Home परिसर दिलीप मंडल, ओबीसी फ़ोरम और सोशल जस्टिस !

दिलीप मंडल, ओबीसी फ़ोरम और सोशल जस्टिस !

SHARE

(आजकल अस्मितावादी विमर्श के प्रमुख चेहरे और इंडिया टुडे के संपादक समेत देश के कई पत्रकारिता संस्थानों में अहम पदों पर रह चुके वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल और वामपंथी कार्यकर्ताओं के बीच बहस छिड़ी हुई है। छत्तीसगढ़ में मानवाधिकार कार्यकर्ता बेला भाटिया को धमकाने पर दिलीप मंडल की फ़ेसबुक टिप्पणी के बाद यह बहस तीखी हो उठी है। जेएनयू के शोधछात्र और आइसा से जुड़े बृजेश यादव ने दिलीप मंडल की तमाम वामविरोधी टिप्पणियों को आधार बनाते हुए एक लेख लिखा है। यह बहस महत्वपूर्ण है और इसे साफ़ नीयत से आगे बढ़ाया जाए तो तमाम ज़रूरी प्रश्नों के जवाब मिल सकते हैं। हमें ख़ुशी होगी अगर दिलीप मंडल बृजेश यादव की स्थापनाओें का लिखित प्रतिवाद करें-संपादक)

जेएनयू में ओबीसी फोरम के अभिभावक दिलीप मंडल ने बेला भाटिया पर बस्तर में किये गए हमले के बारे में एक बयान जारी करके एकसाथ कई बातों को साफ़ कर दिया है। दिलीप जी का कहना है कि लक्ष्मणपुर बाथे समेत कई मामलों में सवर्ण ही हमलावर थे, बेला भी उन्हीं के बीच की हैं, तो अब जब बेला पर अटैक हुआ है तो सवर्ण उनका बचाव करें, ओबीसी को पहले अपने बचाव के बारे में सोचना चाहिए। उनका कहना है कि सवर्ण बेला भाटिया पर हुए हमले के बारे में किसी ओबीसी को चिंतित होने की कोई आवश्यकता नहीं है।

‘‘विकास विरोधी’’ ‘‘माओवाद समर्थक’’ बेला को छत्तीसगढ़ पुलिस बस्तर से क्यों खदेड़ना चाहती है, छत्तीसगढ़ में ऐसा क्या चल रहा है कि बेला भाटिया अपना चमकता कैरियर छोड़कर आदिवासियों के बीच रह रही है – इस दिशा में देखते तो बेला समेत कई कार्यकर्ताओं को खदेड़ने, पत्रकारों को जेल में बंद करने के उद्देश्य पर कुछ रौशनी पड़ सकती थी लेकिन दिलीप जी यह सब नहीं सोचते या समझना नहीं चाहते! ‘क्या हो रहा है’ से अधिक उनकी रुचि इसमें है कि ‘किसके साथ हो रहा है’। प्रोसेस नहीं, पर्सन प्रमुख है। (यह अवतारवादी चिंतन का केन्द्रबिन्दु है जहां से ब्राह्मणवाद को रसद मिलती है।)

आप जानते हैं कि खदेड़ने, उजाड़ने, क़ैद करने, मारने, बलात्कार करने की सिलसिला बस्तर समेत पूरे देशभर में चल रहा है। डीका कुमारी के साथ हुए बलात्कार और बर्बर हत्या के बारे में किसी ओबीसी को क्या इसलिए नहीं बोलना चाहिए क्योंकि वह दलित थी! आतंकवाद के नाम पर प्रतिदिन मारे जा रहे कश्मीर के निर्दोष नौजवानों के बारे में किसी ओबीसी को क्या इसलिए मुँह नहीं खोलना चाहिए क्योंकि वे मुसलमान हैं? राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड से नॉर्थ ईस्ट तक आदिवासी युवक युवतियों के जान माल के साथ आए दिन हो रही बदसलूकी बेहूदगी हिंसा हत्या के विरोध में आदिवासियों के सिवा किसी को बोलने का अधिकार क्यों मिलना चाहिए? किसानों की आत्महत्या के बारे में मजदूरों को क्यों खड़ा होना चाहिए या मारुति व प्रिकोल के मजदूरों को फर्जी मुकदमों में फंसाये जाने के खिलाफ़ छात्रों को प्रदर्शन क्यों करना चाहिए?

