Home दस्तावेज़ एक पत्रकार ने ख़ुद से पूछा-जीवन क्या जिया? यूँ हिंदी को मिला...

एक पत्रकार ने ख़ुद से पूछा-जीवन क्या जिया? यूँ हिंदी को मिला पहला थिसारस !

SHARE

मुक्तिबोध पूछते हैं–अब तक क्या किया, जीवन क्या जिया..? …..इस सवाल का सामना करना आसान नहीं। 1930 में जन्मे अरविंद कुमार तब लगभग 43 साल के थे जब एक सुबह की सैर के दौरान उनके ज़ेहन में यह सवाल कौंधा । तब वह फ़िल्म जगत से हिंदी पाठकों को परिचित कराने वाली, टाइम्स ऑफ़ इंडिया ग्रुप की सुरुचिपूर्ण पत्रिका माधुरी के संपादक थे। फ़िल्मों की चकमक रंगीन दुनिया को बेहद क़रीब से देख रहे अरविंद कुमार को  इस सवाल पर जिस निस्सारता का अनुभव हुआ वह हिंदी जगत के लिए एक ऐतिहासिक घटना बन गई। यूँ तो हिंदी के नाम पर रोने वालों की एक  बड़ी दुनिया है, लेकिन बिना वेतन और वज़ीफ़े के हिंदी संसार को समृद्ध करने का जुनून दिखाने वाले गिनती के हैं। अरविंद कुमार ने तय किया कि वे हिंदी का थिसारस  (संपूर्ण शब्द भंडार या कोश)  बनाकर जीवन सार्थक करेंगे,  जिसका अभाव एक बड़ा सवाल था।  उन्होंने नौकरी छोड़ दी और तमाम तक़लीफ़ों और अड़चनों के बावजूद अपनी पत्नी कुसुम कुमार के अनन्य सहयोग से थिसारस बनाने का संकल्प पूरा करने में क़ामयाब हुए। … उस घटना के आज 43 साल बीत चुके हैं और इस जोड़ी की वजह से हिंदी के पास अपना थिसारस (समांतर कोश) ही नहीं, हिंदी-अँग्रेज़ी का द्विभाषी थिसारस भी है। मीडिया विजल इस दम्पति का आभार जताते हुए उनके सुखी और स्वस्थ जीवन की कामना करता है। उन्होंने प्रश्नाकुलता से भरी उस सुबह की वर्षगाँठ पर आज अपनी फ़ेसबुक वॉल पर जो लिखा है, वह साभार यहाँ प्रस्तुत है—संपादक  

 

हमेँ उत्साह से भरती उगते मायावी चालाक सूरज की सुनहरी किरणेँ

आज से तैँतालीस पहले सन 1973 के दिसंबर की 27 तारीख़ की जीवन बदल डालने वाली वह सुहानी सुबह हम कभी नहीँ भूल सकते. हम लोग बदस्तूर सुबह की सैर के लिए बंबई के (आजकल इसे मुंबई कहते हैँ, काफ़ी स्थानीय लोग तब भी मुंबई ही कहते थे. लेकिन उन दिनोँ उस महानगर का नाम बंबई था, तो) बंबई के हैंगिंग गार्डन छः बजते बजते पहुँच गए थे. हैंगिंग गार्डन का एक फेरा नपे नपाए 600 मीटर का होता था. हम लोग नियम से 5 फेरे लगाते थे – यानी तीन किलोमीटर…

मुझे बंबई मेँ दस साल हो चुके थे. माधुरी का संपादन करते दस साल हो गए थे. अजीब सी ऊब होने लगी थी. मैँ सोचता अकसर अठारह घंटे प्रति दिन व्यस्त रहने के बाद मेरी अपनी उपलब्धि क्या है? मात्र यही कि मैँ ने यह पार्टी अटैंड की, वह प्रीमियर देखा.

 

क्योँ? किस लिए? कब तक?
क्योँ? किस लिए? कब तक?
क्योँ? किस लिए? कब तक?

