Home परिसर ‘बमबारी’ के साल भर बाद जेएनयू : हम ग़ुलामी की अंतिम हदों...

‘बमबारी’ के साल भर बाद जेएनयू : हम ग़ुलामी की अंतिम हदों तक लड़ेंगे !

SHARE
9 फरवरी के साल भर बाद ‘‘दरार के गढ़’’ जेएनयू का हाल-

 

ये हमीं थे जिनके लिबास पर सर-ए-रू सियाही लिखी गई …

जोड़ने की बात करने वालों पर, तोड़ने का इल्जाम नालिस करके मारने, पीटने, गिरफ़्तार करने, अपमानित करने का जो सरकारी सिलसिला देशभर में बढ़ा चला आ रहा था, उस अतीतमुखी रथ को जेएनयू के विद्यार्थियों ने जिस तरह लगाम दिया – उसका मूल्यांकन आज सालभर बाद किया जाए तो कई दिलचस्प व चुनौतीपूर्ण बातें साफ साफ देखी जा सकती हैं।

जेएनयू के लिए 9 फरवरी ज्ञान बोध शोध की एक सु-ख्यात संस्था को बंद करने की शुरुआत थी। सत्ताधारी प्रतिष्ठान की ओर से वह कोशिश आज भी जारी है। आजकल ‘शटडाउन जेएनयू’ के अगले षड्यंत्र पूरे साज़-ओ-सामान के साथ सक्रिय हैं। इनके मुक़ाबिल विद्यार्थियों का मोर्चा हस्बेमामूल आज भी डटा हुआ है।

मोदी सरकार के सत्ता में आने के साल भर बाद आरएसएस के मुखपत्र ‘पाँचजन्य’ ने नवंबर 2015 में अपनी एक कवर स्टोरी में जेएनयू को ‘‘दरार का गढ़’’ बताते हुए लिखा कि भारत की अखण्डता व देशभक्ति के लिए यह विश्वविद्यालय सबसे बड़ा खतरा है। खतरा इसलिए कि यहाँ दलितों, आदिवासियों, स्त्रियों, अल्पसंख्यकों के सवालों पर न केवल बात-बहस होती है बल्कि यहां के पाठ्यक्रम में इन तबकों की ऐतिहासिक सामाजिक दशा-दुर्दशा पर केन्द्रित कोर्स स्वीकृत हैं, जहां सेमिनार हो रहे हैं, परचे पढ़े-सुने जा रहे हैं, हर साल एमफिल पीएचडी की-कराई जा रही है। वंचितों के अधिकार की, समानता की, बराबरी की, आज़ादी की बात उठती है तो ‘एक भारत’ को चोट लगती है, ‘समर्थ भारत’ की पोल खुलती है यानी ‘अखण्ड भारत’ की खोट दिखने लगती है। भूख भय का प्रश्न उठता है, भेदभाव से पोषित सिस्टम को समूल बदलने की बात की जाती है तो हिंसा हत्या पर टिकी सत्ताकामी देशभक्ति के दो-मुँहेपन पर बाएं बाजू के गगनभेदी मुक्के पड़ते हैं। सबको रोजगार देने की मांग की जाती है तो अ-समानता के ‘श्रेष्ठ’ लाभार्थी तिलमिलाने लगते हैं। यहां तेभागा, तेलंगाना, नक्सलबाड़ी के शहीदों को रेड सैल्यूट पेश किया जाता है तो चौड़ी छाती वाले ‘महान’ भारत की आंतरिक सुरक्षा का नाड़ा ढीला हो जाता है और भगत सिंह का नाम सुनते ही ‘‘सामाजिक समरसता’’ की साम्प्रदायिक हज़मियत खजमजा उठती है। इसीलिए जेएनयू ‘‘दरार का गढ़’’ है क्योंकि यहां ‘‘राष्ट्र को तोड़ने’’ की नित नई कसमें बुनी जा रही हैं, क्योंकि यहां ‘‘भारत की बर्बादी’’ के लाल लाल सपने देखे जा रहे हैं!