सवाल यह है कि दिलीप मंडल जिस सोशल जस्टिस की बात करते हैं वह इतना विभाजित (सेलेक्टिव) क्यों है? ओबीसी को सबसे पहले और सबसे ऊपर रखने से ब्राह्मण ही नहीं, दलित या आदिवासी भी ‘‘अदर’’ हो जाता है। इस प्रकार जब सभी अस्मिताएं एक दूसरे की ‘‘अदर’’ हैं तो इस पूंजीवादी तंत्र में ‘‘तरक्की’’ करने के लिए आपस में ही कंपटीशन व संघर्ष हो के रहेगा! फिर आरक्षण चाहिए। बात यह है कि वंचित समुदाय का विचारक इतनी मोटी बात क्यों नहीं समझ पा रहा है कि सेलेक्टिव सोशल जस्टिस की मांग, ‘बांटो और राज करो’ की होलिस्टिक राजनीति की शिकार हो जाना है। ओबीसी या किसी भी अस्मिता को आगे करके की जा रही यह मांग दरअसल सामाजिक न्याय विरोधी मांग है, लोकतंत्र के खि़लाफ़ तो वह है ही! हद यह है कि यह मांग खुद उस समुदाय के खि़लाफ़ है – ‘‘आगे बढ़ने’’ के ख्वाहिशमंद कुछ लोगों का इससे चाहे जो भी भला हो ले!

दिलीप मंडल की संकट अब आप देख लीजिए। वे ओबीसी के लिए आरक्षण के रास्ते सामाजिक न्याय मांग कर रहे हैं, बेला भाटिया को बस्तर से खदेड़ने को वे कोई मुद्दा नहीं मानते – यहां तक ठीक है – बात यह है कि बेला के संघर्ष और उन्हें बस्तर से निकालने के उद्देश्यों की अनदेखी करके दिलीप मंडल आदिवासियों की जल जंगल जमीन की लड़ाई के साथ दगा ही नहीं कर रहे हैं बल्कि पुलिसिया उत्पीड़न और सरकारी जुल्म की ख़ामोश हिमायत कर रहे हैं?

इस बात को साफ साफ देख लीजिए कि केवल अपनी आइडेंटिटी के लिए सामाजिक न्याय की मांग के चक्कर में उलझना, रूलिंग क्लास की हिंसा हत्या लूट झूठ की होलिस्टिक परियोजना का हिस्सा बन जाना है, मगर इसकी कोई भनक दिलीप जी को नहीं है! एक आइडेटिंटी के लिए न्याय की मांग करनेवाला, दूसरी आइडेंटिटी के साथ हो रहे अन्याय के खिलाफ चल रहे संघर्ष के सिपाही को घसीटे जाते देखकर अगर मुँह फेर ले रहा है तो वह जिस ‘‘व्यक्तिवादी’’ न्याय की मांग कर रहा है – वह मुद्दे के साथ, संघर्ष के साथ, जनता के साथ ही नहीं, सामाजिक न्याय के सवाल के साथ और लोकतंत्र के साथ धोखाधड़ी है। सवाल यह है कि दिलीप मंडल एक साथ कितने मोर्चों पर ‘‘कामयाब’’ होना चाहते हैं?

अस्ल में खिलाड़ी जब यह भूल जाता है कि वह खेल का हिस्सा है तो उस सूरमा खिलौने की जो गति होती है वही इस समय दिलीप मंडल की हो रही है। अस्मिता की राजनीति करने वाले सभी लोगों का यही हाल है। वे बहुत फुर्ती दिखाने के चक्कर में अपनी ही बिल में घुसे जा रहे हैं और इस ‘‘मंगलमय यात्रा’’ में व्यवधान खड़ा करने वालों को ऊँची आवाज़ में फटकारते जा रहे हैं।