 

पिछली रात हम लोग किसी पार्टी से देरी से लौटे थे. मेरी आँखोँ मेँ नीँद नहीँ थी. मन वितृष्णा से भरा था. देर देर तक यह जागना – किस लिए? मन मेँ वह सपना फिर कौँधा… हिंदी मेँ थिसारस का सपना. उस किताब का सपना जो मैँ सोचता था कभी न कभी कोई दूसरा बनाएगा. वह दूसरा अभी तक नहीँ आया था. अभी तक किसी ने वह बनाई नहीँ थी. हिंदी मेँ उस जैसी किताब की कमी अखरने वाली थी. उस रात मुझे कुछ ज़्यादा ही अखर रही थी. तभी विचार कौँधा:
किसी ने वह किताब नहीँ बनाई, तो मतलब है – मैँ ही वह किताब बनाने को पैदा हुआ हूँ. सपना मेरा है. कोई ग़ैर क्योँ पूरा करेगा मेरा सपना! सफ़र मेरा है, मुझे ही तय करना होगा!

तो उस सुबह पहले फेरे मेँ मैँ ने कुसुम से मन की बात कही. मैँ ने यह भी साफ़ कर दिया कि हो सकता है इस काम के लिए मुझे नौकरी छोड़नी पड़े. आर्थिक तंगियोँ का सामना करना पड़ सकता है. अकसर वह तुरंत ‘हाँ’ नहीँ करतीँ. उस सुबह मेरी बात सुनते ही उन्होँ ने ‘हाँ’ कर दी. निश्चय ही उस दिन कुसुम की ज़बान पर सरस्वती विराजी थीँ. हम दोनोँ इस अहसास से ओतप्रोत हो गए कि हम कोई बड़ा काम करने जा रहे हैँ. चारोँ ओर हमेँ ऐडवैंचर पर निकलने का रोमांच और रोमांस दिखाई दिया.पर मेरी उम्र, मानसिकता और परिस्थिति स्पेनी उपन्यास के पात्र डौन किहोटे जैसे ऐडवैंचरिज़्म की नहीँ थी.

दूसरे फेरे मेँ हम ने अपने पक्ष के प्लस पाइंटोँ को गिना. दिल्ली मेँ माडल टाउन मेँ हमारा घर था. पिताजी, अम्माँ, छोटा भाई सुबोध सपरिवार वहाँ रहते थे. मकान का कुछ हिस्सा किराए पर हुआ करता था. अब वह ख़ाली हो गया था. हमेँ एक कमरा मिल सकता था. मकान मेँ एक मियानी भी थी. वहाँ हम किताब का काम लगा सकते थे.

तीसरे फेरे मेँ हम ने माइनस पाइंट गिने. हमारे दो बच्चे थे, जो पढ़ रहे थे. जानबूझ कर हम उन के जीवन को दाँव पर नहीँ लगाना चाहते थे. न ऐसा करने का हमेँ अधिकार था. हम पर कुछ कर्ज़ था. सन 1971 मेँ मैँ ने ऐंबैसेडर कार ख़रीदी थी. इंश्योरेंस आदि सब मिला कर बाईस हज़ार पड़े थे. सोलह हज़ार का ऐडवांस कंपनी से लिया था. बाक़ी छह हज़ार तत्कालीन जनरल मैनेजर डाक्टर तरनेजा की सिफ़ारिश से बंबई मेँ टाइम्स के वितरक से कर्ज़ लिया था. वह सब बोझ पूरी तरह उतरने का समय था अप्रैल 1978. तब बच्चे भी पढ़ाई की ऐसी स्टेज पर पहुँचने वाले थे कि हम शहर बदल सकेँ. सुमीत बारहवीँ पास कर लेगा. मीता आठवीँ. बचत के नाम पर पास मेँ कुछ नहीँ था. कुछ कंपनियोँ मेँ हम ने पैसा सूद पर लगा रखा था. वह न के बराबर था. आत्मनिर्भर होने के लिए हमेँ कुछ करना होगा – यह अप्रैल 1978 तक करना होगा.