तो जोड़ने की बात करने वालों को तोड़ने का मौका आखि़रकार निकल आया। यह पिछले साल नौ फरवरी की बात है। पार्लियामेंट अटैक केस में इसी दिन अफजल गुरु को फांसी पर लटका दिया गया था। अफजल को राष्ट्र की ‘‘सामूहिक आत्मा की शाँति के लिए’’ फांसी दी गई – यह सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले में लिखा है – इस फैसले को पढ़कर आप समझ सकते हैं कि उस ‘‘आतंकवादी’’ का गुनाह क्या था और हमले की, हमले में अफजल के शरीक होने की सच्चाई क्या है – कि आतंकवाद का साम्राज्यवादी बिजनेस बढ़ाने के लिए आइकॉन कैसे तैयार किये जाते हैं! अक्षरधाम पर 2001 में जो हमला हुआ था, वह सिरे से फ़र्ज़ी स्टोरी थी – जिसमें 25 लोग मारे गए थे और 77 लोग घायल हो गए थे। कहने का मतलब यह कि हमलों, विस्फोटों व फ़र्जी एनकाउंटरों के जरिये प्रभु वर्ग जो राजनीति कर रहा है, उसे आँख खोलकर देखने की ज़रूरत है। मीडिया व सिविल सोसायटी की भूमिका देखते समय यह ध्यान रहे कि सब जगह साजिश नहीं है – उधर भी कुछ ‘‘ईमानदार ईडियट’’ हैं जो अखण्डता व देशभक्ति के नाम सुनते ही बऊरा जाते हैं, ठीक वैसे ही जैसे इधर ‘‘फोड़म के बौड़म’’ हैं।

बहरहाल, इस मौक़े पर कुछ विद्यार्थियों ने कैपिटल पनिशमेंट के विरोध में साबरमती ढाबे पर एक मीटिंग आहूत की – जहां देशविरोधी नारेबाजी का आरोप मढ़कर जेएनयूएसयू प्रेसिडेंट समेत कुछ विद्यार्थियों को गिरफ़्तार कर लिया गया और फिर ‘देशभक्त’ मीडिया के सौजन्य से शहर से गांव तक देशभर में भारी तनाव खड़ा कर दिया गया। (तथाकथित नारेबाजों के खि़लाफ़ चार्जशीट दायर करने की तैयारी दिल्ली पुलिस सालभर बाद भी पूरी नहीं कर सकी है।) इसके पहले हैदराबाद में ‘‘अंबेडकर की बात’’ करने पर ‘‘जातिवादी’’ रोहित वेमुला की सांस्थानिक हत्या का संघी षड्यंत्र रचा जा चुका था। पुणे के फ़िल्म संस्थान में ‘‘खुली खिड़की’’ छाप एक्टर को निदेशक बनाए जाने के विरोध में छात्रों का आंदोलन जारी था। चेन्नई, पुडुचेरी, पटना, इलाहाबाद समेत देशभर के तमाम विश्वविद्यालयों में संघी सरकारी दखलंदाजी के खि़लाफ़ कलह कलुष बढ़ता ही जा रहा था
कि माँ भारती का होनहार स्वयंसेवक, ‘‘देशद्रोहियों’’ को कड़ा सबक़ सिखाने की ‘पवित्र’ मंशा लेकर ‘‘दरार के गढ़’’ में घुस गया। बहाना देशविरोधी नारेबाजी का था, इरादा वामपंथ पर निशानेबाजी का था। मकसद जेएनयू को नष्ट करना था। अक्टूबर में नजीब अहमद की गुमशुदगी को इसी मकसद से जोड़कर देखना चाहिए। पोस्टर लगाने से लेकर पब्लिक मीटिंग आयोजित करने तक तरह तरह की प्रशासनिक रोक-छेक, एसी मीटिंग के बाहर नारेबाजी कर रहे विद्यार्थियों का निलंबन, वार्डन से चेयरपर्सन तक की नियुक्ति में किसिम किसिम की जाँच पड़ताल ‘‘शट डाउन जेएनयू परियोजना’’ के ही प्रयास हैं। एकैडमिक काउंसिल में कोई एजेंडा रखने, उस पर बातचीत होने और फिर बहुमत से पास कर उसे लागू करने के लोकतांत्रिक उसूलों को ध्वस्त करके, मनमाने ढंग से यूजीसी नोटिफिकेशन थोपकर शोध बोध को भ्रष्ट करने, रिजर्वेशन डिप्रिवेशन की व्यवस्था को निरर्थक बनाकर वंचित समुदाय के विद्यार्थियों को जेएनयू से बाहर करने और उन्हें यहां तक पहँचने ही न देने की राजनैतिक मंशा एकदम साफ़ है।