दिलीप मंडल के ‘ओबीसी एक्टिविस्ट’ का सच यह है कि वह इस सामंती-पूँजीवादी व्यवस्था द्वारा पैदा किया हुआ नियो लिबरल भस्मासुर है। मानसिक रूप से अंधा और वैचारिक रूप से बहरा रूलिंग क्लास का यह तरक्कीपसंद ‘‘खिलौना’’ सामाजिक न्याय और लोकतंत्र के खिलाफ तो है ही, वह अपने ओबीसी समुदाय के खिलाफ होने से पहले खुद अपने खिलाफ है। अफ़सोस के साथ कहना पड़ रहा है कि यह भस्मासुरी चेतना वंचित समुदाय के ‘‘आगे बढ़ चुके’’ विद्वानों के ठाकुरद्वारे तक घंटी हिला रही है। कविताओं, कहानियों से लेकर विमर्श तक इस भस्मासुर की पहुँच बढ़ती जा रही है। हश्र यह कि वे अपने वास्तविक अनुभव का अर्थ अनर्थ भी नहीं बूझ पा रहे।

दिलीप जी की तर्कपद्धति का एक सिरा यह है कि ओबीसी कहीं भी हो वह अपना है, बाकी सब ग़ैर हैं। बेला भाटिया अपना चमकता हुआ कैरियर छोड़ आदिवासियों के बीच काम कर रही हैं – इस बात का कोई महत्व या मतलब इसलिए नहीं है क्योंकि वे ओबीसी नहीं है! नरेन्द्र मोदी की सरकार नफ़रत की राजनीति करके कॉरपोरेट का बिजनेस बढ़ा रही है मगर बीए एमए की फर्जी डिग्री धारक, सामूहिक हत्याकांड का अपराधी, भारत की संप्रभुता का ‘संस्कारवान’ दलाल अपना ठहरा, क्योंकि मोदी ओबीसी है।

आईडेंटिटी पॉलिटिक्स का यह उलझाव देखिए और यह समझने की कोशिश कीजिए कि सामाजिक न्याय के स्वयंभू अलम्बरदार दिलीप मंडल क्या कर रहे हैं और किस तरह के समीकरण सेट करने की फिराक में कहां उलझ रहे हैं? यहां से आप ओबीसी फोड़म की राजनीति को भी बेहतर ढंग से समझ सकते हैं।

2.
जेएनयू में ओबीसी फोरम की ओर से चल रही भूख हड़ताल गोकि समाप्त हो गई है लेकिन ताज़ा घटनाक्रम यह है कि एबीवीपी, ओबीसी फोरम के समर्थन में सामने आ गया है। दिलीप मंडल की मोदी सरकार में कहां तक रसाई है, यह तो हम नहीं जानते लेकिन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के साथ ओबीसी फोरम के तालमेल में कुछ तो ‘‘अपना’’ है!! जिसकी निरंतरता आप दिलीप मंडल के बयान में भी देख सकते हैं।

आप देखें कि गुलामों दासों के वंशजों की एक समस्या यह है कि वे स्वतंत्र होकर भी जो कुछ करते हैं वह उनके खि़लाफ़ होने से पहले उनके शत्रुओं के हक़ में होती है। यह समूचे वंचित समुदाय की कठिनाई है। पेंच यह बन रहा है कि उनकी पहली घोषित शत्रुता उसी से ठन रही है जो उनका वास्तविक मित्र है या हो सकता है। मिसाल के तौर पर, जेएनयू में जिस आइसा ने 2008 से 2010 तक सुप्रीम कोर्ट तक लड़कर ओबीसी रिजर्वेशन को लागू करवाया, उसी आइसा को ओबीसी फोड़म के पराक्रमी इन दिनों सामाजिक न्याय विरोधी और अपना दुश्मन नंबर एक बता रहे हैं।

आरक्षण विरोधी एबीवीपी से इनका कोई झगड़ा नहीं है। उस समय आइसा की टांग खींचने में जुटे एसएफआई व एआईएसएफ से वाम होने की वजह से जो भी दिक्कत हो पर आरक्षण के मसले पर इनका मुख्य आत्मघाती निशाना आइसा की ओर है।

