Home दस्तावेज़ ‘महान हिंदू’ गाँधी की हत्या ‘हिंदुत्व’ ने की ! पाकिस्तान की प्रतिक्रिया...

‘महान हिंदू’ गाँधी की हत्या ‘हिंदुत्व’ ने की ! पाकिस्तान की प्रतिक्रिया का गोडसेवादी दावा झूठा है !

SHARE

इस तस्वीर में महात्मा गाँधी के साथ उनके रक्त से सनी मिट्टी भी दिख रही है। आज़ाद भारत की पहली आतंकवादी कार्रवाई थी गाँधी जी की हत्या। इस हत्या को ‘जायज़’ ठहराने के लिए दशकों से संघी दुष्प्रचार जारी है कि गाँधी जी आज़ादी के बाद पाकिस्तान को 55 करोड़ रुपये दिलाने के लिए अनशन कर रहे थे जिससे नाराज़ ‘देशभक्त’ नाथूराम गोडसे ने उनकी जान ले ली। गोया यह कोई तात्कालिक आवेश में किया गया कृत्य था। हद तो यह भी है कि लट्ठपाणियों के इस अहर्निश प्रचार का एक अंश यह भी है कि गोली मारने के पहले नाथूराम ने उनके चरण स्पर्श भी किए जो बताता है कि वह गांधी जी की कितनी इज़्ज़त करता था। “गाँधी वध क्यों” नाम की पुस्तिका आरएसएस से जुड़े संगठनों के दफ़्तरों से लगातार बेची गई। (ध्यान दें ‘वध’ शब्द का इस्तेमाल किया गया है जैसे पौराणिक कथाओं के देवता ने राक्षस को मारा हो!)

हक़ीकत बिलकुल उलट है। गांधीजी को पहले भी चार बार मारने की कोशिश हुई थी। तब भी जब पाकिस्तान का विचार भी नहीं जनमा था।

1. गाँधी जी की जान लेने का पहला प्रयास पुणे में 25 जून 1934 को हुआ। वे नगर निगम में भाषण देने जा रहे थे लेकिन कार खराब हो गई जिससे पहुँचने में विलंब हो गया। उनके काफिले में शामिल दूसरी गाड़ियाँ जब सभास्थल पर पहुंचीं, तब उन पर बम फेंका गया।

2. गाँधी जी को मारने की दूसरी कोशिश 1944 में हुई और इसमें नाथूराम गोडसे भी शामिल था। मई 1944 में गाँधी जी पंचगनी में थे। करीब 20 युवकों के जत्थे ने उनके खिलाफ दिन भर पर प्रदर्शन किया, लेकिन बुलाने पर गाँधी जी से मिलने नहीं गये। शाम को प्रार्थना सभा में हाथ में खंजर लिए नाथूराम गांधीजी की तरफ लपका लेकिन उसे पकड़ लिया गया।

3. सितंबर 1944 में जब जिन्ना के साथ गाँधीजी की बातचीत शुरू हुई, तब उन्हें मारने की तीसरी कोशिश हुई। गाँधी जी सेवाग्राम मुंबई जा रहे थे, तब नाथूराम के नेतृत्व में उन्हें रोकने की कोशिश की गई। उस वक्त भी नाथूराम के पास से से एक खंजर बरामद हुआ था।

4. गाँधीजी को मारने की चौथी कोशिश 20 जनवरी 1948 को हुई। इसमें शामिल थे मदनलाल पाहवा, शंकर किस्तैया, दिगम्बर बड़गे, विष्णु करकरे, गोपाल गोडसे, नाथूराम गोडसे और नारायण आपटे। मदनलाल पाहवा ने बिड़ला भवन स्थित मंच के पीछे की दीवार पर कपड़े में लपेट कर बम रखा था, जहाँ उन दिनों गांधी रुके थे। बम फटा लेकिन कोई हताहत नहीं हुआ। पाहवा पकड़ा गया। समूह में शामिल अन्य लोगों को भगदड़ के बीच गाँधीजी पर गोलियां चलानी थीं, लेकिन शायद वे डर गए।