छात्रों की गिरफ्तारी के बाद जेएनयू में जो अभूतपूर्व विस्फोट हुआ, उसके दस्तावेज़ इन्टरनेट पर छाये पड़े हैं। यूँ समझ लीजिए कि ‘‘शटडाउन जेएनयू’’ की धमकी सुनकर यहां का छुआ-छिरका दुनियाभर में जो जहां जिस हाल में था, उसने वहीं से अपना डंक सीधा कर दिया। मोदी के पतन का ऐलान तो बिहार की जनता ने किया मगर उसका निर्णायक शुभारंभ जेएनयू से ही हो गया था। आरएसएस के सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की, मोदी सरकार की ऐसी शानदार चम्पी आयोजित हुई कि जेएनयू के पुराने आंदोलनकारी तक हुलस गए। अध्यापकगण मोर्चे पर आ जुटे तो हिन्दूवादी, अस्मितवादी, अर्द्ध-सामंती राष्ट्रवाद के परखचे उड़ गए। जग्गू भाई (वीसी) नया नया आया ही था कि चैबीसों घंटे की अरारोर नारेबाजी सुनते सुनते सनकते सनकते बचा। इतना बड़ा बेमिसाल ‘‘पदेन पैदलाध्यक्ष’’ अवतारवाद के अंधकारमय मूल्यतंत्र में ही पनप सकता है। देवी देवता पूजा पाठ की मदद के बिना इतना ठोस अक्ल-बंद तैयार नहीं हो सकता ! वह सचमुच जहालत का नैनो-टेक्नोलॉजिस्ट है! अप्पा राव (एचसीयू) और गिरीश चन्द्र त्रिपाठी (बीएचयू) के साथ जग्गू को रखकर देखिए तो आरएसएस के ‘‘ज्ञान-शील-एकता’’ का ‘‘56 इंच’’ चौड़ा मैनहोल ‘मन की बात’ विसर्जित करने लग जाएगा। इस प्रजाति के दो-पाये शहर से गाँव तक सर्वत्र पाये जा रहे हैं। भारत की संप्रभुता के विनिवेश की पागुर कर रहे टीका-चुटियाधारी इन गिरहकटों का ‘उद्धार’ करने के लिए ही विष्णु ने लम्पटाधिराज हाफपैंट-कुल-भूषण श्रीश्री 1008 नरेन्द्रदास दामोदरदास मोदी की शक्ल में आधी बाँह का झुलवा पहनकर अवतार ले लिया है। सामंतवाद ने अपने लाभार्थियों के अन्तःकरण को इस क़दर सिकोड़ दिया है कि यहां
नफरत, विकृति, विभेद, विनाश व विनिवेश के मध्यकालीन घुग्घू ही तड़फड़ा फड़फड़ा सकते हैं। ये सब बेशऊर, बदतमीज, बुद्धिविरोधी होने से बढ़कर इस गलीज़ ब्राह्मणवादी व्यवस्था के संचित पाप हैं जिन्हें अगर पीट-पटककर साफ़ न किया गया तो मज़दूरों मेहनतकशों की आनेवाली नस्लें फिर से बंधुआगिरी भुगतेंगी।