आप समझिए कि जेएनयू से जिस लेफ़्ट को उखाड़ने में कांग्रेस भाजपा की सरकारें लिंगदोह लागू करने समेत सारा तिकड़म करके नाकाम रहीं, ट्रिपल बी जैसे वाइस चांसलर का कैरियर ख़राब हो गया, उस लेफ्ट को आजकल ये लोग नह-दांत देकर खुरचने में तल्लीन हैं। बहस का, विचार का वह डेमोक्रेटिक स्पेस, वह मंच ही ख़तम कर देना चाहते हैं ये लोग – जिस स्पेस की बदौलत ये वहां दाखि़ला पा सके। इस ‘बहादुरी’ को देखिए। यह वंचित की समस्या का शायद सबसे विकराल रूप है। मोदी सरकार से, राइट विंग से नहीं, इन तथाकथित अंबेडकरवादियों और सामाजिक न्यायवादियों की पहली लड़ाई वाम से है। आरक्षण के कंधे पर सवार सामाजिक न्याय की राजनीति, वंचित समुदाय के अंदर जिस तबके का विकास कर रही है, उसके प्रतिनिधि हैं ये लोग।

संघी सामंती शक्तियों के खि़लाफ़ देशभर में लेफ़्ट-अंबेडकराइट व्यापक एकता बनाये जाने की ऐतिहासिक ज़रूरत हो तो हो, इनकी बला से। ये लोग अपना आत्मघाती कार्यभार जोते हुए हैं। वॉयवा का नंबर घटे, फैकल्टी की नियुक्तियों में आरक्षण लागू किया जाए – इस लड़ाई में इनकी तोपों का निशाना जेएनयू प्रशासन और मानव संसाधन मंत्रालय से पहले लेफ़्ट की ओर और लेफ़्ट में भी आइसा की ओर है। गोया आइसा को नेस्तनाबूद किये बगै़र यह संघर्ष आगे बढ़ ही नहीं सकता। इनके संघर्ष से जेएनयू प्रशासन को जो शह मिल रही है, आइसा पर निशानाबाजी करने से गरीब पिछड़े विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा के लिए उपलब्ध इस डेमोक्रेटिक स्पेस को जो क्षति पहुँच रही है – इसकी कोई चिंता, कोई भनक इन फाइटर्स को दूर दूर तक क्यों नहीं है – इसे आप देख लीजिए। इनके परचे देख लीजिए, इनके बयान सुन लीजिए।

फिर भी कोई कसर बच रही हो तो इनके प्रेरणास्रोत दिलीप मंडल की बेशर्मी देख लीजिए। उन्हें विनिवेश के नाम पर ठेकेदारी का विकास नहीं दिख गया, आतंकवाद के नाम पर बेकसूर नौजवानों का एनकाउंटर नहीं दिख रहा, जन-धन की चौतरफा लूट नहीं दिख रही, किसी असली निशानेबाज की तरह उन्हें केवल बेला भाटिया की जाति दिख रही है। बयान में लक्ष्मणपुर बाथे के साथ बेला को जिस तरह जोड़ा है दिलीप मंडल ने – वह दृष्टिहीनता से बढ़कर दिमाग़ी दिवालियापन का सबूत है।

ओबीसी फोड़म के पहरुओं के विकृत बोध की हद यह है कि ये कुछ पढ़ या सुन लें तो भी गेंद से बल्ले की मुलाक़ात नहीं हो पाती। ये नहीं जानते कि जो ये बोल रहे हैं वह कोई और भी बोला है या वह ‘ज्ञान’ डायरेक्ट इनके भेजे में अवतरित हो गया है। किसी डेमोक्रेटिक स्पेस का दुरुपयोग किस हद तक किया जा सकता है – यह देखना सुनना हो तो इनकी जद्द बद्द सुनिये और इनकी बेशऊर अक़्ल-बंद हरकतें देखिये। इन्हें नहीं मालूम कि जिस जेएनयू में ये लोग आये हैं उसकी ईंट दर ईंट सिरजने के लिए पीढ़ी दर पीढ़ी कितनी जद्दोजहद घटी है। इन्हें बता भी दिया जाए तो इनके पल्ले कुछ नहीं पड़ सकता। यह स्थिति है। ग़नीमत सिर्फ़ यह है कि जेएनयू का वृहत्तर दलित ओबीसी आदिवासी स्त्री मॉइनारिटी छात्र समुदाय इनकी आत्मघाती थियेटरबाजी के व्यक्तिवादी कुंठित इरादों को भलीभाँति समझता है। समता बराबरी के योद्धाओं को सामंती पूँजीवाद के दलाल, अंधकार अज्ञान के कैरियर इन मिर्ची-सेठों का भी निस्तारण करना होगा।

