Thursday, July 27, 2017

टीवी

लगता है कि पत्रकारिता का अपराधी मैं ही हूँ-रवीश कुमार

पत्रकारिता का संकट पत्रकारों को खा रहा है रवीश कुमार  "पत्रकारिता में रिपोर्टिंग का सिस्टम समाप्त हो चुका है। स्टार एंकर अब किसी राष्ट्रीय सवाल को लेकर बैठा होता है। उसकी मेज़ पर अब छोटी-छोटी तक़लीफों के लिए जगह नहीं बची है। रोज़ कोई न कोई गोदी मीडिया के संकट पर लिख रहा है। दस साल से तो मैं ही लिख...

अख़बार

आयोजन

परिसर

पड़ताल

मोर्चा

न्यू मीडिया

दस्तावेज़

वीडियो