जेएनयू के लिए 9 फरवरी की परिघटना इस मायने में भी महत्वपूर्ण है कि राष्ट्रवाद विषयक बहुश्रुत बहसों ने छात्र समुदाय के एक हिस्से को इस क़दर व्याकुल कर दिया कि उन्हें लाल-भगवा ‘‘एक’’ दिखने लगा। ये दलित-ओबीसी फोरम के लोग हैं। सिंगूर का ‘लाल’ और गुजरात का ‘भगवा’ इनके लेखे एक ही है। क्योंकि दोनों जगह सवर्ण नेतृत्व था। अस्मिता ही असल चीज़ है, यहां सबकुछ आइडेंटिटी से तय हो रहा है, तय होता रहा है – अस्मिता क्या है, अस्मिता की राजनीति क्या है, इस दिशा में ये लोग कुछ सोचना नहीं चाहते या इसके विस्तार में जाने को माक्र्सवादी बतंगड़ समझते हैं। ‘‘लाल’’ माने ब्राह्मण, ब्राह्मण माने दलित ओबीसी विरोधी – ‘‘लाल’’ में खुद ही कितने अंतर्विरोध हैं, इससे कोई मतलब नहीं। इनके ही नारे से अगर देखा जाए कि जब सभी विद्यार्थी हैं और एक ही संस्था में अध्ययनरत हैं तो एक को दूसरे की बनिस्बत कोई छूट या अतिरिक्त सुविधा
क्यों मिलना चाहिए? जबकि विद्यार्थी-विद्यार्थी का अंतर करते हुए ये लोग वंचित समुदाय के लिए अधिकार की, आरक्षण की, सामाजिक न्याय की मांग करते हैं, अंबेडकर की बात करते हैं। अब आप देख लीजिए कि इनका नारा, इनकी माँग के खि़लाफ़ खड़ा है लेकिन इस बात की इन्हें कोई भनक नहीं। अखण्डता / वननेस के तर्क से संचालित देशभक्त गण, आप जानते हैं कि दमन की हिंसा और प्रतिरोध की हिंसा में कोई अंतर नहीं करते। उनके लिए हिंसा-हिंसा एक है। इस ‘‘एक’’ की आड़ में वे प्रतिरोध की हिंसा को लांछित करते हैं और इस प्रकार दमन की हिंसा को वैध व जायज़ ठहराकर ‘‘एक भारत’’ को सही ठहराते हैं। इसी तर्ज़ पर दलित ओबीसी फोरम के लोग अखण्डता / वननेस की उसी ब्राह्मणवादी चेतना से संचालित हैं जिसके विरोध का झंडा लहराये फिर रहे हैं। ब्राह्मणवाद के कैरियर की विडंबना देखिए कि वह विपक्ष की राजनीति की जड़ खोदने में जुटा है और (अनजाने ही) अपने दुश्मन के हक़ में काम कर रहा है।

लंबे समय तक सामंतवाद का शिकार रहे समाज के बच्चों की यह भयानक दशा दर्शनीय है। और यह केवल बच्चों की बात नहीं है, जेएनयू के बाहर भी ऐसे लोग पाए जा रहे हैं – इनमें कई एक तो विद्वान हैं – जिन्हें 2017 में भी यह नहीं पता कि वे कौन हैं, किसका विरोध कर रहे हैं, किसके साथ हैं, उनकी लड़ाई किससे है! इसे आप ‘‘बाई डिवाइन या बाई डिफाल्ट’’ भी कह सकते हैं और इसके लिए इन्हें बेकसूर भी मान सकते हैं पर अपनी अस्मिता तक का सच देख सकने में असमर्थ रहकर, ब्राह्मण-ब्राह्मण की रटंत जोतकर ये ‘‘दृष्टि-बंधित’’ लोग अपनी ही माँग के खि़लाफ़, अपने ही समुदाय के खि़लाफ़ जो काम कर रहे हैं वह सचमुच ऐतिहासिक है। सामाजिक न्याय के खि़लाफ़ तो यह है ही। भेदभाव के सिस्टम को मजबूत करना तो यह है ही। अ-समानता के लाभार्थियों का घर भरना तो यह है ही। ऐतिहासिक इसलिए कि अपने ही नाश में ‘विकास’ करने की जो बेताबी है,
नौकरी पाकर पूँजीपतियों का घर भरने की जो बहादुरी है – इसी बहादुरी में एक तरफ़ लम्पटाधिराज का बहुमत बन रहा है, विपक्ष की राजनीति बिखर रही है। ये दोनों प्रक्रिया एक साथ चल रही है। अस्मिता की, अधिकार की, सामाजिक न्याय की राजनीति का यह प्रतिक्रियावादी चाल देख लीजिए। अंबेडकरवाद के नाम पर चल रही दलित विरोधी राजनीति देख लीजिए। इनके लिए अस्मिता ‘‘जाति जोड़ो’’ का औज़ार है – जो अंबेडकर के ‘‘जाति तोड़ो’’ के उलट तो है ही, साथ ही यह ‘‘बाँटो और राज करो’’ की राजनीति का शिकार है। लेकिन इन्हें अपने कहे-किये का कोई होश नहीं। यही ‘‘फोड़म चेतना’’ है। लाल-भगवा ‘‘एक’’ कहने में जो मज़ा आता है, उसका सोता कहां है, देख लीजिए। इनसे तमीज़ की अपेक्षा करेंगे तो ये आपको ही बद्तमीज़ ठहरा देंगे।

