiting it. Do you do newsletters? Can not find it.

  18. Hey I am so thrilled I found your weblog, I really found you
    by error, while I was browsing on Aol for something else,
    Regardless I am here now and would just like to say kudos for a remarkable post and a all round thrilling blog (I also love the theme/design), I
    don’t have time to read it all at the moment but I
    have saved it and also added in your RSS feeds, so when I
    have time I will be back to read much more, Please
    do keep up the superb job.

  19. Thank you for another informative blog. The place else
    may I get that type of information written in such a perfect means?
    I’ve a venture that I’m simply now working on,
    and I’ve been on the glance out for such information.

  20. Appreciating the persistence you put into your site and detailed information you
    offer. It’s nice to come across a blog every once in a while that isn’t the same outdated
    rehashed information. Great read! I’ve bookmarked your site and I’m including your RSS feeds to my Google account.

  21. Hello, i think that i saw you visited my web site thus i came to “return the favor”.I’m trying to
    find things to enhance my site!I suppose its ok to use
    some of your ideas!!

  22. Woah! I’m really enjoying the template/theme of this blog.
    It’s simple, yet effective. A lot of times it’s
    challenging to get that “perfect balance” between usability and appearance.
    I must say you’ve done a very good job with this.
    In addition, the blog loads super quick for
    me on Safari. Superb Blog!

  23. Hey this is kinda of off topic but I was wanting to know if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually
    code with HTML. I’m starting a blog soon but have no coding skills so I wanted to get guidance from someone with experience.
    Any help would be greatly appreciated!

  24. Thank you, I’ve just been looking for information approximately this subject for a long time and
    yours is the greatest I have discovered so far. But, what concerning the conclusion? Are you sure
    in regards to the source?

  25. Hi would you mind sharing which blog platform you’re working with?
    I’m planning to start my own blog soon but I’m having a hard time selecting between BlogEngine/Wordpress/B2evolution and Drupal.
    The reason I ask is because your layout seems different then most blogs and
    I’m looking for something completely unique.
    P.S Apologies for being off-topic but I had to ask!

  26. I’m really enjoying the design and layout of your website.

    It’s a very easy on the eyes which makes it much more pleasant for
    me to come here and visit more often. Did you hire out
    a developer to create your theme? Fantastic work!

  27. Have you ever thought about writing an ebook or guest authoring on other blogs? I have a blog based on the same information you discuss and would love to have you share some stories/information. I know my visitors would enjoy your work. If you are even remotely interested, feel free to shoot me an e mail.

  28. Hello, I think your website might be having browser compatibility issues.
    When I look at your blog in Chrome, it looks fine but when opening in Internet Explorer, it has some
    overlapping. I just wanted to give you a quick heads up!
    Other then that, terrific blog!

  29. Excellent post. I was checking continuously this weblog and I am inspired!
    Very useful info specifically the remaining part :
    ) I take care of such info much. I used to be seeking this certain information for a
    long time. Thanks and good luck.

  30. Howdy! Quick question that’s completely off topic. Do you know how to make your site mobile friendly? My site looks weird when viewing from my iphone 4. I’m trying to find a theme or plugin that might be able to fix this problem. If you have any recommendations, please share. Thank you!

  31. Hi exceptional website! Does running a blog such as this require a great deal of work?
    I have no understanding of coding but I was hoping to
    start my own blog soon. Anyhow, should you have any ideas or techniques for new blog owners
    please share. I know this is off topic however I just
    wanted to ask. Thank you!

  32. You can find some exciting points in time in this article but I do not know if I see all of them center to heart. There’s some validity but I will take hold opinion until I look into it further. Beneficial article , thanks and we want a lot more!

  33. Thanks , I’ve just been looking for info
    about this topic for ages and yours is the best I’ve found out so far.
    However, what in regards to the bottom line? Are you sure concerning the supply?

  34. My partner and I stumbled over here by a different web page and thought
    I might as well check things out. I like what I see so
    now i am following you. Look forward to going over your web
    page again.

  35. This is really interesting, You are a very skilled blogger.
    I’ve joined your feed and look forward to seeking more
    of your great post. Also, I’ve shared your website in my social networks!

  36. My brother suggested I might like this blog. He was totally right.
    This post truly made my day. You cann’t imagine just how much
    time I had spent for this information! Thanks!

  37. Wow that was unusual. I just wrote an really long comment but after
    I clicked submit my comment didn’t show up. Grrrr… well I’m not writing all that over again.
    Anyways, just wanted to say wonderful blog!

  38. Hello! I’ve been following your web site for a while now and finally
    got the bravery to go ahead and give you a shout out from Huffman Texas!
    Just wanted to mention keep up the excellent work!

  39. Very nice post. I simply stumbled upon your
    blog and wished to mention that I’ve truly enjoyed browsing your weblog posts.

    In any case I will be subscribing on your rss feed
    and I am hoping you write again very soon!

  40. Most of whatever you point out is supprisingly appropriate and it makes me wonder the reason why I hadn’t looked at this in this light previously. Your article truly did turn the light on for me as far as this specific subject matter goes. Nevertheless there is actually 1 factor I am not really too comfy with so while I try to reconcile that with the actual central theme of the point, allow me observe just what all the rest of the visitors have to say.Well done.

  41. I’ve been surfing online greater than 3 hours lately, but I never discovered any fascinating article like yours. It’s pretty worth enough for me. In my view, if all webmasters and bloggers made excellent content as you probably did, the web will be much more helpful than ever before.

  42. Does your website have a contact page? I’m having trouble locating it but, I’d like to
    shoot you an email. I’ve got some creative ideas for your blog you might be interested in hearing.
    Either way, great blog and I look forward to seeing it grow over time.

  43. This can be the proper weblog for any individual who desires to find out about this topic. You comprehend so a lot its virtually tough to argue with you (not that I essentially would want…HaHa). You absolutely put a brand new spin on a subject thats been written about for years. Wonderful stuff, just good!

LEAVE A REPLY