चौथा फेरा इस की उधेड़बुन मेँ बीता. हमेँ ख़र्चा तत्काल कम करना होगा. अब तक छोटे मोटे ख़र्चों की फ़िक्र हम नहीँ करते थे. अब हाथ खीँचना होगा. बचत बढ़ानी होगी. घर रईसोँ की बस्ती नेपियन सी रोड पर ज़रूर था, क्योँ कि कंपनी से मिला था, पर हम रईस नहीँ थे. सन 45 से तब तक मेरा जीवन कभी दफ़्तर से ऐडवांस चुकाने मेँ, कभी किसी ज़रूरी काम के लिए, जैसे माडल टाउन मेँ मकान बनाने के लिए, जो उधार लिए गए थे, वही उतारने मेँ बीता था. अब कोई कर्ज़ा नहीँ था. घर मेँ साज़ सामान नहीँ के बराबर था. सोफ़ा सैट तक नहीँ था. हम वह ख़रीदने वाले थे. अब नहीँ ख़रीदेँगे. इस तरह का कोई बड़ा ख़र्च अब हम नहीँ करेँगे. बचत बढ़ाने के तरीक़े सोचे गए. प्राविडैंट फ़ंड के नाम पर तनख़्वाह का दस प्रति शत कटता था. फ़ैसला लिया गया कि अब से बीस प्रति शत कटवाया जाए. आज दफ़्तर पहुँचते ही पहला काम इस की अर्ज़ी देने का करूँगा. हमारा लक्ष्य कुल दो लाख रुपए था. यह किसी तरह पूरा नहीँ हो रहा था. जोड़ तोड़ कर के बात नहीँ बनी, तो सोचा कि पूरी रक़म एक साथ हाथ मेँ होना ज़रूरी नहीँ है. ग्रेचुइटी से मिलने वाली संभावित राशि इस मेँ जोड़ दी जाए… तो चलो, जैसे तैसे दो लाख हो जाएँगे. किसी तरह दिल्ली मेँ थोड़ा बहुत काम भी कर लेँगे… शायद कहीँ से कोई अनुदान मिल जाए. फिर तो…

यूँ भी – मैँ ने अनुमान लगाया था कि हम दोनोँ मिल कर किताब दो साल मेँ बना लेँगे. दो साल गुज़ारने लायक़ क्षमता तो हम मेँ होगी ही. बाद मेँ तो रायल्टी मिलती रहेगी !

पाँचवाँ फेरा. इस मेँ हम ने यह सोच विचार किया कि किताब के लिए क्या तैयारियाँ करनी होँगी, और कैसे अप्रैल 78 तक हम अपने आप को आवश्यक उपकरणोँ से लैस कर लेँगे. संदर्भ ग्रंथ ख़रीदने होँगे. अभी तो बँधी आय है, इसी मद मेँ ख़र्च करेँगे. काम कार्डों पर किया जाएगा. जैसे कार्ड चाहिएँ, वैसे मैँ डिज़ाइन कर के छपवा लूँगा. नौकरी छोड़ने से पहले सुबह शाम किताब पर काम कर के देखेँगे. जब पूरा अनुभव हो जाए, हाथ सध जाए, तभी दिल्ली जाएँगे. निश्चित तारीख़ तक यह सब हो जाएगा, और सारा काम हमारी योजना के अनुसार होगा, दो साल मेँ किताब तैयार होगी – हम ने पूर्णतः अपने को आश्वस्त कर लिया.

उगता मायावी चालाक सूरज पेड़ोँ की फुनगियोँ को और हमारे दृष्टिकोण को सुनहरी किरणोँ से रंग रहा था. राह के गड्ढोँ और काँटोँ को हमारी नज़रोँ से ओझल कर रहा था. कभी कभी आदमी को ऐसे ही छलिया सूरजोँ की ज़रूरत होती है. ऐसे सूरज न उगेँ, तो नए प्रयास शायद कभी न होँ. हमेँ सारा भविष्य सुनहरा लगने लगा. ख़ुशी ख़ुशी हम लोग माउंट प्लैज़ेंट रोड के ढलान से उतर कर नेपियन सी रोड पर प्रेम मिलन नाम की इमारत मेँ सातवीँ मंज़िल पर 76वेँ फ़्लैट पर लौट आए. मैँ दफ़्तर जाते ही प्राविडैंट फ़ंड की राशि बढ़वाने वाले आवेदन का मज़मून बनाने लगा….

28 COMMENTS

  1. Hello, Neat post. There is an issue with your site in internet explorer, would check this… IE still is the marketplace chief and a large portion of other folks will omit your wonderful writing due to this problem.