सत्य और शराफ़त की हर कोशिश को, हर अँखुवाहट को कुचल डालना ही मानो ‘‘फोड़म के बौड़म’ का कार्यभार है – लंबे समय तक सामंती शासन के पीड़ित रहे समाज के लोग ‘आज़ाद’ होकर ‘‘विकास’’ के जिस रास्ते पर चल रहे हैं उसकी ये ‘‘उपलब्धियां’’ देखकर आप चिंता में पड़ जाएंगे। एक तरफ ठेकेदारी के दैत्य माँ भारती की कसमें उठाकर भारत को फिर से विश्वगुरु बनाने के लिए बमक रहे हैं, दूसरी ओर ब्राह्मणवाद की गाद से लदे भस्मासुर अगली धक्का मुक्की के लिए खुसुर-फुसुर कर रहे हैं – इस उबलते हाल में कश्मीर से नार्थ ईस्ट से छत्तीसगढ़ तक जो लोग बेकसूरों पर ढाये जा रहे जुल्म ज़ोर के खि़लाफ़ मुट्ठी तानकर ऊँचा बोलेंगे, उनके दागदार लिबास इतिहास की अरगनी पर एकदिन फैलाये जाएंगे –

ये हमीं थे जिनके लिबास पर सर-ए-रू सियाही लिखी गई
यही दाग थे जो सजा के हम सर-ए-बज़्म-ए-यार चले गए। (फ़ैज़)

नौ फरवरी के रास्ते जेएनयू को नष्ट करने में नह-दाँत देकर जुटी संघी सरकारी साजिशों के खि़लाफ़ समावेशी जेएनयू के लिए, बेहतरी बराबरी के लिए, वास्तविक संरचनात्मक बदलाव के लिए लड़ रहे साथियों से हम कहना चाहते हैं कि आपकी हिम्मत बढ़े, आपकी ताक़त बढ़े, आपका हौसला बढ़े – ‘‘यह लड़ाई चली जाएगी अंत के अंत तक / हम गुलामी की अंतिम हदों तक लड़ेंगे’’ (विद्रोही)।

 

बृजेश यादव
(लेखक जेएनयू में शोध कर रहे हैं)

99 COMMENTS

  1. An attention-grabbing discussion is value comment. I believe that you must write more on this subject, it might not be a taboo subject however generally people are not enough to speak on such topics. To the next. Cheers

  2. Have you ever considered writing an ebook or guest authoring on other blogs?
    I have a blog based on the same ideas you discuss and would
    love to have you share some stories/information. I know my viewers would enjoy
    your work. If you’re even remotely interested, feel
    free to send me an e-mail.

  3. Someone essentially assist to make severely articles I might state.
    This is the very first time I frequented your web page
    and up to now? I amazed with the research you made to make this actual
    post amazing. Wonderful job!

  4. Hello, i think that i saw you visited my blog so i came to go back the want?.I’m trying to
    in finding issues to improve my site!I assume its good enough to
    make use of a few of your ideas!!

  5. Hola! I’ve been reading your site for some time now and finally got the courage to go ahead and give you a shout out from New Caney Texas! Just wanted to tell you keep up the fantastic job!

  6. I’m really enjoying the design and layout of your website.

    It’s a very easy on the eyes which makes it much more pleasant for me to come here and visit more often. Did you hire out a designer to create your
    theme? Outstanding work!

  7. The other day, while I was at work, my cousin stole my iPad and tested to see if it can survive a thirty foot drop, just so she can be a youtube sensation. My iPad is now broken and she has 83 views. I know this is totally off topic but I had to share it with someone!

  8. This web site is known as a walk-by way of for the entire information you wished about this and didn’t know who to ask. Glimpse here, and you’ll undoubtedly uncover it.

  9. When I initially commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox and now each time a comment is added I get three emails with the same comment. Is there any way you can remove me from that service? Appreciate it!

  10. Hi there, just became aware of your blog through Google, and found that it is truly informative. I am going to watch out for brussels. I will appreciate if you continue this in future. Numerous people will be benefited from your writing. Cheers!

