5 COMMENTS

  1. Bahut khoob ankit ! Aap patrakarita ki,balki poore samaj ki reed banenge. Par saathi banaye. Sayad bolne ki bajay karke dikhaya aapne. Sochiye agar what’s app HAMARA nahi hai to ham naya kya Kate ? Experiment

  2. इस पूरे मामले में अंकित कुमार सिंह के धैर्य को सराहा जाना चाहिए। मेरा व्यक्तिगत मानना है कि इसके लिए अंकित को अवार्ड भी दिया जाना चाहिए। इस तरह की तहकीकात के लिए वो बधाई के पात्र तो हैं ही, साथ ही उन्होंने आईआईएमसी को अपने लोगो (चिह्न) रजिस्टर्ड न होने की स्थिति में रजिस्ट्रेशन कराने की भी नसीहत दी है।
    इसके अलावा आईआईएमसी प्रशासन को विवेकानंद इंटरनेशनल फ़ाउंडेशन के ऊपर सख़्त कार्रवाई करनी चाहिए, जिसने अपने कार्यक्रम में आईआईएमसी प्रशासन से पूछे बग़ैर उसका लोगो प्रयोग में लाया। चुंकि आईआईएमसी के डीजी के. जी. सुरेश उस पूरे कार्यक्रम में मौजूद थे, तो उन्हें संस्थान की गुडविल ज़िम्मेदारियों का ध्यान रखते हुए स्पष्टीकरण देना चाहिए। कहीं ये उनके व्यक्तिगत अधिकार के तहत तो प्रयोग नहीं किया।

  3. गलत खबर दे रहे हो, शर्म करो
    डिग्री लौटाया गया था, फाड़ने की बात कहां से आई
    पत्रकारिता के नाम दलाली बंद करो

  4. Hi! I’m at work browsing your blog from my new iphone! Just wanted to say I love reading through your blog and look forward to all your posts! Keep up the excellent work!

LEAVE A REPLY