स्पष्ट है कि समस्या पर्सन में नहीं, प्रोसेस में है, सामंती खंडहरों पर विकासमान इस पूँजीवादी तंत्र के क्रिया व्यापार में है – जो अपनी हर गतिविधि में अंधकार अज्ञान के कैरियर पैदा करके भेदभाव के एक से एक कलात्मक चित्र उरेह रहा है। निश्चय ही ब्राह्मण इस व्यवस्था का सबसे बड़ा लाभार्थी है लेकिन हर बात में ब्राह्मणों की तादाद गिनने से कोई फ़ायदा नहीं, क्योंकि मसअला उँच-नीच की विकास प्रक्रिया के विरोध का है, इक्वलिटी की दिशा में संघर्ष को तेज़ करने का है। जो लोग आरक्षण के सहारे इस बाभन-बनिया तंत्र में नौकरी खट रहे हैं, वे अपने अपने समुदाय के ‘श्रेष्ठ’ बन गए हैं। कुछ नौकरी-ग्रस्त दलित ओबीसी आदिवासी तो महाबाभनों से भी निकृष्ट ‘सुपीरियर’ हैं। दिलीप मंडल हर मौक़े पर पुराने बाभन की गणना पेश करके सामाजिक न्याय के नाम पर नया बाभन पैदा करने की माँग करते रह रहे हैं – यह चिंतन पद्धति खुद ब्राह्मणवादी है, पर्सन केन्द्रित है, पदार्थवाद विरोधी है, अवतारवादी है। आरक्षण और नौकरी के रास्ते ब्राह्मणवाद विरोधी संघर्ष को आगे बढ़ाने के ख्वाब जितनी जल्दी ठीक कर लिये जाएंगे, वंचितों के हक़ के हक़ में यह उतना ही अच्छा होगा। मज़दूरों का राज क़ायम किया जाना है तो मध्यवर्गीय चेतना के नौकरों के भरोसे यह लड़ाई नहीं जीती जा सकती – कान से मोबाइल की कनपेली निकालकर यह बात साफ साफ सुन लीजिए।

.बृजेश यादव

94 COMMENTS

  1. It’s actually a great and useful piece of information.
    I’m satisfied that you simply shared this useful info with us.
    Please keep us up to date like this. Thank you for sharing.

  2. Howdy I am so thrilled I found your webpage, I really found you by error, while I was searching on Yahoo for something else, Nonetheless I am here now and would just like to say thanks a lot for a marvelous
    post and a all round enjoyable blog (I also love the theme/design),
    I don’t have time to look over it all at the minute but I have book-marked
    it and also added in your RSS feeds, so when I have time I will be back to read a great deal more, Please do keep up the fantastic b.

  3. We are a bunch of volunteers and starting a new scheme in our community.
    Your site provided us with useful info to work on. You have performed a formidable process and our whole neighborhood shall be thankful to you.

  4. Aw, this was an extremely good post. Spending some time and
    actual effort to create a good article… but what can I say… I
    hesitate a whole lot and don’t manage to get nearly
    anything done.

  5. Hello there! This post couldn’t be written any better!
    Reading through this post reminds me of my previous room mate!
    He always kept chatting about this. I will forward this post
    to him. Pretty sure he will have a good read.
    Many thanks for sharing!

  6. Attractive section of content. I just stumbled upon your site and in accession capital to assert that I get actually enjoyed account your blog posts.
    Anyway I’ll be subscribing to your feeds and even I achievement you access consistently quickly.

  7. I wish to point out my affection for your kind-heartedness for women who should have help with this important matter. Your special dedication to getting the message up and down appeared to be extraordinarily interesting and have continually allowed many people like me to realize their objectives. Your amazing warm and helpful useful information means a great deal a person like me and even further to my office workers. With thanks; from each one of us.