आखिरकार पाँचवीं कोशिश में षड़यंत्रकारी सफल हुए और 30 जनवरी 1948 को गाँधी जी की हत्या कर दी गई। आरएसएस और हिंदू महासभा से दीक्षित नाथूराम गोडसे ने इस कुकृत्य को अंजाम दिया था। उसे गोली चलानी आती थी लेकिन इस “देशभक्त” ने किसी अंग्रेज़ को कभी कंकड़ से भी नहीं मारा था। गोडसे, सावरकर का शिष्य था जो ख़ुद भी गाँधी जी की हत्या के षड़यंत्र में शामिल थे। मुकदमें उनके ख़िलाफ़ गवाही भी हो गई थी, लेकिन उसकी पुष्टि करने वाला दूसरा गवाह न मिलने की वजह से तकनीकी कारणों से वे छोड़ दिए गये। बहरहाल, साठ के दशक में जस्टिस जीवनलाल कपूर आयोग इस नतीजे पर पहुँचा कि सावरकर की योजना के तहत ही गाँधी की हत्या हुई।

सावरकर ने 1923 में ‘हिंदुत्व’ नाम की किताब लिखी थी जो एक तरह से अंग्रेजों से मिली ‘दया रिहाई’ का प्रतिदान था। सावरकर ने बाकायदा अंग्रेज़ों से माफी माँगकर अंडमान की सेल्युलर जेल से रिहाई हासिल की थी। जीवन के पहले दौर में क्रांतिकारी सावरकर हिंदू-मुस्लिम एकता के पक्षधर थे, लेकिन अब अंग्रेज़ी नीति के अनुसार हिंदुओं और मुसलमानों के बीच युद्ध कराने को जीवन का लक्ष्य बना बैठे थे।

सावरकर ने ना सिर्फ जिन्ना के द्विराष्ट्रवादी सिद्धांत  का समर्थन किया था बल्कि हिंदू महासभा के अध्यक्ष के नाते इसे परवान भी चढ़ाया था। आरएसएस लगातार अंग्रेज़ों का साथ देने की नीति पर चलता रहा।

उधर, गाँधीजी ख़ुद को वैष्णव कहते थे जिसकी कसौटी ही ‘पराई पीर’ को अपना समझना था। वे अहिंसा को मंत्र बनाकर दुनिया के सबसे ताकतवर साम्राज्य के ख़िलाफ भारत की जनता को जागृत कर रहे थे। लेकिन सावरकर का ‘हिंदुत्व’ ऐसे किसी हिंदू को बरदाश्त करने के लिए तैयार नहीं था जो शांति, समन्वय और अहिंसा की बात करे। जो ईश्वर के साथ अल्लाह का नाम लेने का ‘गुनाह’ करे।

आख़िरकार ‘हिंदुत्व’ ने दुनिया के सबसे सम्मानित हिंदू की जान ले ली। सरदार पटेल ने ख़ुफ़िया रपटों के आधार पर लिखा था कि आरएसएस ने महात्मा गाँधी की हत्या के बाद मिठाई बँटवाई। आरएसएस और हिंदू महासभा के बनाए माहौल ने महात्मा की जान ले ली। उन्होंने आरएसएस पर प्रतिबंध लगा दिया। यह प्रतिबंध तभी हटा जब आरएसएस ने लिखित संविधान बनाने और केवल सांस्कृतिक संगठन बतौर काम करने का शपथपत्र दिया।

 

 

 

 

डॉ.पंकज श्रीवास्तव

(लेखक पत्रकार हैं और इतिहास में पीएच.डी भी हैं।)

नोट—आज बहुत से लोग बिना विचारे हिंदुत्व शब्द का रिश्ता हिंदू धर्म से जोड़ देते हैं। जबकि ख़ुद सावरकर ने स्पष्ट किया है कि यह धर्म नहीं एक राजनीतिक विचार है। ग़ौर करने वाली बात यह है कि गीता, रामायण, महाभारत,वेद, पुराण या किसी और धार्मिक ग्रंथ में ‘हिंदुत्व’ शब्द  नहीं मिलता।

27 COMMENTS

  1. I’m really enjoying the design and layout of your website. It’s a very easy on the eyes which makes it much more enjoyable for me to come here and visit more often. Did you hire out a developer to create your theme? Superb work!

