Home पड़ताल RSS के मंच पर क्यों जाएँगे ? जेएनयू के प्रो. विवेक कुमार...

RSS के मंच पर क्यों जाएँगे ? जेएनयू के प्रो. विवेक कुमार ने फ़ोटो को फ़र्ज़ी बताया !

SHARE

जेएनयू में समाजशास्त्र के प्रोफ़ेसर विवेक कुमार चर्चित अंबेडकरवादी हैं। न्यूज़ चैनलों के पर्दे पर अक्सर दलित प्रश्नों पर बेबाकी से बात रखते जाते हैं। वैसे वे बीएसपी के प्रवक्ता तो नहीं हैं, लेकिन चैनल उन्हें इसी नज़र से देखते हैं और मायावती या बीएसपी से जुड़ी बहसों में आमंत्रित किया जाता है।

ज़ाहिर है, प्रो.विवेक कुमार की छवि आरएसएस के विरोधी की रही है। लेकिन पिछले दो दिनों से सोशल मीडिया पर एक तस्वीर घूम रही है जिसका संदेश उलट है। इस तस्वीर में प्रो.विवेक कुमार आरएसएस के बैनर से सजे मंच पर भाषण देते दिख रहे हैं। पीछे हेडगेवार और गोलवलकर की तस्वीरें भी हैं।

इस तस्वीर की काफ़ी आलोचना होने लगी तो प्रो. Vivek Kumar ने फे़सबुक पर लिखा-

मेरी फोटो शेअर करने वाले ने यह क्यों नही बताया की प्रो. विवेक कुमार किस विषय पर भाषण दे रहे थे और इस कार्यक्रम का शीर्षक क्या था. ना ही सामने बैठे श्रोताओं को दिखाया ? ना ही यह बताया इसी संगठन के एक विंग ने ग्वालियर में मेरे उपर हमला करवाया था. केवल फोटो शेयर करके लोगो को गुमराह न करे…आज मुझे अहसास हो रहा है की मै बहुत बड़ी परसोनालिटी बन गया हूँ…क्योंकि बहुत बड़े बड़े लोग इस फोटो को शेयर कर रहे है. मुझे आशा है की मेरा समाज मेरी आंदोलन के प्रति प्रतिबद्धता एवं सत्य-निष्ठा को अवश्य समझेगा.- विवेक कुमार

लेकिन कुछ लोगों ने इस सफ़ाई को अधूरी मानकर फिर सवाल किया, तो विवेक कुमार ने साफ़ लिखा कि वे ऐसे किसी कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए।

मीडिया विजिल ने इस विवाद को लेकर प्रो.विवेक कुमार से बात की। उन्होंने हैरानी जताते हुए कहा कि यह फ़ोटो बदनाम करने के लिए बनाई गई है। उन्होंने सवाल किया कि आख़िर आरएसएस अपने किसी कार्यक्रम में उन्हें क्यों बुलाएगा ? उन्होंने ऐसा क्या किया है ?

प्रो.विवेक कुमार ने बताया कि यह तस्वीर कहाँ से आई, उन्होंने इसकी तलाश की। लेकिन कोई यह नहीं बता रहा है कि यह तस्वीर किसने खींची और कार्यक्रम क्या और कहाँ था ! क्या इस भाषण का कोई प्रत्यक्षदर्शी भी है ?

बहरहाल, कुछ लोगों का यह भी कहना है कि प्रो.विवेक कुमार विद्वान व्यक्ति हैं। वे किसी भी मंच पर जाकर अपनी बात रख सकते हैं और उन्हें ऐसा करना भी चाहिए।

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या प्रो.विवेक कुमार फ़ोटोशॉप गिरोह के शिकार हुए हैं। अगर हाँ, तो फिर इसका मक़सद क्या है ? इसका किसको लाभ होगा ?

 



 

 

3 COMMENTS

  1. मुझे भी लग रहा था कि ये फोटोशॉप का कमाल है। प्रो विवेक कुमार ने सामने दर्शक होने की बात भी अपनी पोस्‍ट में उठाई है, इस फोटो के बारे में उनका क्‍या जवाब है? इसके साथ की कुछ और फोटो फेसबुक पर घूम रहे हैं, जिनमें सामने दर्शक-श्रोता भी दिखाई दे रहे हैं।

  2. Question is – – HAVE you converted rss platform as anti rss platform. So many times radical left share common platform with Congress. Recently jagmohan Singh, nephew of Bhagat Singh was in barielly to unveil a statue of freedom fighter. I was there. Bjp people were 90%. Even a rajasthan minister also. When someone pleaded that IT WASIn blood of freedom fighter. JAGMOHAN, AN ATHEIST AND MARXIST HIMSELF SAID NO! THIS IS IN MIND NOT BLOOD. SO MANY OTHER PROGRESSIVE SENTENCEDS HE SPOKE.

LEAVE A REPLY