  8. An attention-grabbing dialogue is price comment. I think that you need to write extra on this topic, it won’t be a taboo topic however typically people are not enough to talk on such topics. To the next. Cheers

  9. Needed to compose you that tiny remark so as to thank you so much once again for those superb pointers you’ve shared in this case. It was certainly unbelievably open-handed of you to make unreservedly just what most of us would’ve distributed as an ebook in making some money for their own end, most notably given that you might have done it in case you wanted. These concepts likewise served like the easy way to realize that other people online have the same passion just as my personal own to know a little more pertaining to this condition. I think there are thousands of more enjoyable instances ahead for individuals that look into your blog post.

  10. Good post. I be taught something more challenging on completely different blogs everyday. It’s going to all the time be stimulating to read content material from different writers and practice a little something from their store. I抎 prefer to make use of some with the content on my weblog whether you don抰 mind. Natually I抣l give you a hyperlink in your internet blog. Thanks for sharing.

  11. I must show my thanks to the writer for rescuing me from this situation. Right after scouting throughout the the web and meeting tips that were not beneficial, I believed my entire life was done. Existing without the presence of strategies to the issues you’ve fixed by means of your article is a critical case, and those that might have adversely damaged my career if I had not noticed your blog post. Your actual skills and kindness in maneuvering a lot of things was helpful. I don’t know what I would’ve done if I had not discovered such a step like this. It’s possible to at this time look ahead to my future. Thanks a lot very much for the specialized and results-oriented guide. I will not hesitate to suggest your web page to anybody who needs recommendations about this topic.

  12. I precisely wanted to say thanks once again. I am not sure what I could possibly have undertaken without those tricks provided by you on such subject matter. Certainly was a daunting case in my view, nevertheless coming across a new specialised style you solved it forced me to cry with joy. I’m thankful for the service and even hope that you are aware of an amazing job you have been getting into teaching the rest all through your web site. Most likely you have never come across any of us.

  13. After research a number of of the weblog posts on your website now, and I truly like your means of blogging. I bookmarked it to my bookmark website record and can be checking again soon. Pls take a look at my site as nicely and let me know what you think.

  14. I am commenting to let you be aware of what a impressive experience my friend’s child developed browsing your web site. She figured out a wide variety of details, which included how it is like to have a great teaching mood to let other people without hassle learn specific tricky subject areas. You actually exceeded visitors’ expected results. Thanks for churning out such insightful, trusted, educational as well as unique guidance on this topic to Ethel.

  15. The following time I read a blog, I hope that it doesnt disappoint me as much as this one. I mean, I do know it was my choice to learn, but I actually thought youd have something attention-grabbing to say. All I hear is a bunch of whining about something that you might repair when you werent too busy in search of attention.

  16. Aw, this was a very nice post. In thought I would like to put in writing like this additionally ?taking time and actual effort to make an excellent article?however what can I say?I procrastinate alot and certainly not seem to get something done.

  17. Thanks so much for giving everyone such a wonderful opportunity to read in detail from this blog. It is usually so beneficial and as well , full of a lot of fun for me personally and my office acquaintances to visit your web site at least 3 times weekly to study the new stuff you will have. Of course, I am always impressed with the astounding principles served by you. Selected 1 ideas in this posting are undoubtedly the finest I’ve ever had.

  18. That is the appropriate weblog for anyone who desires to search out out about this topic. You notice a lot its almost exhausting to argue with you (not that I actually would need匟aHa). You positively put a brand new spin on a subject thats been written about for years. Great stuff, just nice!

  19. Nice post. I learn one thing more challenging on different blogs everyday. It should always be stimulating to read content from different writers and follow a little bit one thing from their store. I抎 want to use some with the content on my blog whether you don抰 mind. Natually I抣l give you a link on your web blog. Thanks for sharing.

  20. That is the appropriate blog for anybody who needs to seek out out about this topic. You notice a lot its nearly arduous to argue with you (not that I truly would need匟aHa). You undoubtedly put a new spin on a topic thats been written about for years. Great stuff, simply nice!