  2. I would like to thank you for the efforts you’ve put in writing this website. I’m hoping the same high-grade web site post from you in the upcoming also. In fact your creative writing abilities has encouraged me to get my own web site now. Really the blogging is spreading its wings quickly. Your write up is a good example of it.

  3. Hello There. I found your blog using msn. This is a really well written article. I will make sure to bookmark it and return to read more of your useful info. Thanks for the post. I’ll definitely comeback.

  4. Today, I went to the beach with my kids. I found a sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She put the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear. She never wants to go back! LoL I know this is totally off topic but I had to tell someone!

  5. I was just searching for this info for a while. After six hours of continuous Googleing, finally I got it in your web site. I wonder what’s the lack of Google strategy that do not rank this type of informative web sites in top of the list. Usually the top websites are full of garbage.

  6. When I originally commented I clicked the -Notify me when new feedback are added- checkbox and now each time a remark is added I get four emails with the same comment. Is there any method you possibly can take away me from that service? Thanks!

  7. whoah this blog is excellent i love reading your articles. Keep up the great work! You know, a lot of people are searching around for this information, you could aid them greatly.

  8. Does your website have a contact page? I’m having a tough time locating it but, I’d like to send you an email. I’ve got some recommendations for your blog you might be interested in hearing. Either way, great website and I look forward to seeing it develop over time.

  9. Thank you for another fantastic article. Where else could anybody get that kind of info in such an ideal way of writing? I have a presentation next week, and I am on the look for such info.

  10. I loved as much as you will receive carried out right here. The sketch is tasteful, your authored subject matter stylish. nonetheless, you command get got an nervousness over that you wish be delivering the following. unwell unquestionably come more formerly again as exactly the same nearly very often inside case you shield this hike.

  11. Along with almost everything that seems to be building inside this specific subject matter, all your opinions are generally rather exciting. Nevertheless, I appologize, because I can not give credence to your whole suggestion, all be it exhilarating none the less. It seems to me that your commentary are actually not entirely rationalized and in reality you are generally yourself not even completely confident of the point. In any event I did enjoy examining it.

  12. Howdy outstanding blog! Does running a blog like this take a lot of work? I’ve no knowledge of coding but I had been hoping to start my own blog in the near future. Anyway, should you have any suggestions or tips for new blog owners please share. I understand this is off topic but I just needed to ask. Appreciate it!

  13. I have been exploring for a bit for any high-quality articles or weblog posts on this sort of space . Exploring in Yahoo I eventually stumbled upon this web site. Studying this information So i am happy to convey that I have a very just right uncanny feeling I found out just what I needed. I so much certainly will make certain to don’t overlook this web site and provides it a look on a continuing basis.

  14. Wow! This can be one particular of the most helpful blogs We have ever arrive across on this subject. Actually Great. I am also an expert in this topic therefore I can understand your hard work.

  15. Hi I am so excited I found your weblog, I really found you by mistake, while I was browsing on Digg for something else, Anyways I am here now and would just like to say thanks for a incredible post and a all round thrilling blog (I also love the theme/design), I donít have time to go through it all at the minute but I have saved it and also added in your RSS feeds, so when I have time I will be back to read a lot more, Please do keep up the superb work.

  16. It is really a great and useful piece of info. I’m glad that you shared this useful info with us. Please keep us informed like this. Thanks for sharing.

  17. Hey there, You have done an excellent job. I’ll definitely digg it and personally suggest to my friends. I’m sure they’ll be benefited from this web site.

  18. I was just looking for this info for a while. After 6 hours of continuous Googleing, finally I got it in your web site. I wonder what’s the lack of Google strategy that do not rank this type of informative web sites in top of the list. Usually the top sites are full of garbage.

  19. Can I just say what a relief to locate an individual who truly knows what theyre talking about on the net. You definitely know tips on how to bring an concern to light and make it essential. Extra men and women must read this and understand this side of the story. I cant think youre not a lot more well-known due to the fact you undoubtedly have the gift.

LEAVE A REPLY