Home परिसर नजीब की मां ने भेजा TOI, Times Now, Zee और Aaj Tak...

नजीब की मां ने भेजा TOI, Times Now, Zee और Aaj Tak को कानूनी नोटिस, माफीनामे की मांग

SHARE

जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय के लापता छात्र नजीब की मांग फ़ातिमा नफ़ीस ने अपनी अधिवक्‍ता वृंदा ग्रोवर के माध्‍यम से देश के सबसे बड़े अख़बार टाइम्‍स ऑफ इंडिया, उसके टीवी चैनल टाइम्‍स नाउ, ज़ी मीडिया और दिल्‍ली आजतक को कानूनी नोटिस भेजा है। इन समाचार माध्‍यमों ने ख़बर दिखाई थी कि नजीब के संबंध इस्‍लामिक स्‍टेट से थे और वह वहां भागने की तैयारी कर रहा था। फ़ातिमा ने इन्‍हीं खबरों का खण्डन करते हुए कानूनी नोटिस भेजकर इन संस्‍थानों ने माफीनामे की मांग की है।

टाइम्‍स ऑफ इंडिया ने 21 मार्च 2017 को एक रिपोर्ट की थी जिसमें नजीब अहमद के गूगल और यूट्यूब सर्च हिस्‍ट्री के रिकॉर्ड के हवाले से कथित दावे किए गए थे कि उसका संबंध इस्‍लामिक स्‍टेट के साथ था। रिपोर्ट छपने के दिन ही दिल्‍ली पुलिस ने इन दावों की पोल खोलते हुए रिपोर्ट का खंडन कर दिया था और कहा था कि उसने नजीब की सर्च हिस्‍ट्री मंगवाने के लिए गूगल को कोई आवेदन नहीं किया।

ख़बर के प्रकाशन के अगले ही दिन नजीब की मां ने दिल्‍ली में एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस आयोजित कर के मीडिया को निशाने पर लिया था और माफी की मांग की थी। अब शुक्रवार को उन्‍होंने इस सिलसिले में चार संस्‍थानों को नोटिस भिजवा दिया है।

नोटिस में कहा गया है:
1) गलत रिपोर्ट छापने के लिए मीडिया माफी मांगे। टाइम्‍स ऑफ इंडिया खाकर पहले पन्‍ने पर सात दिन लगातार खंडन छापे।
2) स्‍टोरी को सभी माध्‍यमों से वापस लिया जाए।
3) गलत और निराधार खबर का खंडन करते हुए ये संस्‍थान लगातार सात दिन तक हर दो घंटे पर ट्वीट करें।

इसके अलावा जेण्‍नयू छात्रसंघ की पूर्व अध्‍यक्ष शहला राशिद ने टाइम्‍स ऑफ इंडिया से माफी की मांग करते हुए ऑनलाइन याचिका भी चलाई थी।

मामले पर विस्‍तृत खबरें पढ़ने के लिए इस लिंक पर जाएं।

फोटो: साभार डीएनए

 

17 COMMENTS

  1. Thank you, I’ve just been looking for information approximately this topic for a while and yours is the greatest I’ve came upon so far. But, what about the bottom line? Are you certain in regards to the supply?

  2. Thanks for each of your labor on this website. My daughter take interest in carrying out investigation and it’s easy to see why. Most people learn all relating to the lively tactic you deliver efficient information by means of this website and as well as attract participation from website visitors on that subject and our princess is now learning a lot. Enjoy the remaining portion of the new year. Your doing a splendid job.

  3. I think this is one of the most significant info for me. And i’m glad reading your article. But should remark on some general things, The site style is wonderful, the articles is really great : D. Good job, cheers

  4. I found your blog web site on google and examine a couple of of your early posts. Continue to maintain up the superb operate. I just further up your RSS feed to my MSN News Reader. In search of ahead to reading more from you in a while!…

  5. Throughout the grand design of things you get a B+ with regard to hard work. Exactly where you misplaced everybody was first on all the specifics. As as the maxim goes, the devil is in the details… And it could not be more correct here. Having said that, permit me inform you what exactly did work. The article (parts of it) is actually rather engaging which is most likely why I am taking an effort to comment. I do not make it a regular habit of doing that. 2nd, although I can easily notice the jumps in logic you make, I am not confident of just how you seem to unite your details that make the actual final result. For the moment I will yield to your point but wish in the foreseeable future you link the facts better.

  6. You really make it seem so easy with your presentation but I find this matter to be really something which I think I would never understand. It seems too complicated and extremely broad for me. I am looking forward for your next post, I will try to get the hang of it!

  7. I must voice my admiration for your generosity for those who should have guidance on the matter. Your very own commitment to getting the message along had become quite effective and have continually permitted guys and women much like me to arrive at their desired goals. Your insightful facts implies a lot to me and far more to my colleagues. Best wishes; from all of us.