  21. I precisely wished to thank you very much again. I am not sure what I might have handled in the absence of those recommendations documented by you relating to such concern. It became a very traumatic issue in my position, nevertheless taking a look at the very specialized mode you handled it forced me to leap for delight. I will be thankful for this advice and in addition hope you find out what a powerful job you were accomplishing teaching some other people using your web page. I am certain you have never got to know any of us.

  22. Oh my goodness! a tremendous article dude. Thank you However I am experiencing challenge with ur rss . Don抰 know why Unable to subscribe to it. Is there anybody getting an identical rss problem? Anyone who knows kindly respond. Thnkx

  23. Can I simply say what a aid to find someone who truly knows what theyre talking about on the internet. You undoubtedly know how you can bring an issue to mild and make it important. Extra individuals need to learn this and understand this facet of the story. I cant consider youre no more common since you positively have the gift.

  24. Nice post. I learn one thing more challenging on different blogs everyday. It can always be stimulating to learn content material from different writers and apply a bit something from their store. I抎 desire to use some with the content material on my weblog whether you don抰 mind. Natually I抣l give you a hyperlink on your internet blog. Thanks for sharing.

  25. An attention-grabbing discussion is worth comment. I believe that you should write extra on this subject, it might not be a taboo subject however typically persons are not enough to talk on such topics. To the next. Cheers

  26. I was more than happy to seek out this web-site.I wanted to thanks in your time for this glorious read!! I undoubtedly enjoying each little little bit of it and I’ve you bookmarked to take a look at new stuff you weblog post.

  27. Aw, this was a very nice post. In idea I would like to put in writing like this moreover ?taking time and actual effort to make an excellent article?but what can I say?I procrastinate alot and under no circumstances appear to get something done.

  28. I together with my guys were going through the great strategies located on your site and suddenly I got a terrible suspicion I never expressed respect to the blog owner for those techniques. Those ladies ended up certainly stimulated to read them and have now without a doubt been taking pleasure in them. Thanks for getting very thoughtful as well as for deciding on variety of important ideas most people are really desperate to learn about. Our sincere regret for not expressing appreciation to you sooner.

  29. Can I simply say what a relief to seek out somebody who actually knows what theyre speaking about on the internet. You definitely know how to convey a problem to gentle and make it important. More people need to learn this and perceive this side of the story. I cant believe youre no more well-liked since you positively have the gift.

  30. I precisely had to say thanks again. I am not sure the things I might have tried in the absence of the entire methods discussed by you regarding my area of interest. It actually was a daunting crisis in my position, but witnessing a new professional strategy you dealt with the issue made me to cry with delight. I am just grateful for this support and have high hopes you are aware of a powerful job that you’re carrying out instructing many others using a site. I’m certain you’ve never encountered any of us.

  31. I like the helpful info you provide in your articles. I will bookmark your blog and check again here frequently. I’m quite certain I will learn a lot of new stuff right here! Good luck for the next!

  32. Hey there! This is my 1st comment here so I just wanted to give a quick shout out and tell you I genuinely enjoy reading your posts. Can you suggest any other blogs/websites/forums that cover the same topics? Thanks a lot!

  33. Great website you have here but I was wondering if you knew of any user discussion forums that cover the same topics talked about in this article? I’d really like to be a part of community where I can get feedback from other knowledgeable individuals that share the same interest. If you have any suggestions, please let me know. Appreciate it!

  34. I do agree with all of the ideas you’ve presented in your post. They’re really convincing and will definitely work. Still, the posts are too short for beginners. Could you please extend them a little from next time? Thanks for the post.

  35. I was recommended this website by my cousin. I’m not sure whether this post is written by him as nobody else know such detailed about my trouble. You’re incredible! Thanks!

  36. There are actually undoubtedly a good deal of particulars like that to take into consideration. That’s a fantastic point to bring up. I offer the thoughts above as general inspiration but clearly you’ll find questions like the 1 you bring up where probably the most crucial thing will be operating in honest very good faith. I don?t know if very best practices have emerged about items like that, but I am sure that your job is clearly identified as a fair game. Both boys and girls really feel the impact of just a moment’s pleasure, for the rest of their lives.

  37. I simply want to tell you that I am just beginner to blogs and truly loved you’re web site. Probably I’m going to bookmark your website . You surely come with exceptional stories. With thanks for sharing your website page.