  11. obviously like your website however you need to take a look at the spelling on several of your posts. Several of them are rife with spelling problems and I find it very bothersome to inform the reality on the other hand I will definitely come back again.

  12. Link exchange is nothing else however it is just placing the other person’s webpage link on your page at appropriate place and
    other person will also do same in support of you.

  13. Thanks for every other informative website. Where else may
    I get that type of information written in such
    a perfect means? I’ve a mission that I’m just now running on, and
    I have been on the glance out for such info.

  14. certainly like your web-site but you need to take a look at the spelling on several of your posts.
    Many of them are rife with spelling issues and I in finding it very troublesome to inform
    the truth nevertheless I will definitely come again again.

  15. Your style is really unique compared to other folks I’ve read stuff from.
    Many thanks for posting when you’ve got the opportunity, Guess I will just book mark this page.

  16. hello!,I like your writing very a lot! share we keep up a correspondence extra approximately your article on AOL? I require an expert in this house to resolve my problem. Maybe that is you! Having a look ahead to peer you.

  17. I was just searching for this information for some time. After six hours of continuous Googleing, at last I got it in your website. I wonder what is the lack of Google strategy that do not rank this type of informative web sites in top of the list. Generally the top sites are full of garbage.

  18. Today, I went to the beach with my kids.
    I found a sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She put the shell to her ear and screamed.
    There was a hermit crab inside and it pinched her ear.

    She never wants to go back! LoL I know this is totally off topic but I had to tell someone!

  19. Thank you for the auspicious writeup. It in fact was a amusement account it. Look advanced to more added agreeable from you! By the way, how could we communicate?

  20. Excellent weblog here! Additionally your site quite a bit up fast!
    What web host are you the use of? Can I am getting your
    affiliate hyperlink in your host? I wish my web site loaded up as fast
    as yours lol

  21. This design is incredible! You definitely know how
    to keep a reader entertained. Between your wit and your videos, I was almost moved to start
    my own blog (well, almost…HaHa!) Fantastic job.
    I really enjoyed what you had to say, and more than that, how
    you presented it. Too cool!

  22. This design is spectacular! You certainly know
    how to keep a reader entertained. Between your wit and your videos, I was almost moved to start my own blog (well, almost…HaHa!) Wonderful job.
    I really loved what you had to say, and more than that,
    how you presented it. Too cool!

  23. My developer is trying to persuade me to move to .net from
    PHP. I have always disliked the idea because of the costs.
    But he’s tryiong none the less. I’ve been using WordPress on various websites for about a
    year and am worried about switching to another platform.

    I have heard very good things about blogengine.net.

    Is there a way I can transfer all my wordpress posts
    into it? Any help would be really appreciated!

  24. My wife and i got very joyous when Peter could round up his research by way of the ideas he had through your weblog. It is now and again perplexing just to find yourself offering information and facts which usually many others could have been trying to sell. We really consider we need the blog owner to be grateful to for this. All of the illustrations you’ve made, the easy site navigation, the relationships you will help engender – it is mostly superb, and it’s helping our son in addition to us consider that this subject is entertaining, which is certainly unbelievably fundamental. Many thanks for all!

  25. Hmm is anyone else having problems with the pictures on this blog loading? I’m trying to determine if its a problem on my end or if it’s the blog. Any feedback would be greatly appreciated.

  26. Its like you read my mind! You seem to know a lot about this, like you wrote the book in it or something. I think that you can do with some pics to drive the message home a bit, but instead of that, this is great blog. A fantastic read. I’ll certainly be back.

  27. Hey there! I could have sworn I’ve been to this
    site before but after checking through some of the post I realized it’s new to me.
    Anyways, I’m definitely delighted I found it and I’ll be bookmarking and checking back often!

  28. You can definitely see your expertise in the work you write. The world hopes for more passionate writers like you who are not afraid to say how they believe. Always go after your heart.

  29. I’m impressed, I need to say. Really not often do I encounter a weblog that’s each educative and entertaining, and let me inform you, you’ve gotten hit the nail on the head. Your thought is excellent; the issue is something that not sufficient individuals are talking intelligently about. I’m very completely satisfied that I stumbled throughout this in my search for something referring to this.