  8. With havin so much content do you run into any issues of copyright violation? My blog has a lot of unique content I’ve authored myself or outsourced but it looks like a lot of it is popping it up all over the web without my agreement. Do you know any ways to help reduce content from being stolen? I’d certainly appreciate it.

  9. I just could not depart your website prior to suggesting that I extremely loved the standard information an individual supply to your visitors? Is going to be again frequently to check up on new posts

  10. द्वेष रहित मन
    मेरे प्यारे मित्रो,
    मन केहता है क्या हुआ है आज मेरे प्यारे देश को ? समज मे नई आ रहा क्या कहू, कैसे कहू ? कैसे समजाऊ मेरे देश के लोगो को ? भले बन्दूक की गोली से नही, भले तोपो से नही लेकिन रोज लड़ते है रोज जगड़ते है कही फेसबुक पे तो कही वाट्सॅप पे कही न्यूज़ पे तो कही ब्लॉग पे तो कही कॉमेंट पे, मानता हु की तकनीक के इस दौर मे और स्पीच फ्रीडम के बहाने ही सही लेकिन लड़ते और जगडते तो ऱोज है, और भले उस लड़ाई मे खून ना निकलता हो लेकिन कही ना कही मेरे जैसे इंसान को दर्द तो मिलता ही है, आज का यह दौर बहोत तकनीकी दौर है और एक्कीसवी सदी का दौर है आज दुनिया के लोग, तकनीक के इस्तिमाल मे और एजुकेशन के लेवेल मे ना जाने कहा से कहा तक सफर कर चुके है लेकिन मेरे देश के लोगो को ना जाने आज क्या हो गया है जितने आगे बढ रहे है उतने ही पीछे जा रहे है, हमारा देश दुनिया के तमाम देशो मे एक ऐसा देश है जिसमे सभी धर्मो के लोग एकसाथ रेह्ते है, बहुत करीब से देखा और जाना है मैने हिन्दू लोगो को, बहुत नजदीक से सोचा है मेरे मुल्क के मुसलमानो को, मेरे हिसाब से सब के घर मे रोटी एक जैसी ही बनती देखी है, मेरे हिसाब से सब को वही नींद आती है जो औरो को आती है, वैसा ही जीवन अनुभव करते है जैसा सबका अनुभव होता है, तो फिर धर्म के नाम पे यह धतीग क्यो ?? हर व्यक्ति मन से यही चाहता है के वो अपनी एक खुशाल जिंदगी जिये अच्छा जीवन व्यतीत करे अपने घर परिवार को आगे बढाये, फिर यह नाटक क्यो ?? हम सब जानते है की कुछ मसले ऐसे है की जिनका अपनी निजी जीवन से दूर दूर तक कोई ताल्लुक नही है फिर भी हम पूरे समाज के ठेकेदार बनके बेठे हुये है, कुछ चीजे ऐसी है जिस् से मन आहत होता है, जीवन मे इन सब चीजो का महत्व ना दे कर हमारा हमारे परिवार का आज के इस युग मे कैसे आगे बड़ाये इस विषय मे सोचना जरूरी है, हिन्दू हो या मुस्लिम हम सब को प्रेमभव से मिलकर रेहना चाहिये जिस से उन्नत समाज का गठन हो सके, दुनिया के कई देशो मे अराजकता फैली हुई है,
    और उस की असर हम पे, हमारे आपनो पे और हमारे समाज और देश के लोगो तक ना पड़े इस दिशा मे सोचना चाहिये, हमारे देश के रास्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी के विचारो से मुजे बहुत प्रेरणा मिली मेने उनके हर पुस्तक का बहुत ही गहराई से अध्यन किया, द्वेष रहित मन ही मानवता और इंसानियत के अच्छा है…

  11. Thank you for every other fantastic article. The place else may anyone get that kind of info in such an ideal means of writing? I have a presentation subsequent week, and I’m at the search for such info.

  12. Attractive section of content. I just stumbled upon your website and in accession capital to assert that I get in fact enjoyed account your blog posts. Anyway I will be subscribing to your augment and even I achievement you access consistently rapidly.

  13. We are a group of volunteers and opening a new scheme in our community. Your website provided us with valuable information to work on. You have done a formidable job and our whole community will be grateful to you.

  14. My coder is trying to persuade me to move to .net from PHP. I have always disliked the idea because of the costs. But he’s tryiong none the less. I’ve been using Movable-type on numerous websites for about a year and am worried about switching to another platform. I have heard good things about blogengine.net. Is there a way I can transfer all my wordpress posts into it? Any kind of help would be really appreciated!

LEAVE A REPLY