  38. That is the right blog for anyone who needs to find out about this topic. You understand a lot its nearly arduous to argue with you (not that I really would want…HaHa). You positively put a brand new spin on a subject thats been written about for years. Nice stuff, simply nice!

  39. Note that you’ve linked them while in the page. (iv) Contain your contact info. (v) Add A statement that you simply (the “whining party”) possess a “good faith opinion that the utilization of the substance in the method complained of is not authorized by the copyright owner, its broker, or even the law.” (Obtained verbatim from 512(d)(3)) (vi) Include a record the data in the notification is precise, and under penalty of perjury, that you will be approved to do something on behalf of who owns a unique right that is allegedly infringed. We could really utilize your support! Hair-care? No HOWTO resolve frizzy hair Rubik’s Dice? No how to take apart the Rubix Cube (3×3) Managing jock itch? No Just how to treat jock itch Married Life? No Just how to trust your man Please inform US whatever you learn about Inform us all you realize here. Methods Please be as comprehensive as you are able to within your reason. We will take care of it. Don’t say: Consume more fats. Attempt olive oil, butter, avocado, and mayonnaise. Guidelines You are entitled to copyright rights as presented within the Trademark Act. You’ll need not incorporate legal info for the notice to work.
    help me to write my essay

  40. This web internet site is definitely a walk-through for all the info you wanted about this and didn’t know who to ask. Glimpse here, and you’ll surely discover it.

  41. I discovered your weblog web site on google and check some of one’s early posts. Continue to keep up the incredibly great operate. I just further up your RSS feed to my MSN News Reader. Searching for forward to reading far more from you later on!

  42. Do you mind if I quote a couple of your posts as long as I provide credit and sources back to your site? My website is in the very same area of interest as yours and my users would definitely benefit from some of the information you present here. Please let me know if this alright with you. Appreciate it!

  43. Hiya, I am really glad I have found this info. Nowadays bloggers publish only about gossips and internet and this is really frustrating. A good web site with exciting content, that is what I need. Thank you for keeping this web site, I will be visiting it. Do you do newsletters? Can’t find it.

  44. Oh my goodness! an wonderful article dude. Thank you On the other hand I am experiencing concern with ur rss . Do not know why Unable to subscribe to it. Is there any person acquiring identical rss dilemma? Everyone who knows kindly respond.

  45. An impressive share, I just given this onto a colleague who was doing somewhat evaluation on this. And he actually bought me breakfast as a result of I found it for him.. smile. So let me reword that: Thnx for the deal with! However yeah Thnkx for spending the time to debate this, I feel strongly about it and love studying more on this topic. If possible, as you turn into expertise, would you mind updating your weblog with more particulars? It is extremely helpful for me. Large thumb up for this blog submit!

  46. Simply wish to say your article is as surprising. The clarity in your post is just spectacular and i could assume you’re an expert on this subject. Well with your permission let me to grab your RSS feed to keep up to date with forthcoming post. Thanks a million and please carry on the enjoyable work.

  47. Hi, Neat post. There’s a problem with your site in internet explorer, would test this… IE still is the market leader and a good portion of people will miss your wonderful writing because of this problem.

  48. Do you have a spam issue on this blog; I also am a blogger, and I was curious about your situation; we have developed some nice practices and we are looking to exchange solutions with others, be sure to shoot me an email if interested.

  49. Hello, i think that i saw you visited my web site thus i came to “return the favor”.I am attempting to find things to enhance my web site!I suppose its ok to use a few of your ideas!!

  50. I have learn several just right stuff here. Certainly price bookmarking for revisiting. I surprise how much attempt you place to make any such wonderful informative website.

  51. It’s actually a nice and helpful piece of info. I’m glad that you shared this useful information with us. Please keep us informed like this. Thanks for sharing.

  52. Hello my friend! I want to say that this article is awesome, nice written and include almost all important infos. I would like to see more posts like this.

  53. I like what you guys are up too. Such clever work and reporting! Keep up the superb works guys I have incorporated you guys to my blogroll. I think it’ll improve the value of my web site 🙂

LEAVE A REPLY