  2. naturally like your web site but you need to check the spelling on quite a few of your posts. Several of them are rife with spelling problems and I find it very troublesome to tell the truth nevertheless I will definitely come back again.

  3. Nice post. I used to be checking continuously this weblog and I am inspired! Extremely helpful information particularly the closing part 🙂 I take care of such information a lot. I used to be seeking this particular information for a long time. Thanks and best of luck.

  4. I like what you guys are up too. Such intelligent work and reporting! Keep up the excellent works guys I’ve incorporated you guys to my blogroll. I think it’ll improve the value of my site 🙂

  5. This design is wicked! You obviously know how to keep a reader amused. Between your wit and your videos, I was almost moved to start my own blog (well, almost…HaHa!) Wonderful job. I really enjoyed what you had to say, and more than that, how you presented it. Too cool!

  6. Attractive section of content. I just stumbled upon your web site and in accession capital to claim that I get actually loved account your weblog posts. Anyway I’ll be subscribing to your augment and even I fulfillment you get right of entry to consistently fast.

  7. I haven’t checked in here for a while as I thought it was getting boring, but the last several posts are great quality so I guess I will add you back to my everyday bloglist. You deserve it my friend 🙂

  8. I simply want to say I am beginner to blogging and site-building and honestly loved your blog. Almost certainly I’m want to bookmark your blog . You surely come with excellent writings. Thank you for sharing with us your web site.

  9. I have been surfing online more than 3 hours today, yet I never found any interesting article like yours. It’s pretty worth enough for me. Personally, if all web owners and bloggers made good content as you did, the internet will be a lot more useful than ever before.

  10. I love your blog.. very nice colors & theme. Did you make this website yourself or did you hire someone to do it for you? Plz answer back as I’m looking to construct my own blog and would like to know where u got this from. many thanks

  11. Woah! I’m really digging the template/theme of this website. It’s simple, yet effective. A lot of times it’s difficult to get that “perfect balance” between superb usability and visual appeal. I must say that you’ve done a excellent job with this. In addition, the blog loads super quick for me on Opera. Exceptional Blog!

  12. Fantastic beat ! I wish to apprentice while you amend your web site, how could i subscribe for a blog web site? The account helped me a acceptable deal. I had been tiny bit acquainted of this your broadcast provided bright clear idea

  13. Generally I don’t read article on blogs, but I would like to say that this write-up very forced me to try and do it! Your writing style has been surprised me. Thanks, very nice post.

  14. Heya! I just wanted to ask if you ever have any trouble with hackers? My last blog (wordpress) was hacked and I ended up losing months of hard work due to no back up. Do you have any methods to prevent hackers?

  15. I’m extremely impressed along with your writing talents and also with the structure in your weblog. Is that this a paid topic or did you modify it yourself? Anyway stay up the nice quality writing, it is rare to look a great blog like this one nowadays..

  16. This design is spectacular! You certainly know how to keep a reader amused. Between your wit and your videos, I was almost moved to start my own blog (well, almost…HaHa!) Fantastic job. I really loved what you had to say, and more than that, how you presented it. Too cool!

  17. I not to mention my pals came reading the excellent things located on your website and then quickly came up with a horrible feeling I had not expressed respect to the site owner for them. All the women were for that reason glad to read all of them and now have very much been having fun with those things. Appreciate your actually being simply helpful and also for pick out some incredibly good tips most people are really eager to learn about. My personal sincere apologies for not expressing appreciation to sooner.

  18. Hiya, I am really glad I have found this info. Today bloggers publish just about gossips and web and this is actually irritating. A good blog with interesting content, this is what I need. Thanks for keeping this site, I will be visiting it. Do you do newsletters? Can’t find it.

  19. Heya i am for the first time here. I found this board and I find It truly useful & it helped me out much. I hope to provide one thing again and aid others like you aided me.

  20. Hey! This is kind of off topic but I need some help from an established blog. Is it hard to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty fast. I’m thinking about making my own but I’m not sure where to start. Do you have any tips or suggestions? Cheers

  21. Hi there! Quick question that’s completely off topic. Do you know how to make your site mobile friendly? My website looks weird when viewing from my apple iphone. I’m trying to find a theme or plugin that might be able to fix this problem. If you have any suggestions, please share. With thanks!

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.