  30. I do not even know the way I stopped up right here, but I assumed this submit used to be great. I don’t realize who you might be but certainly you’re going to a well-known blogger when you are not already 😉 Cheers!

  31. Oh my goodness! Amazing article dude! Many thanks, However
    I am having troubles with your RSS. I don’t know why I am
    unable to join it. Is there anyone else having
    similar RSS issues? Anybody who knows the answer will
    you kindly respond? Thanks!!

  32. I just could not leave your web site prior to
    suggesting that I extremely enjoyed the usual
    information a person supply on your visitors?
    Is going to be again incessantly in order to check up on new posts

  33. Hello, I think your blog might be having
    browser compatibility issues. When I look at your blog in Ie,
    it looks fine but when opening in Internet Explorer, it has some overlapping.
    I just wanted to give you a quick heads up! Other then that,
    terrific blog!

  34. I am typically to blogging and i really admire your content. The article has actually peaks my interest. I’m going to bookmark your website and hold checking for new information.

  35. This is the appropriate weblog for any one who desires to find out about this subject. You comprehend so significantly its nearly difficult to argue with you (not that I essentially would want…HaHa). You certainly put a brand new spin on a topic thats been written about for years. Excellent stuff, just good!

  36. Hey there! This post couldn’t be written any better!

    Reading this post reminds me of my good old room mate!
    He always kept talking about this. I will forward this write-up to him.
    Fairly certain he will have a good read. Thank you for sharing!

  37. I have to convey my gratitude for your generosity in support of those individuals that should have help on this particular niche. Your very own dedication to passing the message throughout ended up being surprisingly beneficial and have always made others like me to reach their targets. Your amazing invaluable suggestions indicates so much to me and much more to my office workers. With thanks; from all of us.

  38. Simply wish to say your article is as astounding. The clarity in your post is just spectacular and i can assume you are an expert on this subject. Fine with your permission allow me to grab your RSS feed to keep updated with forthcoming post. Thanks a million and please keep up the enjoyable work.

  39. Wonderful beat ! I would like to apprentice while you amend your website, how could i subscribe for a blog web site? The account helped me a acceptable deal. I had been a little bit acquainted of this your broadcast offered bright clear idea

  40. Hey this is somewhat of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors
    or if you have to manually code with HTML. I’m starting a blog soon but
    have no coding expertise so I wanted to get advice from someone with experience.
    Any help would be enormously appreciated!

  41. When I originally commented I clicked the “Notify me when new comments are added” checkbox
    and now each time a comment is added I get several e-mails with the same comment.

    Is there any way you can remove people from that service?
    Bless you!

  42. Youre so cool! I dont suppose Ive learn something like this before. So nice to seek out anyone with some authentic ideas on this subject. realy thank you for beginning this up. this website is one thing that is needed on the web, someone with a bit originality. helpful job for bringing something new to the internet!

  43. This is very interesting, You are a very skilled blogger.
    I’ve joined your rss feed and look forward to seeking more of
    your wonderful post. Also, I’ve shared your web site in my social networks!

  44. Its like you read my mind! You seem to know a lot about this, like you wrote the book in it or something. I think that you could do with some pics to drive the message home a bit, but instead of that, this is excellent blog. A great read. I’ll definitely be back.

  45. I’ll right away clutch your rss as I can not to find your email subscription link or e-newsletter service. Do you have any? Please let me recognise in order that I may subscribe. Thanks.

  46. Hey, you used to write magnificent, but the last several posts have been kinda boring… I miss your super writings. Past several posts are just a bit out of track! come on!

  47. Hi, Neat post. There is an issue with your website in internet explorer, might test this… IE nonetheless is the marketplace leader and a good component of folks will pass over your excellent writing because of this problem.

  48. Heya i’m for the first time here. I came across this board and I find It truly useful & it helped me out a lot. I hope to give something back and help others like you helped me.

  49. I was very pleased to find this web-site.I wanted to thanks in your time for this glorious learn!! I undoubtedly having fun with every little little bit of it and I’ve you bookmarked to take a look at new stuff you blog post.

  50. Hey outstanding blog! Does running a blog like this take a great deal of work? I have absolutely no knowledge of coding however I was hoping to start my own blog in the near future. Anyways, if you have any ideas or tips for new blog owners please share. I understand this is off subject however I simply wanted to ask. Thanks!

LEAVE A REPLY